भारत में फैमिनिटी और वुमनहुड पर दर्जनों किताबें पढ़ने को मिल जाती हैं। मगर यह किताबें ज्‍यादातर किसी मेल राइटर्स कि लिखी हुई होती हैं। ऐसा नहीं है कि फैमिनिटी और वुमनहुड जैसे सबजेक्‍ट पर किसी महिला राइटर ने कुछ नहीं लिखा, मगर इन महिलाओं की किताबों को वो नेम और फेम नहीं मिला जो मेल राइटर्स कि किताबों को दिया गया। मगर आप अगर किताबें पढ़ने की शौकीन हैं तो, आज हम आपको कुछ ऐसी महिला लेखकों और उनके द्वारा महिलाओं पर लिखी गईं किताबों के बारे में बताएंगे, जो बेहद खूबसूरती से महिलओं के जीवन पर लिखी गईं हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: हर फील्ड में है जेंडर बायसनेस, लेकिन हमें ही उठानी होगी आवाज : सोनम कपूर

these five books are wrote by female writes on female life        ()

गॉड ऑफ दी स्‍मॉल थिंग्‍स by अरुंधति रॉय

अरंधति रॉय द्वारा लिखी गई इस किताब महिलाओं की वर्तमान स्थिती पर बात की गई है। इसमें बताया गया है कि सोसाइटी, मैरिज बिग थिंग हैं और सैक्‍स डिजायर स्‍मॉल थिंग हैं। इसके साथ ही अरुंधति ने किताब के जरिए बताया है कि बिग थिंग्‍स में झूठ और शर्मसार कर देने वाले एलिमेंट्स होते हैं, जो महिलाओं को हर छोटी बातों के लिए परेशान करते हैं वहीं स्‍मॉल थिंग में सुख हैं और सच है। मगर इसके लिए उन्‍हें आजादी नहीं है। अरुंधति रॉय ने अपनी इस किताब को बेहद खूबसूरती से पोयटिक अंदाज में लिखा है। 

इसे जरूर पढ़ें: बदल गई है सिंगिंग इंडस्ट्री, अब अच्छा दिखना भी हो गया है ज़रूरी- ऋतु पाठक

these five books are wrote by female writes on female life        ()

इंटरप्रेटर ऑफ मालाडाइस by झुम्‍पा लाहिड़ी 

भारत और अमेरिका में झुम्‍पा लाहिड़ी का नाम काफी फेमस है मगर उनकी लिखी किताबों के बारे में कम ही लोग जानते हैं। खासतौर पर महिलाओं को नही पता कि झुम्‍पा एनआरआई महिलाओं के लिए काफी कुछ लिख चुकी हैं। अपनी किताब इंटरप्रेटर ऑफ मालाडाइस में भी झुम्‍पा ने शक्‍की पति, अनसकसेसफुल मैरिज, शादियों में कम्‍यूनिकेशन गैप और भारत में डिसिबल महिलाओं के साथ भेदभाव के बारे में लिखा है। इस किताब को पढ़ कर महिलाओं के एक्‍चुअल पोजीशन का अंदाजा लगाया जा सकता है। 

these five books are wrote by female writes on female life        ()

फास्टिंग, फीस्टिंग by अनीता देसाई 

अगर आप महिला हैं तो आपने भी कभी न कभी लड़के और लड़की के फर्क को सहा होगा। इस किताब में भी दो भाई बहनों की कहानी बताई गई है। एक उमा है, जो घर के काम करती रहती है और रसोई ही उसकी जिंदगी है वहीं उसका भाई अरुण है जो पढ़ने के लिए विदेश जाता है। भारत में यह बेहद आम बात है और हर घर की कहानी है, जहां लड़कियों के हिस्‍से में रसोई और लड़कों के हिस्‍से में पिता की विरासत आती है। इस किताब को पढ़ कर और कहानी के जरिए आप भी उन बातों को महसूस कर पाएंगी जो आज तक आपने सुनी हैं। 

these five books are wrote by female writes on female life        ()

द पैलेस ऑफ इल्‍यूजन by चित्रा बैनर्जी देवाकुरनी 

अगर आपको इतिहास में थोड़ी भी रुचि है तो द पैलेस ऑफ इल्‍यूजन आपके लिए सबसे अच्‍छी किताब साबित हो सकती है। इस किताब में मेल डॉमिनेटिंग एपिक महाभारत को राइटर ने महिलाओं की दृष्टि से देखने की कोशिश की है। इस किताब में चित्रा ने बताया है कि कौन सी महिला किसी चीज के लिए जिम्‍मेदार थी और कौन किसके लिए नहीं थी। इस किताब के जरिए पहली बार आपको महाभारत में महिलाओं की भूमिकाओं के बारे में जानने को मिलेगा। 

these five books are wrote by female writes on female life        ()

लिहाफ By इस्‍मत चुगताई 

लिहाफ इस्‍मत चुगताई की सबसे फेमस और सबसे कॉन्‍ट्रोवर्शियल किताबों में से एक है। इस किताब में इस्‍मत ने महिलाओं के साथ होते जेंडर भेद की कहानी सुनाई है। इसी किताब में इस्‍मत ने होमोसैक्‍शुएलिटी पर भी बात की है जिसके लिए उन्‍हें काफी विरोध भी सहना पड़ा।

यहां तक कि इस किताब को लिखने के लिए उन्‍हें माफी तक मांगने को कहा गया।