दिल्ली में आगामी 4 से 15 नवंबर तक ऑड-ईवन स्कीम एक बार फिर से लागू होने जा रही है। सरकार ने यह कदम वाहनों से होने वाले वायु प्रदूषण को सीमित करने के उद्देश्‍य से उठाया है। सभी महिला यात्री जो ऑड-ईवन स्कीम के दौरान देर रात / ऑड समय के दौरान शहर में आवागमन के बारे में चिंतित हैं, यहां कुछ ऐसा है जो आपको उस तनाव से छुटकारा दिलाता है। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस बात की घोषणा की है कि राष्ट्रीय राजधानी में 4 नवम्बर से 14 नवम्बर तक 'ऑड-ईवन स्‍कीम' के तीसरे स्‍टेप में महिलाओं को इससे छूट दी जाएगी। जी हां ऑड-ईवन में महिलाओं को छूट होगी, लेकिन यह किस शर्त पर होगी यह भी केजरीवाल ने बताया। उनका कहना है कि जिस गाड़ी को अकेली महिला चला रही होगी उसे छूट होगी। इसके अलावा अगर गाड़ी में सभी सवारी महिलाएं होंगी या फिर महिला के साथ 12 साल तक का बच्चा होगा तो उसे छूट होगी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इससे पहले, सभी सीएनजी वाहनों को भी बख्शा गया था, लेकिन इस बार के आसपास, कोई छूट नहीं दी जाएगी।

इसे जरूर पढ़ें: सुबह की सैर के फायदे नहीं ये नुकसान जानिए, जो आपको हैरान कर देंगे

odd even rule in delhi success or failure

सीएम का ऑड-ईवन को लेकर ऐलान

  • ऑड-ईवन लागू होने में अब बेहद कम समय बचा है। इ‍सलिए सीएम अरविंद केजरीवाल इससे जुड़े कुछ बड़े ऐलान किए। 
  • पहला जैसा कि हम आपको बता चुके है कि ऑड-ईवन स्‍कीम में महिलाओं को छूट दी जाएगी। 
  • सीएनजी वाहनों को इस बार छूट नहीं दी जाएगी। पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसे बस, टैक्सी, ऑटो पर यह लागू नहीं होगा।
  • फिलहाल टू-वीलर पर यह स्कीम लागू होगी या नहीं इसपर अभी फैसला नहीं हुआ है। 
  • सीएम केजरीवाल ने फाइन से जुड़ा भी कोई ऐलान नहीं किया है।
 
odd even formula in delhi

जी हां इस योजना के तहत टू-वीलर को राहत देने के संबंध में कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है, क्योंकि सड़कों पर टू-वीलर की संख्या बहुत ज्‍यादा है और सभी यात्रियों को समायोजित करने के लिए सार्वजनिक परिवहन में पर्याप्त जगह नहीं है। साथ ही, इन 12 दिनों के दौरान 2,000 निजी बसें भी चलेंगी, जिनमें ट्रेवल को आसान बनाने के लिए 50 रुपये प्रति किमी की दर से टैरिफ होगा।

इसे जरूर पढ़ें: प्रदूषण के कहर से बचने के लिए रोजाना खाएं सिर्फ 1 गुड़ का टुकड़ा, वजन भी होगा तेजी से कम

इसके अलावा, उबर ने योजना की अवधि में इसकी कीमत नियमित किराया से 1.5 गुना से अधिक नहीं होने पर सहमति व्यक्त की है। अंत में, योजना के सभी उल्लंघनकर्ताओं से 20 हजार रुपये का जुर्माना वसूला जाएगा, जो पहले 2 हजार रुपये तक था!