भगवान् गणपति सभी भक्तजनों के बीच सर्वोपरि माने जाते हैं। इन्हें कई नामों से पुकारा जाता है जैसे गणपति,गजानन,दामोदर,विनायक और इन्हीं नामों में एक विख्यात नाम है एकदन्तधारी।आप सभी ने गणपति की प्रतिमा में सदैव एक दांत टूटा हुआ देखा होगा। इसीलिए इन्हें एकदन्तधारी नाम से पुकारा जाता है। गणेश जी के इस दांत टूटने के पीछे भी कई तरह की पौराणिक मान्यताएं प्रचलित हैं। इन कथाओं के बारे में और गणपति के एक दांत होने के पीछे के रहस्य के बारे में उज्जैन के प्रचलित पंडित मनीष शर्मा जी बता रहे हैं कुछ बातें आइए जानें क्या है इसका रहस्य -

परशुराम से युद्ध में टूटा एक दांत 

ek dant  inside

एक प्रचलित कथा के अनुसार भगवान विष्णु के अवतार परशुराम जी ने गणेश जी का एक दांत गुस्‍से में तोड़ दिया था। कथा के अनुसार परशुराम शिव जी से मिलने कैलाश पर्वत आए थे, मगर उस वक्‍त भगवान शिव विश्राम कर रहे थे और बेटे गणेश को पहरा देने के लिए कहा था।

इसे जरूर पढ़ें- इन उपायों से प्रसन्न होते है विघ्नहर्ता गणेश जी, पूरी करते हैं सभी मनोकामना

भगवान गणेश ने पिता की आज्ञा का पालन किया और परशुराम को शिव जी से मिलने से रोक दिया, इससे क्रोधित होकर परशुराम ने अपने फरसे से गणेश जी का दांत काट दिया था। तब से गणपति को एकदंत कहा जाने लगा। 

कार्तिकेय ने तोड़ा गणेश जी का दांत

ganesha ekdant

गणेश जी के दांत के बारे में एक और प्रचलित कथा यह है कि भगवान गणेश के बड़े भाई कुमार कार्तिकेय एक बार स्त्री पुरुषों के श्रेष्ठ लक्षणों पर ग्रंथ लिख रहे थे जिसमें गणेश जी ने इतना विघ्न उत्पन्न कर दिया कि कार्तिकेय उन पर रुष्ट हो गए और कुपित होकर गणपति का एक दांत ही तोड़ दिया। लेकिन जब भगवान शिव तक ये बात पहुंची तो उन्होंने समझाकर कार्तिकेय से गणेश को उनका दांत वापस लौटाने के लिए कहा।

Recommended Video

कार्तिकेय ने शिव जी की बात तो मान ली साथ ही गणपति को ये अभिशाप भी दिया कि गणेश जी को अपना टूटा दांत हमेशा अपने साथ ही रखना होगा। अगर वो दांत को अपने से अलग करेंगे तो यही टूटा दांत उन्हें भस्म कर सकता है। तभी से गणपति एकदन्त कहलाए। 

महाभारत की रचना के दौरान टूटा दांत

lord ganesh

एक और पौराणिक कथा के अनुसार ऐसा माना जाता है कि गणपति का दांत महाभारत की रचना के दौरान टूटा था। इसके पीछे कथा यह है कि जब वेदव्यास जी महाभारत की रचना कर रहे थे तो उसके लेखन के लिए उन्हें किसी कुशल लेखक की आवश्यकता थी और इसलिए उन्होंने प्रथम पूजनीय गणेश जी को याद किया। ऐसे में गणेश जी से इस शर्त के साथ लेखन के लिए आग्रह किया कि जब वेदव्यास महाभारत का कथा (टीवी शो महाभारत से जुड़ी बातें) वाचन करेंगे तो वह बीच में नहीं रुकेंगे और गणेश जी को वेदव्यास के बोलने की रफ्तार के अनुसार लिखना होगा क्योंकि बीच में रुकने से कथा में विघ्न पैदा हो सकता है।

इसे जरूर पढ़ें- कार्तिक महीने में नहीं खानी चाहिए ये 3 चीजें, हो सकती है बीमार

गणेश जी ने उनकी बात स्वीकार कर ली और महाभारत का लेखन कार्य शुरू कर दिया लेकिन बोलने की रफ्तार इतनी ज्यादा थी कि लिखते हुए गणेश जी की कलम ही टूट गई और गणपति ने अपने एक दांत को तोड़कर ही कलम का रूप दे दिया। तभी से गणेश एकदंतधारी बन गए। 

असुर का वध करने के लिए बने एकदन्तधारी 

ganesh

गणेश जी के एकदन्तधारी होने के पीछे के एक और रहस्य के बारे में यह बात सामने आती है कि उन्होंने एक असुर का वध करने के लिए जिसका नाम गजमुखासुर था और उसे वरदान प्राप्त था कि वह किसी भी अस्त्र व शास्त्र से नहीं मारा जा सकता है इसलिए गणपति ने जब ये देखा कि असुर अपने कृत्यों से ऋषियों और देवताओं को परेशान कर रहा है तब उसे मारने के लिए गजानन ने अपने एक दांत को तोड़कर उसका अस्त्र बना दिया और उसका वध कर दिया। तभी से गणपति एकदन्त धारी बने। 

एकदंत गणपति, भगवान गणेश के 32 स्‍वरूपों में यह रूप बहुत शुभ होता है। इस रूप में गणेशजी का पेट अन्य स्‍वरूपों के मुकाबले काफी बड़ा होता है। इस स्‍वरूप में वे अपने भीतर ब्रह्मांड समाए हुए होते हैं और ऐसा माना जाता है कि वे रास्ते में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।