वैसे तो पूरे साल में 12 पूर्णिमा तिथियां और महीने में एक पूर्णिमा तिथि होती है, लेकिन माघ महीने के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली पूर्णिमा यानी कि माघ पूर्णिमा का विशेष महत्त्व है। इस साल माघ पूर्णिमा 27 फरवरी, शनिवार के दिन पड़ रही है। माघ मास के शुक्ल पक्ष की आखिरी तिथि को माघ पूर्णिमा कहा जाता है। कहा जाता है कि माघ पूर्णिमा के दिन कुछ विशेष काम करना अत्यंत फलदायी होता है और ये काम करने से घर में सुख समृद्धि के साथ धन -धान्य भी आता है।

pt ramesh bhojraj dwivedi ji

जाने माने ज्योतिर्विद पं रमेश भोजराज द्विवेदी जी के अनुसार माघ मास ज्योतिष में भी बड़ा महत्व कहा गया है, ऐसी मान्यता है कि इस मास में स्नान जप तप और दान करने से व्यक्ति को पुण्य लाभ मिलता है साथ ही व्यक्ति भौतिक रूप से भी सारे सुखों को भोगता है। यह पूरा मास इह लोक और परलोक दोनों में ही अनंत सुख को देने वाला कहां गया है, इस मास में तीर्थ स्थान व्रत का महत्व है। खासतौर पर पूर्णिमा तिथि को विशेष काम करने चाहिए। आइए जानें कौन से हैं वो काम।  

पवित्र नदी में स्नान 

river snan shubh

कहा जाता है कि माघ पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों जैसे गंगा में स्नान करने से और दान पुण्य करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दिन संगम में स्नान करना भी अत्यंत फलदायी होता है। इसी वजह से माघ पूर्णिमा के दिन काशी, प्रयागराज और हरिद्वार जैसे तीर्थ स्थानों में स्नान करने का विशेष महत्व बताया गया है. हिन्दू मान्यता के अनुसार माघ पूर्णिमा पर स्नान करने वाले लोगों पर भगवान विष्णु मुख्य रूप से प्रसन्न होते हैं और उन्हें सुख सौभाग्य और धन-संतान तथा मोक्ष प्रदान करते हैं। 

पूजा-पाठ है जरूरी 

pooja path shubh

मान्यतानुसार माघ पूर्णिमा के दिन शुद्ध भाव से पूजा -पाठ का विशेष महत्त्व है। इस दिन से पूजा करने से और व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिलती है। मुख्य रूप से पूर्णिमा के दिन विष्णु भगवान् का पूजन पूरे श्रद्धा भाव से करने से घर के सभी क्लेश दूर हो जाते हैं। कहा जाता है कि इस दिन सर्वप्रथम स्नान करके शुद्ध वस्त्र धारण करके पूजन करना विशेष फलदायी है।

इसे जरूर पढ़ें:कार्तिक मास में क्यों किया जाता है दीप दान, जानें क्या है इसका महत्त्व

तिल का दान है शुभ 

til ka daan

माघ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा के दौरान तिल चढ़ाने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, माघ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु को तिल चढ़ाने और तिल का दान देने से कई पापों से मुक्ति मिलती है। इस दिन तिल के अलावा अन्य चीज़ों का दान भी विशेष फलदायी होता है। माघ पूर्णिमा तिथि के दिन दान करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। इसलिए इस दिन अपनी सामर्थ्य के हिसाब से गरीबों को दान जरूर देना चाहिए। कहते हैं कि माघ पूर्णिमा में अन्न, वस्त्र या धन के दान से घर में सुख-शांति बनी रहती है। यही नहीं सामर्थ्य अनुसार किया गया दान, घर को धन और धान्य से परिपूर्ण कर देता है। 

सत्यनारायण की कथा 

satya narayan katha

कहा जाता है कि पूर्णिमा तिथि के दिन मुख्य रूप से विष्णु भगवान् का पूजन किया जाता है। इसलिए खासतौर पर माघ पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण की कथा का पाठ या कथा सुनना अत्यंत लाभकारी है। इस दिन यदि आप किसी पंडित को बुलाकर सत्यनारायण की कथा नहीं कर पा रहे हैं तब भी परिवार के साथ मिलकर सत्यनारायण भगवान् की कथा का पाठ करें और शुद्ध मन से प्रसाद बनाकर सभी को वितरित करें। 

Recommended Video

गीता जैसी पवित्र पुस्तक का पाठ 

माघ पूर्णिमा में गीता और रामायण जैसी पवित्र और धार्मिक पुस्तकों का पाठ करना उत्तम माना जाता है। कहते हैं कि ऐसा करने से देवी-देवता प्रसन्न होते हैं और घर में कभी भी धन-धान्य की कमी नहीं रहती है। यदि आपके पास समय की कमी है तब भी गीता और रामायण के कुछ श्लोकों का पाठ जरूर करें। निश्चित रूप से पुण्य की प्राप्ति होगी। 

इसे जरूर पढ़ें:Jaya Ekadashi 2021: जानें कब है जया एकादशी, क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त और संपूर्ण कथा

चन्द्रमा को अर्ध्य दें 

moon full purnima

माघ पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा अपनी सम्पूर्ण कलाओं से लिप्त होता है। यदि घर में पति -पत्नी के बीच झगड़े होते हैं तो माघ पूर्णिमा के दिन पति -पत्नी साथ में मिलकर चन्द्रमा के दर्शन करके अर्ध्य दें। ऐसा करने से घर के झगड़े कम हो जाते हैं।  

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:freepik, unsplash and pintrest