पिछले दिनों जब मैं अपनी पुरानी सहेली रीमा से मिली तो वह अपने पति विनोद की बातें लेकर बैठ गई। मेरी सहेली रीमा यूं तो स्वभाव में काफी अच्छी है, लेकिन उसे हमेशा ही अपनी जिन्दगी से शिकायत रहती है। इतना ही नहीं, वह अपने पति विनोद की भी हमेशा दूसरों से तुलना करती है। दरअसल, विनोद यूं तो रीमा की हर काम में मदद करते हैं, लेकिन विनोद का स्वभाव बचत का है। वह हर छोटी-बड़ी चीजों में बचत करने की सोचते हैं। वहीं रीमा को खुलकर खर्च करना अच्छा लगता है। विनोद का कहना है कि हमें कल के बारे में भी सोचना चाहिए, जबकि रीमा आज भरपूर जीने में विश्वास करती है। इसलिए गाहे-बगाहे रीमा विनोद की तुलना दूसरों के पति से करती है। 

इसे जरूर पढ़ें: अगर करना है जल्दी से वजन कम तो अकेले नहीं पार्टनर के साथ करें वर्कआउट

वैसे यह सिर्फ रीमा की ही कहानी नहीं है। अधिकतर घरों में कपल अपने पार्टनर की तुलना दूसरों से करते हैं। ऐसा करने में भले ही आपको कोई बुराई नज़र न आती हो, लेकिन इस तरह आप अपने पार्टनर का दिल काफी दुखाते हैं। इस दुनिया में कोई भी परफेक्ट नहीं होता, लेकिन हम सभी परफेक्शन की चाहत रखते हैं। पर असल जिन्दगी में ऐसा नहीं होता, हर किसी में कुछ न कुछ कमी जरूर होती है। कई बार तो रीमा की तरह ही महज दोनों पार्टनर की सोच अलग होती है और इसलिए वह अपने पार्टनर को दूसरों से कंपेयर करने लगते हैं। अगर आप भी ऐसा ही करती हैं तो इससे आप अपने रिश्ते को कमजोर बना रही हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

बढ़ते हैं झगड़े

inside  comparison in relationships is bad

कभी-कभी अपने पार्टनर की एक स्वस्थ तरीके से प्रतिस्पर्धा करना अच्छा है, लेकिन अगर आप नकारात्मक तरीके से या फिर ताने कसते हुए अपने पार्टनर की तुलना करती हैं, तो इससे आपके पार्टनर को बुरा लगता है ही, साथ ही आपके इस स्वभाव के कारण फिर सामने वाला व्यक्ति भी आपकी कमियां गिनाने लगता है। इससे दोनों के रिश्ते में खटास आती है और उनके बीच झगड़े बढ़ने लगते हैं।

बदलता है स्वभाव

inside  comparison in relationships is bad

अगर आप हर बात में अपने पार्टनर की तुलना दूसरों से करती हैं तो इसका अर्थ यह है कि आप अपने पार्टनर के दिल से अपने लिए प्यार खत्म कर रही है। आपके बार-बार ऐसा करने से व्यक्ति का स्वभाव भी बदलने लगता है। ऐसे लोग चिड़चिड़े रहने लग जाते हैं और उन्हें हर छोटी बात पर गुस्सा आता है।

हीनता का अहसास

inside  comparison in relationships is bad

कई बार ऐसा भी होता है कि जब आप अपने पार्टनर की तुलना दूसरों से करके उन्हें कमतर और सामने वाले व्यक्ति को श्रेष्ठ बताती हैं तो इससे न सिर्फ उनके आत्मसम्मान को चोट पहुंचती है, बल्कि उनके मन में एक हीनभावना भी पनपने लगती है। एक बीज के रूप में पनपी यह हीनभावना धीरे-धीरे काफी विशाल रूप ले लेती हैं। ऐसे व्यक्ति का आत्मविश्वास डगमगाने लगता है। 

मजबूती का अभाव

जो कपल्स अपने पार्टनर में हमेशा उनकी कमियां देखते हैं और अपने पार्टनर की तुलना दूसरों से करते हैं, उनका रिश्ते की नींव कभी भी मजबूत नहीं हो पाती। ऐसे कपल्स बाहरी तौर पर देखने में चाहे खुश लगें, लेकिन उनके बीच की आपसी समझ व रिश्ते की मजबूती काफी कमजोर होती है। 

इसे जरूर पढ़ें: आपके होंठों का शेप बताएगा कि कैसी होगी आपके पार्टनर की पर्सनालिटी

टूट जाएगा रिश्ता

inside  comparison in relationships is bad

अपने पार्टनर की दूसरों से तुलना करने का यह सबसे भयावह परिणाम है। जब आप अपने पार्टनर की तुलना बार-बार दूसरों से करते हैं तो इससे उनके मन में जलन, गुस्सा, चिड़चिड़ापन व अन्य कई तरह की नकारात्मक भावनाएं जन्म लेने लगती हैं। एक समय के बाद पार्टनर के मन से आपके प्रति प्रेम भी खत्म हो जाता है। इतना ही नहीं, आपकी इसी आदत के कारण वह आपसे दूर भी जा सकते हैं।