Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Shani Dev: शनिदेव को आखिर क्यों चढ़ाया जाता है सरसों का तेल?

    शनि देव को तेल चढ़ाए जाने की परंपरा है। आइये जानते हैं कि शनि देव को तेल क्यों चढ़ाया जाता है। 
    author-profile
    • Gaveshna Sharma
    • Editorial
    Updated at - 2022-12-09,16:51 IST
    Next
    Article
    shani dev mnatra

    Shani Dev: कर्मफलदाता शनि देव को नवग्रहों में विशेष स्थान प्राप्त है। शनि देव की एक नजर व्यक्ति को राजा से रंक और रंक से राजा बना सकती है। इसी कारण से हिन्दू धर्म में शनि पूजन को महत्वपूर्ण बताया गया है। 

    यूं तो शनि देव को प्रसन्न करने के कई उपाय हैं लेकिन उन्हें शीघ्र प्रसन्न करने के लिए भक्त उनपर सरसों का तेल चढ़ाते हैं। हमारे ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ राधाकांत वत्स द्वार दी गई जानकारी के आधार पर आज हम आपको शनि देव को तेल चढ़ाए जाने के पीछे की कथा बताने जा रहे हैं। 

    • पौराणिक कथा के अनुसार, बाल हनुमान अपनी लीलाओं से सबका मन मोह रहे थे और अपनी अठखेलियों के कारण समस्त संसार में विख्यात भी हो रहे थे। बाल अवस्था में हनुमान जी के बल को देख सभी देवी-देवता आश्चर्य में थे। 
    • वहीं, दूसरी ओर शनि देव (शनि देव को प्रसन्न करने के उपाय) को अपनी अपार शक्तियों के कारण अहंकार हो गया था जिसके चलते वो खुद को सर्व शक्तिशाली समझने लगे थे। एक दिन जब देव सभा में शनि देव ने प्रवेश किया तब सभी के मुख पर एक ही नाम था- हनुमान। 
    shani dev oil
    • हनुमान जी की इतनी प्रशंसा सुन शनि देव क्रोधित हो गए और अपनी शक्तियों के अहंकार में उन्होंने हनुमान जी को युद्ध की चुनौती दे डाली। बाल हनुमान राम नाम की धुन में व्यस्त थे लेकिन शनि देव युद्ध की जिद पर अटके हुए थे।
    • जब बार शनि देव द्वारा हनुमान जी (हनुमान जी के 12 नाम) की राम धुनी में खलल पड़ने लगा तब हनुमान जी ने शनि देव को सबक सिखाने के लिए युद्ध की चुनौती को स्वीकार किया और शनि देव के साथ युद्ध करने लगे। 
    • हनुमान जी और शनिदेव के बीच भयंकर युद्ध हुआ। हनुमान जी के बल के आगे शनि देव की सारी शक्ति क्षीण पड़ गयी। शनि देव बुरी तरह घायल हो गए और तब उन्हें इस बात का एहसास हुआ कि हनुमान जी रुद्रांश हैं।  
    shani dev sarson ka tel
    • शनि देव ने हनुमान जी से युद्ध रोकने की विनती की और हनुमान जी भी सहर्ष रुक गए। हनुमान जी ने जब शनि देव को देखा तो वह पीड़ा से करहा रहे थे। तब हनुमान जी ने शनिदेव को सरसों का तेल औषधि के रूप में लगाया।
    • सरसों के तेल से शनि देव का दर्द खत्म हो गया और शनि देव ने हनुमान जी को आशीर्वाद दिया कि जो भी कोई व्यक्ति शनि देव को पूर्ण श्रद्धा से मंगलवार और शनिवार के दिन तेल चढ़ाएगा उन्हें हनुमान जी की कृपा और साथ प्राप्त होंगे।  

    तो ये था शनि देव को सरसों का तेल चढ़ाने के पीछे की रोचक कथा। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। आपका इस बारे में क्या ख्याल है? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। 

    ImageCredit: Twitter, Shutterstock

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।