हर वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन तुलसी और शालिग्राम का विवाह कराया जाता है। इस दिन को देवउठनी एकादशी के रूप में भी मनाया जाता है। इस दिन से ही शादी-विवाह के शुभ मुहूर्त भी शुरू हो जाते हैं। 

ऐसी मान्यता है कि तुलसी विवाह के अवसर पर किए गए कुछ उपाय जातकों के वैवाहिक जीवन को मधुर बनाते हैं और जिन कन्याओं के विवाह में रुकावट आ रही हैं, उन्हें भी फायदा पहुंचाते हैं। 

इस खास उपायों के बारे में हमने भोपाल के पंडित एवं ज्योतिषाचार्य विनोद सोनी से बात की । वह कहते हैं, 'तुलसी जी को देवी लक्ष्मी का ही स्वरूप माना गया है। शास्त्रों में तुलसी और शालिग्राम के विवाह के दिन को बहुत शुभ माना गया है। इस दिन कई तरह के उपाय किए जा सकते हैं। विशेष तौर पर अगर आप तुलसी के उपाय करते हैं, तो विवाह में आ रही अड़चन दूर होती है।'

इसे जरूर पढ़ें: गृह शांति के लिए तुलसी के उपाय

tulsi  vivah  chalisa

तुलसी के पौधे को अर्पित करें ये चीजें 

तुलसी विवाह के दिन तुलसी के पौधे का श्रृंगार करें। अगर कुंवारी कन्या इस दिन देवी तुलसी को लाल चुनरी और लाल चूड़ी चढ़ाती है, तो उसे मनचाहा साथी मिलता है। अगर किसी कन्या की शादी में रुकावट आ रही है, तो उसे तुलसी के पौधे पर श्रृंगार का सारा सामान चढ़ा कर किसी भी कन्या जिसका विवाह होने वाला हो, उसे भेंट करना चाहिए। 

तुलसी और शालिग्राम जी का विवाह कराएं 

घर में तुलसी विवाह के दिन कन्या के माता-पिता को तुलसी और शालिग्राम जी का विवाह जरूर करना चाहिए। इस दिन यदि आप किसी गरीब कन्या का विवाह करवाते हैं या फिर उनके विवाह में मदद करते हैं, तो ऐसा करने पर आपको माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है। तुलसी विवाह के दिन कुंवारी कन्याओं को तुलसी की माला ग्रहण करनी चाहिए। ऐसा करने से यदि आपके आस-पास नकारात्मक ऊर्जा है, तो वह नष्ट हो जाती है। 

इसे जरूर पढ़ें: Astro Tips: दिन के हिसाब से करें तुलसी के ये उपाय

tulsi vivah  benefits

तुलसी की परिक्रमा करें और दीपक जलाएं 

वैसे तो तुलसी की परिक्रमा आप नियमित कर सकती हैं, मगर विवाह में अड़चन आ रही है, तो आपको तुलसी विवाह के दिन तुलसी की 3 बार परिक्रमा जरूर करनी चाहिए। अगर आप तुलसी की परिक्रमा उसके चारों ओर घूम कर नहीं कर सकती हैं, तो आप जहां खड़े हो कर तुलसी को जल चढ़ा रही हैं, वहीं पर 3 बार गोल-गोल घूम लें। इतना ही नहीं, आपको तुलसी पर सुबह शाम घी का दीपक भी जलाना चाहिए। यदि आप ऐसा नियमित नहीं कर पा रही हैं तो तुलसी विवाह के दिन अवश्य करें। 

तुलसी के पानी से स्नान 

तुलसी विवाह के दिन आप तुलसी के पानी से स्नान भी कर सकती हैं। इसके लिए आप तुलसी की केवल 7 पत्तियां नहाने के पानी में डाल लें। कोशिश करें कि आपको तुलसी तोड़नी न पड़े आप गमले में तुलसी के झड़े हुए या फिर सूखे पत्तों को उठा कर इस्तेमाल कर सकती हैं। तुलसी के पानी से स्नान करना आपके स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। 

Recommended Video

तुलसी का पाठ 

तुलसी विवाह के दिन 'तुलसी चालीसा का पाठ' जरूर करें। आपको बाजार में आसानी से तुलसी चालीसा की पुस्तक मिल जाएगी। कुंवारी कन्या की मां तुलसी विवाह के दिन 7 विवाहित महिलाओं को भोजन करा कर उन्हें श्रृंगार का सामान दान करती है, तो इससे भी देवी लक्ष्‍मी प्रसन्‍न होती हैं। ऐसा करने से आपकी कन्या के विवाह में आ रही रुकावटें भी दूर होती हैं। कन्या की मां को व्रत भी रखना चाहिए और शाम को ही व्रत का उद्यापन करना चाहिए।  

शादी में आ रही अड़चन को दूर करने के ये सरल उपाय आपको अच्छे लगे हों, तो इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह ज्‍योतिष शास्‍त्र से जुड़े और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए देखती रहें हरजिंदगी।  

Image Credit: Shutterstock