हिंदू धर्म में कई तरह के मोतियों को शुभ माना गया है और इन मोतियों से बनी मालाओं को पहनना भी शुभ बताया गया है। तुलसी के मोतियों से बनी माला भी बहुत पवित्र और लाभदायक होती है। बाजार में आपको तुलसी के बड़े और छोटे मोतियों से बनी तरह-तरह की मालाएं मिल जाएंगी। मगर जो बात खुद से तुलसी की माला बनाने में आती है, वह बाजार से खरीदी हुई माला में कहां होती है। 

जी हां, आप घर पर तुलसी की माला खुद से बना सकती हैं। आमतौर पर देखा गया है कि तुलसी का पौधा नवंबर से लेकर फरवरी तक के महीने में सूख जाता है। ऐसे में उस पौधे की सूखी टहनियों से आप मोती तैयार कर सकती हैं और घर पर माला बना सकती हैं। 

आज हम आपको घर पर तुलसी की माला बनाने का बहुत ही आसान तरीका स्‍टेप्‍स में बताएंगे। 

इसे जरूर पढ़ें: Astro Tips: तुलसी की माला पहनने का महत्व और वास्‍तु टिप्‍स जानें 

tulsi  mala  beads

स्‍टेप-1 

सबसे पहले तुलसी के सूखे पौधे (तुलसी के पौधे को हरा-भरा बनाने के टिप्‍स) की एक बराबर साइज वाली टहनियों को इकट्ठा कर लें। फिर आप एक हार्ड सैंडपेपर लें। सैंडपेपर की मदद से तुलसी की टहनियों की क्‍लीनिंग करें। यह क्‍लीनिंग बहुत जरूरी होती है क्योंकि इससे टहनियां साफ हो जाती है और यदि उनमें कहीं गांठ है, तो वह भी रिमूव हो जाती है। 

स्‍टेप-2 

जब आप सभी टहनियों की क्‍लीनिंग कर लें तो उसके बाद आपको मोतियों की कटिंग करनी होगी। इस दौरान आप ज्वेलरी कटर का ही इस्तेमाल करें। अगर आपके पास ज्वेलरी कटर नहीं है तो आप धारदार चाकू का भी प्रयोग कर सकते हैं, मगर उससे आपको थोड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। इस बात का भी ध्‍यान रखें कि आपको सारे मोतियों को एक बराबर साइज में कट करना है।  

tulsi  mala    beads

स्‍टेप-3 

कोशिश करें कि 108 मोतियों की माला ही बनाएं। जब मोती तैयार हो जाएं तो आपको उन्हें धागे में पिरोना होगा। धागे में मोती पिरोने के लिए आपको बाजार से नायलॉन का धागा लाना होगा। यह धागा ज्वेलरी मेकिंग में इस्तेमाल होता है। यह इतना मजबूत होता है कि आप इसे हाथ से नहीं तोड़ सकती हैं। इसलिए इसी धागे में आपको तुलसी के मोतियों को पिरो कर माला तैयार करनी चाहिए। 

स्टेप-4 

अब आप सुई में नायलॉन का धागा डालें। धागे में मोती पिरोने से पहले ज्वेलरी लॉक को धागे में डालें। इस माला के लिए आप चूड़ी वाला लॉक इस्तेमाल कर सकती हैं। बाजार में आपको सिल्वर और गोल्डन दो तरह का लॉक मिलेगा आप अपनी पसंद के हिसाब से इसे खरीद सकती हैं। लॉक के इनर और आउटर दो हिस्से होंगे, आपको पहले इनर पार्ट को धागे में डालना है। इसके बाद आप मोतियों को एक-एक कर धागे में पिरोना शुरू करें। 

इसे जरूर पढ़ें: तुलसी की माला पहनने से आपको मिलते हैं ये जबरदस्‍त फायदे

स्‍टेप- 6 

इसके बाद जब सारे मोती धागे में पिरो लिए जाएं तो आपको आउटर लॉक को धागे में डालकर एक मजबूत गांठ लगानी होगी। अंत में जब माला बन कर पूरी तरह तैयार हो जाए, तो उसमें चमक लाने के लिए 24 घंटे के लिए माला को तिल के तेल में डिप करके रख दें। ऐसा करने से मोतियों में चमक और मजबूती दोनों आ जाती है। 

Recommended Video

अब आप इस माला को खुद भी पहन सकती हैं और चाहें तो घर के मंदिर में रखी भगवान की मूर्ति (भगवान की मूर्ति गिफ्ट करने के नियम) को अर्पित कर सकती हैं। आपको बता दें कि तुलसी की माला धारण करने के लिए सोमवार, गुरुवार, या बुधवार का दिन सबसे शुभ होता है। यह माला धारण करने से पहले आपको उस पर गंगाजल छिड़क कर उसे शुद्ध कर लेना चाहिए।तुलसी की माला आप गले के साथ-साथ हाथों में भी धारण कर सकती हैं। 

यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।