• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

इस एक दिन भूलकर भी न करें चंद्रमा के दर्शन, लग सकता है कलंक

पौराणिक कथाओं के अनुसार साल में एक ऐसी तिथि होती है जिसमें चंद्र दर्शन शुभ नहीं माना जाता है। आइए जानें इससे जुड़ी प्रथा के बारे में।   
author-profile
Published -29 Aug 2022, 18:36 ISTUpdated -29 Aug 2022, 18:54 IST
Next
Article
why you should not see the moon on ganesh chaturthi

हमारे हिंदू धर्म शास्त्रों में कई ऐसी प्रथाएं चली आ रही हैं जिनका पता लगा पाना मुश्किल ही है। ऐसी ही एक प्रथा है साल के कुछ विशेष दिनों में चन्द्रमा के दर्शन न करना। ऐसा माना जाता है कि एक विशेष तिथि के दिन यदि कोई व्यक्ति भूल से भी चन्द्रमा के दर्शन करता है तो उसे जीवन में कई नुकसानों का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल यह तिथि है गणेश चतुर्थी और इस दिन चंद्र दर्शन की मनाही कुछ विशेष कारणों से होती है।

गणेश चतुर्थी भारत में सबसे बड़े त्योहारों में से एक है जिसे बहुत पूरी भक्ति, उत्साह और तपस्या के साथ मनाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन, भगवान शिव ने अपने पुत्र भगवान गणेश को सबसे शक्तिशाली और श्रेष्ठ देवताओं में से एक के रूप में स्वीकार किया था।

यही नहीं उन्हें प्रथम पूजनीय होने का आशीर्वाद भी दिया था। लेकिन ऐसा क्या कारण है जिसकी वजह से गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा की छाया भी पड़ना व्यक्ति के लिए शुभ नहीं माना जाता है। आइए ज्योतिर्विद पं रमेश भोजराज द्विवेदी जी से जानें कि इस प्रथा से जुड़ी कुछ पौराणिक कथाओं के बारे में। 

गणेश चतुर्थी में चंद्रमा के दर्शन की मनाही 

moon darshan is prohibited

ऐसी मान्यता है कि एक बार चंद्र देव जिन्हें अपनी खूबसूरती और तेज पर गुमान था, उन्होंने एक व्यंग्यात्मक टिप्पणी करके भगवान गणेश का मजाक उड़ाने की कोशिश की। चंद्रमा ने भगवान गणेश के रूप को देखकर उनके रूप पर टिप्पणी करते हुए कहा कि गणेश जी का बड़ा पेट और हाथी का सिर है और वो दिखने में कितने भिन्न लग रहे हैं। ऐसा कहते हुए चंद्रमा ने गणपति का उपहास बनाया और इससे गणेश जी रुष्ट हो गए। भगवान गणेश ने चंद्रमा को उनकी गलती का एहसास कराने के लिए विनम्रता पूर्वक दंड देने का निर्णय किया।  

इसे जरूर पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2022: क्या आप जानते हैं कि विघ्नहर्ता गणपति जी की पत्नी , बेटे और पोतों बारे में ?

Recommended Video


गणपति ने दिया चंद्रमा को अभिशाप 

भगवान गणेश ने चंद्रमा को यह कहते हुए अभिशाप दिया कि कोई भी गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा की पूजा नहीं करेगा और साथ ही चंद्र दर्शन भी नहीं करेगा। गणपति ने अभिशाप देते हुए यह कहा कि जो भी चतुर्थी तिथि के दिन चंद्रमा के दर्शन करेगा उसे जीवन में कलंक का सामना करना पड़ेगा और उस पर कई झूठे आक्षेप लग सकते हैं। यदि कोई भी इस दिन चंद्रमा को देखेगा तो उसे व्यर्थ ही परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। गणपति का यह अभिशाप सुनने के बाद चंद्रमा टूट गए और उन्हें अपने अहंकार का एहसास हो गया। गणपति के अभिशाप से चंद्रमा का घमंड चूर हो गया। 

चंद्रमा ने गणपति से मांगी माफ़ी 

why seeing moon is prohibited on ganesh chaturthi

गणपति के अभिशाप से चंद्रमा दुखी हो गए और शिव जी की तपस्या करने लगे। चन्द्रमा की तपस्या से शिव जी प्रसन्न हुए और उन्होंने गणपति से चंद्रमा को श्राप मुक्त करने का आग्रह किया। अपने पिता के आग्रह को गणपति टाल न सके और उन्होंने चंद्रमा को श्राप मुक्त करने का उपाय बताया। गणपति ने चन्द्रमा से कहा कि चूंकि उन्होंने भाद्रपद मास की गणेश चतुर्थी के दिन गणपति का अपमान किया था इसलिए उस दिन को छोड़कर बाकी दिनों में चंद्र दर्शन शुभ माना जाएगा। ऐसी मान्यता है कि यदि आप भूलवश इस दिन चंद्रमा के दर्शन कर लें तो गणेश जी के किसी मंत्र का जाप करें और दान पुण्य करें। 

इसे जरूर पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2022: कब मनाया जाएगा गणपति बप्पा के आगमन का उत्सव, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व

इस खास वजह से ऐसी मान्यता है कि गणेश चतुर्थी के दिन चन्द्रमा के दर्शन करने से भगवान गणपति नाराज हो जाते हैं और ऐसा करने से आपको जीवन में बड़े नुकसानों का सामना भी करना पड़ सकता है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik.com

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।