• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

इस वजह से शादीशुदा महिलाएं पहनती हैं चूड़ियां, जानें हिंदू धर्म में चूड़ियों का महत्व

हिंदू धर्म में महिलाओं का चूड़ियां पहनना अनिवार्य होता है। चूड़ियां सुहाग की निशानी मानी जाती है। 
author-profile
Published -28 Mar 2022, 13:21 ISTUpdated -28 Mar 2022, 15:16 IST
Next
Article
significance of bangles in hindu

भारतीय परंपरा के अनुसार दुल्हनों के लिए चूड़ी का महत्व बेहद अधिक होता है। यही कारण है कि शादीशुदा महिलाएं हमेशा अपने हाथों में चूड़ियां पहनती हैं। चूड़ियां न केवल महिलाओं के हाथों की खूबसूरती बढ़ाती हैं, बल्कि यह जीवन के कई रूपों को भी परिभाषित करती हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि केवल शादीशुदा महिलाएं ही चूड़ियां क्यों पहनती हैं? क्यों चूड़िया पहनना शुभ माना जाता है। ऐसे ही कई सवालों के जवाब आज हम आपको इस आर्टिकल में देंगे। तो चलिए जानते हैं हिंदू धर्म में चूड़ियों का महत्व। 

सोलह श्रृंगार का है हिस्सा

bangles significance

भारतीय मान्यताओं के अनुसार केवल शादीशुदा महिलाएं ही चूड़ियां पहनती हैं। चूड़ियां दुल्हन के सोलह श्रृंगार का हिस्सा है। साथ ही देवी को भी चूड़ियां ही चढ़ाई जाती हैं। शादीशुदा महिलाएं कांच, सोने या किसी अन्य मेटल से बनी चूड़ियां पहनती हैं। चूड़ियों को पति के लंबे जीवन का प्रतीक माना जाता है। यही कारण है कि जब हाथ में से एक भी चूड़ी टूट जाती है तो इसे अशुभ माना जाता है। इसके साथ ही चूड़ियां सौभाग्य और समृद्धि का भी प्रतीक हैं।

हिंदू धर्म में चूड़ियों का महत्व

आप सभी ने यह जरूर देखा होगा कि होने वाली दुल्हन या शादीशुदा महिलाएं अलग-अलग तरह की चूड़ियां पहनती हैं। दुल्हनों को तेल की मदद से चूड़ियां पहनाई जाती हैं। भारतीय परंपरा के अनुसार चूड़ियां का संबंध वैवाहिक जीवन में प्रेम और स्नेह से है। 

अलग राज्य अलग रंग

significance of bangles

आपने यह बात जरूर नोटिस की होगी कि ज्यादातर राज्यों में दुल्हनें अलग-अलग रंग की चूड़ियां पहनती हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है इसके पीछे कारण क्या है। तो चलिए जानते हैं राज्य के अनुसार दुल्हनें किस रंग की चूड़ियां पहनती हैं और क्या है इसका महत्व।

दक्षिण भारत

भारत के दक्षिणी क्षेत्र में सोने को शुभ माना जाता है। इसलिए वहां की महिलाएं ज्यादातर सोने से बनी चूड़ियां ही पहनती हैं। वहीं उत्तर भारत की महिलाएं हरे रंग की चूड़ियां पहनती हैं क्योंकि हरा रंग समृद्धि का प्रतीका होता है।

बंगाली रिवाज

बंगाली शादी के रीति-रिवाज अलग होते हैं। बंगाली दुल्हनों को शंख की चूड़ी और एक लाल मूंगा चूड़ी पहनाई जाती है। जिसे शाखा पोला कहा जाता है। वहीं दुल्हन के ससुराल में जाने पर सास दुल्हन को गोल्ड प्लेटेड आयरन बैंगल गिफ्ट में देती है। सास द्वारा बहु को चूड़ी उपहार में देना भी शुभ माना जाता है।

