Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    क्यों होता है आसमान का रंग नीला? जानें ज्योतिष शास्त्र का तर्क

    आज हम आपको इस बारे में बताने जा रहे हैं  कि आसमान का रंग नीला ही क्यों होता है। 
    author-profile
    • Gaveshna Sharma
    • Editorial
    Updated at - 2022-12-29,14:20 IST
    Next
    Article
    sky blue colour

    Why The Color Of Sky Is Blue: हिन्दू धर्म में पंच तत्वों का जिक्र मिलता है। शास्त्रों में पंच तत्वों का अत्यधिक महत्व बताया गया है। इन्हीं पंच तत्वों में से एक है आकाश। आकाश न्स इरफ ब्रह्मा को दर्शाता है बल्कि ईश्वरीय तत्व के रूप में पूजा भी जाता है। 

    आकाश के रंग की बात करें तो इसका रंग नीला होता है। अब सवाल ये उठता है कि आखिर आसमान का रंग नीला ही क्यों होता है हरा, गुलाबी या कोई और रंग क्यों नहीं। हालांकि कई बार मौसम के हिसाब से आकाश का रंग भी परिवर्तित होता रहता है।

    मगर मुख्यरूप से आसमान की बात जब भी आती है उसकी छवि हमेशा नीले रंग में ही दिखाई पड़ती है। हमारे ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ राधाकांत वत्स ने हमें आसमान के नीले होने की बात समझाई। तो चलिए जानते हैं इसके पीछे का दिलचस्प रहस्य।     

    • धर्म शास्त्रों में नीला रंग बल, पौरुष और वीरता का प्रतीक माना जाता है। हम जिन भगवान को पूजते हैं उनमें भी यह गुण बताए गए हैं। इसी कारण से भगवान भी नीले वर्ण में अवतरित हुए हैं। 
    • सरल शब्दों में समझाएं तो मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम (कैसे हुई श्री राम की मृत्यु) का जन्म त्रेतायुग में हुआ था। वाल्मीकि रामायण एवं रामचरितमानस के अनुसार श्री राम नीले वर्ण में जन्मे थे। यानी कि श्री राम का शारीरिक रंग नीला था। 
    blue sky
    • वहीं, द्वापरयुग में जन्में श्री कृष्ण (श्री कृष्ण ने क्यों खाए थे केले के छिलके) का रूप भी नीला ही था। श्री कृष्ण को उनके नीले रंग के कारण ही श्याम नाम से पुकारा जाता है। श्री कृष्ण का नाम श्याम पड़ने पर नीले रंग को श्याम वर्ण के रूप में भी जाना जाता है।
    sky is blue
    • वहीं, भगवान शिव का कंठ भी नीला है और भगवान शिव के 11 रुद्र अवतारों में जहां कुछ का वर्ण काला है तो कुछ का नीला भी है। यहां तक कि मां दुर्गा के कुछ स्वरूपों का वर्ण भी नीला है। 
    • वहीं, हनुमान जी का एक स्वरूप भी नीले रंग में ही पूजा जाता है। इसके अलावा, गणेश जी ने भी नीले शारीरिक रंग के साथ दुष्टों के संहार हेतु जन्म लिया है। ऐसे में आसमान की तुलना देवी-देवताओं के इन्हीं रूप से की जाती है।   

    तो ये था आकाश यानी आसमान के नीले होने का कारण। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। आपका इस बारे में क्या ख्याल है? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

     Image Credit: Freepik, Shutterstock 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।