रंगों के त्यौहार होली के साथ हम हर साल एक नई याद बनाते हैं। बचपन में होली खेलने का मज़ा अलग था और टीनऐज में अलग... कुछ ऐसे ही होली की यादों को ताज़ा किया इस होली पर रेलसे होने वाली फ़िल्म ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ की एक्ट्रेस राधिका मदान ने।

बता दें कि राधिका दिल्ली से हैं और आपने इससे पहले राधिका को फ़िल्म ‘पटाखा’ और टीवी शो ‘मेरी आशिक़ी तुमसे ही’ में देखा होगा। हमसे ख़ास बातचीत के दौरान राधिका ने हमें अपनी दिल्ली वाली होली की कई बाते बताई। उन्होंने बताया कि कैसे वो बिना भांग के पूरे होली के दिन नशे में रहीं, आइए जानते हैं क्या है ये किस्सा जिसे याद करके वो और उनके दोस्त आज भी हंसते हैं।

ऐसे होती थी दिल्ली में होली की तैयारी

radhika madan holi story 

राधिका ने कहा कि मैंने हर साल होली खेली है। मुझे याद है कि हम सुबह उठते ही वॉटर बलून भरते थे जिसमें पक्के रंग मिले होते थे और कुछ बलून्स हम छुपा देते थे। जब सबके बलून्स ख़त्म हो जाते थे तब हम ये बलून्स निकालते थे और लोगों को मारते थे। मां बहुत ही टेस्टी गुजिया बनाती थी और हम सारे दिन वही खाते थे। होली के दो तीन दिन बाद तक गुजिया ही हमारा नाश्ता होता था। बाहर दोस्तों के साथ होली खेलने जाने से पहले पूरी बॉडी पर और चेहरे पर तेल लगा कर जाते थे कि रंग जल्दी से छूट जाए। टूथपेस्ट, अंडे और पक्के रंग लोगों पर डालते थे। हमारे यहां जो दिन के ख़त्म होने तक पूरा काला हो जाता था, उसकी बड़ी इज़्ज़त होती थी। लोग बोलते थे कि वाह क्या होली खेली है, बड़ी हिम्मत है। तो मैं, हमेशा खूब सारा तेल लगाकर जाती थी और दोस्तों को कहती थी कि यार पक्का रंग लगाना।

जब बिना भांग के नशे में मनाई होली

radhika madan tv actress holi 

राधिका ने एक फनी किस्सा याद करते हुए हमसे कहा कि मैंने कभी भंग नहीं पी है पर, मेरा बड़ा मन था कि मुझे भांग पीना है। तो, मैंने मेरे दोस्तों को कहा तो उन्होंने मुझे ठंडाई पिलाई और उसे पीते ही मैं बस नाचने लगी, पूरा दिन मैं बिलकुल हवा में थी, मुझे याद है कि सब मुझ पर हंस रहे थे। लेकिन, जैसे ही सबने होली मना ली और दिन ख़त्म होने लगा तो दोस्तों ने बताया कि मेरी ठंडाई में कोई भांग नहीं थी। और मुझे लगा कि मैं क्या पागलों की तरह बिहेव कर रही थी। यह सब मेरे दिमाग में था कि मैंने ठंडाई पी है और अब मुझे ये चढ़ गई है। मैं बिलकुल पागल थी और सब आज भी इस बात पर मेरा मज़ाक उड़ाते हैं और मुझ पर हंसते हैं।