फिल्म 'बधाई हो' की अम्मा जी याद हैं आपको? वही अम्मा जिन्होंने नीना गुप्ता की सास का किरदार निभाया था। सुरेखा सीकरी की दमदार आवाज़ और उनकी एक्टिंग कमाल की है। इस बार फिल्म 'बधाई हो' के लिए उन्हें तीसरी बार नेशनल अवॉर्ड मिला है। पर इस अवॉर्ड के साथ एक और खबर सामने आई है। सुरेखा सीकरी पिछले 10 महीनों से कोई काम नहीं कर रही हैं। इसका कारण है उनका ब्रेन स्ट्रोक।  

'बधाई हो' में आयुष्मान खुराना की दादी हों या फिर 'बालिका वधु' की दादी सा या फिर 'सात फेरे' की भाभो, सभी किरदार सुरेखा जी ने ऐसे निभाए हैं जैसे बस वो उन्हीं की जिंदगी पर लिखे गए हों। 74 साल की सुरेखा जी ने इससे पहले भी बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का ही नेशनल अवॉर्ड मिला है। पर फिलहाल उनकी हालत अच्छी नहीं है।  

surekha sikri badhai ho

इसे जरूर पढ़ें- नीना गुप्‍ता अपनी निजी जीवन में हैं बिंदास और बेबाक, जानें कैसा रहा उनका अब तक का सफर  

पिछले 10 महीने से ब्रेन स्ट्रोक से परेशान- 

सुरेखा सीकरी ने खुद ये बताया है कि वो 10 महीने से ब्रेन स्ट्रोक के कारण परेशान हैं। उनकी तस्वीर जो हाल ही में आई है वो भी काफी चौंकाने वाली है। दरअसल, सुरेखा जी महाबलेश्वर में एक शूटिंग में व्यस्त थीं जब बाथरूम में गिरने से उन्हें सिर पर चोट लग गई। ऐसे में उनकी चोट के कारण ब्रेन स्ट्रोक हो गया। यही कारण है कि वो किसी भी शूटिंग में हिस्सा नहीं ले पाईं। पर अब उन्हें उम्मीद है कि वो जल्दी ही ठीक हो जाएंगी। डॉक्टर की सलाह भी कुछ ऐसी ही है कि वो जल्दी ही अपना काम कर सकती हैं।  

नेशनल अवॉर्ड के लिए शुक्रगुजार - 

सुरेखा सीकरी ने एक इंटरव्यू में नेशनल अवॉर्ड के बारे में कहा कि वो दिल से इसके लिए शुक्रगुजार हैं। वो लगातार अपने परिवार और दोस्तों से मिल रही हैं। इसी बीच बालिका वधु के एक्टर शशांक व्यास भी उनसे मिलने गए। शशांक ने उस सीरियल में जगदीश का किरदार निभाया था। उन्होंने ही सुरेखा जी की तस्वीरें शेयर कीं। 

 
 
 
View this post on Instagram

#blessings🙏 Congratulations #surekhasikri 🌼🌼

A post shared by shashank vyas (@ishashankvyas) onAug 11, 2019 at 6:41am PDT

 

इससे पहले भी दो बार मिल चुका है नेशनल अवॉर्ड-  

सुरेखा सीकरी का ये तीसरा नेशनल अवॉर्ड है। सबसे पहले वो 1988 में अपनी फिल्म तमस के लिए नेशनल अवॉर्ड जीतीं थीं। दूसरी बार उन्हें 1995 में नेशनल अवॉर्ड मिला था जो उनकी फिल्म मम्मो के लिए था। सुरेखा सीकरी ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से पढ़ाई की है और उन्हें संगीत नाटक एकेडमी अवॉर्ड भी मिल चुका है। बॉलीवुड में उन्हें छोटे रोल्स जरूर मिले हैं, लेकिन वो हर फिल्म और सीरियल में अपनी छाप छोड़ने में कामियाब रहीं। इसमें जुबैदा, मिस्टर एंड मिसेज अइयर, रेनकोट जैसी फिल्में और टीवी सीरियल में एक था राजा एक थी रानी, परदेस में है मेरा दिल, मां एक्सचेंज, सात फेरे और बालिका वधु जैसे सीरियल शामिल हैं।  

इसे जरूर पढ़ें- नीना गुप्ता की ये 10 फोटोज देखकर आप भी साड़ी पहनने के लिए हो जाएंगाी इंस्पायर

फौजी खानदान से हैं सुरेखा-

सुरेखा सीकरी के पिता एयर फोर्स में थे और मां टीचर थीं। उनकी शादी हेमंद रेगे से हुई थी और उनका बेटा राहुल सीकरी भी एक आर्टिस्ट है। बहुत कम लोग जानते हैं कि सुरेखा सीकरी असल में नसीरुद्दीन शाह की साली थीं। नसीरुद्दीन शाह की पहली शादी सुरेखा जी की सौतेली बहन मनारा सीकरी से हुई थी। सुरेखा तभी हीबा शाह की मौसी हैं। बालिका वधु में हीबा ने दादी सा की जवानी का किरदार निभाया था। 

सुरेखा सीकरी को नेशनल अवॉर्ड मिलना शायद तय ही था। फिल्म बधाई हो के लिए उन्होंने दर्शकों को अपनी एक्टिंग का कायल कर दिया। हम सुरेखा जी के जल्दी ठीक होनी की कामना करते हैं और उन्हें तीसरे नेशनल अवॉर्ड की बधाई देते हैं।