• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

छोटे बच्चों के हाथों -पैरों में चांदी के कड़े और पायल पहनाना क्यों माना जाता है जरूरी, जानें

आपने अक्सर छोटे बच्चों को हाथों -पैरों में चांदी के कड़े और पायल पहने हुए देखा होगा। आइए जानें इसके पीछे के कारणों के बारे में।   
author-profile
Published -01 Aug 2022, 19:17 ISTUpdated -01 Aug 2022, 19:38 IST
Next
Article
silver anklets benefits for kids

अक्सर हम देखते हैं कि बच्चे के जन्म के तुरंत बाद ही लोग बच्चे के लिए कई तरह के गहने लाते हैं और उन्हें हाथों और पैरों में पहनाते हैं। हमारे देश में बच्चों के लिए धार्मिक या सांस्कृतिक रूप से जुड़े गहने पहनना काफी आम है और इसका महत्व भी बहुत ज्यादा बताया जाता है।

भारत में, शिशुओं को हाथ में पहने जाने वाले कंगन, पैरों में पहनने वाली पायल, गले की चेन जैसे कई गहने पहनने की प्रथा लंबे समय से चली आ रही है। मुख्य रूप से बच्चों को हाथों में चांदी के कड़े और पैरों में पायल पहनाने की प्रथा काफी लंबे समय से चली आ रही है।

ज्योतिष के अनुसार ऐसा माना जाता है कि बच्चों के लिए चांदी पहनना कई तरह से फायदेमंद होता है। आइए नारद संचार के ज्योतिष अनिल जैन जी से जानें कि बच्चों को चांदी के कड़े और पैरों में पायल पहनाने के पीछे क्या कारण हैं और इसके फायदे क्या हैं। 

चांदी शरीर में ऊर्जा के स्तर को बनाए रखती है 

silver kade and payal benefits for children

ज्योतिष की मानें तो चांदी एक चंद्रमा की धातु है और चंद्रमा को समृद्धि और मन का प्रतीक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि चांदी पहनने (पैरों में सोना क्यों नहीं पहना जाता है) से सेहत पर भी अच्छा प्रभाव होता है। चांदी एक प्रतिक्रियाशील धातु है और किसी के शरीर से निकलने वाली ऊर्जा को वापस शरीर में लौट आती है।

यह भी कहा जा सकता है कि हमारे शरीर से जो ऊर्जा निकलती है उसे बाहर जाने से रोकती है। ज्यादातर ऐसा माना जाता है कि हमारे शरीर में सबसे ज्यादा ऊर्जा हाथों और पैरों से ही बाहर निकलती है। इसलिए यदि बच्चे को हाथ -पैर में चांदी पहनाई जाती है तो उसके शरीर से ऊर्जा बाहर नहीं निकल पाती है और बच्चे खुद को ज्यादा ऊर्जावान महसूस करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: वास्तु एक्सपर्ट से जानें घर में चांदी के बर्तन और डेकोरेटिव सामान रखना क्यों होता है शुभ

Recommended Video


चांदी एक कीटाणुनाशक धातु है 

विज्ञान की मानें तो चांदी एक कीटाणुनाशक धातु है इसलिए यदि हम सेहत को ध्यान में रखते हुए बात करें तो चांदी बच्चों में बीमारियों से लड़ने की क्षमता का विकास करती है और बच्चे ज्यादा सेहतमंद बने रहते हैं। चांदी बच्चों के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास करती है और बच्चों को कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद मिलती है। 

हाथों पैरों को कमजोर होने से बचाते हैं चांदी के कड़े और पायल 

silver payal benefits

चांदी के कड़े और पायल पहनने की वजह से जब बच्चों के शरीर से ज्यादा ऊर्जा का ह्रास नहीं होता है तो उनके हाथ और पैर ज्यादा मजबूत हो जाते हैं और बच्चे ज्यादा एक्टिव रहते हैं। 

चांदी पहनने से बच्चे का मन प्रभावित होता है  

चांदी को मन का कारक भी माना जाता है इसलिए यदि छोटे बच्चे चांदी के पायल और कड़े पहनते हैं तो उनके मन में भी सकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं और उनका दिमाग तेज होने में मदद मिलती है। इससे बच्चा मानसिक रूप से बहुत अलर्ट रहता है। चांदी शरीर की पॉजिटिव एनर्जी में भी सहायक होती है और बच्चे ऊर्जावान महसूस करते हैं। ये बच्चों के मानसिक विकास में सहायता करती है। 

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: कौन सी धातु के बर्तन में करें भोजन, पंडित जी से जानें लाभ और हानि

चांदी को चन्द्रमा की धातु माना जाता है इसलिए छोटे बच्चों को इसके कड़े और पायल पहनने की सलाह दी जाती है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।