राजस्थान

राजस्थान में मामेरू की रस्म की जाती है, जिसमें दुल्हन का मामा होने वाली दुल्हन को लाल बॉर्डर वाली रेशमी साड़ी के साथ चूड़ा उपहार में देता है। राजस्थानी दुल्हनें अपने हाथों में हाथीदांत से बनी चूड़ी (चूड़ी का इतिहास जानें) या फिर चूड़ा पहनती हैं। 

इसे भी पढ़ें: जानें क्यों पंजाबी दुल्हनों के लिए खास होता है चूड़ा और कलीरे

पंजाब

bridal chura

पंजाब में दुल्हन को चूड़ा पहनाने के लिए रस्म आयोजित की जाती है जिसे चूड़ा सेरेमनी कहा जाता है। चूड़ा सेरेमनी के दौरान पूजा या हवन किया जाता है। पूजा के दौरान 21 चूड़ियों के इस सेट को दूध और गुलाब की पंखुड़ियों से साफ किया जाता है। चूड़ियों को साफ करने के बाद सभी रिश्तेदार चूड़ा को छूते हैं। चूड़ा को रिश्तेदारों के द्वारा छूना दुल्हन के लिए आशीर्वाद माना जाता है। इसके बाद मामा द्वारा दुल्हन को चूड़ा पहनाया जाता है। चूड़ा पहनाने के बाद दुल्हन की कलाई को सफेद कपड़े से ढक दिया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि दुल्हन को शादी के दिन तक चूड़ा नहीं देखना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: सिंदूर से लेकर बिंदी और लहंगे तक जानिए लाल रंग का भारतीय दुल्हनों से क्या है संबंध?

महाराष्ट्र

महाराष्ट में दुल्हनें हरे कांच से बनी चूड़िया पहनती हैं। लेकिन ये चूड़ियां ऑड नंबर के हिसाब से पहनी जाती हैं। हरे रंग की चूड़ियां नए जीवन, खुशहाली का प्रतीक होती है। महाराष्ट्रीयन दुल्हनें हरी चूड़ियां को सॉलिड गोल्ड की चूड़ी के साथ पहनती हैं, जिसे पट्या कहते हैं। साथ ही कार्व्ड कड़ा को टोड कहा जाता है। 

चूड़ियों में रंग का महत्व

significance of bangles in hindu dharam

बाजार में लाल रंग से लेकर हरे रंग तक की चूड़िया मिलती हैं। हर रंग की चूड़ी का महत्व अलग-अलग होता है। जैसे लाल रंग की चूड़ी को ऊर्जा और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है जबकि हरे रंग की चूड़ियां सौभाग्य और उर्वरता से संबंधित हैं। वहीं पीली चूड़ियों को पहनने से जीवन में खुशियां आती हैं, वहीं सफेद चूड़ियों को जीवन की नई शुरुआत से जोड़कर देखा जाता है। चांदी की चूड़ी शक्ति और सोने की चूड़ी भाग्य का प्रतीक होती हैं। 

चूड़ियां पहनने के लाभ

  • मानव शरीर का कलाई वाला हिस्सा हमेशा सक्रिय रहता है। साथ ही इस क्षेत्र में प्लस की बीट देखी जाती है, ताकि पता चल सके कि किसी को कोई बीमारी तो नहीं है। महिलाएं भी कलाई में ही चूड़ियां पहनती हैं। चूड़ियों को लगातार फ्रीक्शन से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। 
  • गोद भराई की रस्म के दौरान भी महिलाओं को चूड़ियां दी जाती हैं, क्योंकि चूड़ियों की खनक बच्चे के लिए ध्वनि का स्त्रोत बनती है। कई स्टडीज में यह पाया गया है चूड़ियों से निकलने वाली ध्वनि तनाव को कम करने में मदद करती हैं। 

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

Image Credit: Google.Com

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।