• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Mohini Ekadashi 2022: जानें मोहिनी एकादशी की तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व

हिंदू धर्म में मोहिनी एकादशी का विशेष महत्व बताया गया है। आइए जानें इस साल कब यह व्रत रखा जाएगा और किस विधि से भगवान विष्णु का पूजन किया जाएगा। 
author-profile
Published -04 May 2022, 11:55 ISTUpdated -04 May 2022, 15:48 IST
Next
Article
vishnu pujan ekadashi date

हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्व है। यह तिथि एक महीने में दो बार पड़ती है और पूरे साल में 24 एकादशी तिथियां होती हैं। ऐसा माना जाता है कि साल में पड़ने वाली प्रत्येक एकादशी तिथि अलग मायने रखती है और इनमें भिन्न तरीकों से पूजन का विधान है।

ऐसा माना जाता है कि किसी भी एकादशी तिथि में पूरी श्रद्धा भाव से विष्णु जी का पूजन करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। ऐसी मान्यता है इन सभी एकादशियों में वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी का विशेष महत्व है। इस एकादशी के दिन विष्णु जी के मोहिनी अवतार का आगमन हुआ था इसी वजह से इस दिन विष्णु पूजन का विशेष महत्व है। आइए ज्योतिर्विद पं रमेश भोजराज द्विवेदी जी से जानें इस साल कब है मोहिनी एकादशी और इस दिन किस तरह से पूजन करना आपके लिए फलदायी हो सकता है। 

मोहिनी एकादशी की तिथि 

mohini ekadahi date

  • इस साल मोहिनी एकादशी 12 मई, 2022, गुरूवार के दिन पड़ेगी। 
  • मोहिनी एकादशी तिथि आरंभ - 11 मई, बुधवार को शाम 7 बजकर 31 मिनट पर 
  • मोहिनी एकादशी तिथि समापन -12 मई, गुरूवार को शाम 6 बजकर 51 मिनट पर समाप्त होगी। 
  • उदया तिथि के अनुसार एकादशी तिथि 12 मई को ही पड़ेगी।  
  • मोहिनी एकादशी व्रत के पारण का समय - इस तिथि का पारण द्वादशी तिथि को किया जाता है। जो लोग मोहिनी एकादशी का व्रत 12 मई को रखेंगे वो अगले दिन 13 मई को इस व्रत का पारण करेंगे। 
  • इस दिन मुख्य रूप से भगवान विष्णु के मोहिनी रूप की पूजा होती है। 

मोहिनी एकादशी की कथा 

mohini ekadshi tithi

शास्त्रों के अनुसार मोहिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के मोहिनी रूप का अवतरण हुआ था। इसकी कथा के अनुसार समुद्र मंथन के समय जब समुद्र से अमृत कलश निकला, तो देवताओं और असुरों में इस बात को लेकर विवाद शुरू हो गया कि राक्षसों और देवताओं के बीच अमृत का कलश कौन लेगा। अमृत कलश के सही विभाजन के लिए सभी देवताओं ने भगवान विष्णु से सहायता मांगी। ऐसे में अमृत कलश को राक्षसों से बचाने और देवताओं में समान रूप से वितरित करने हेतु भगवान विष्णु ने मोहिनी नामक एक सुंदर स्त्री के रूप अवतार लिया। इसके बाद सभी देवताओं ने विष्णु जी की सहायता से अमृत का सेवन किया। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ये शुभ दिन वैशाख शुक्ल पक्ष एकादशी का ही था, इसलिए तभी से इस दिन को मोहिनी एकादशी के रूप में मनाया जाने लगा और इस दिन का विशेष महत्व माना जाने लगा। 

इसे जरूर पढ़ें: Friday Special: आखिर क्यों हुआ था समुद्र मंथन? जानिए रोचक कहानी

Recommended Video


मोहिनी एकादशी का महत्व 

पुराणों के अनुसार मोहिनी एकादशी का विशेष महत्व है और ऐसी मान्यता है कि इस एकादशी तिथि के दिन जो व्यक्ति भगवान विष्णु की पूजा पूरी श्रद्धा भाव से करता है उसे समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। मान्यता यह भी है कि मोहिनी अवतार की पूजा करने वाला व्यक्ति सभी जगह सफल होता है और उसे समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। यही नहीं इस एकादशी व्रत के दिन इसकी कथा सुनने से व्यक्ति को न जाने कितनी समस्याओं से छुटकारा मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। 

कैसे करें इस दिन भगवान विष्णु की पूजा 

mohini ekadasshi puja

  • यदि आप मोहिनी एकादशी का व्रत करते हैं तो प्रातः जल्दी उठें और स्नान करके साफ़ वस्त्र धारण करें। 
  • अपने घर के मंदिर को अच्छी तरह से साफ़ करें और मंदिर के सभी भगवानों को स्नान करें और साफ़ वस्त्रों से सुसज्जित करें।
  • भगवान् विष्णु की तस्वीर चौकी पर स्थापित करें और उस पर चन्दन से तिलक लगाएं। 
  • भगवान विष्‍णु को पीले फूल, धूप, दीप, नैवेद्य अर्पित करें और तुलसी दल चढ़ाएं। 
  • ध्यान रखें कि तुलसी में एकादशी के दिन भूलकर भी जल न चढ़ाएं, क्योंकि इस दिन तुलसी माता निर्जला उपवास करती हैं। 
  • एकादशी व्रत की कथा पढ़ें और धूप-दीप से भगवान् विष्‍णु की आरती करें। 
  • व्रत रखने पर पूरे दिन फलाहार का पालन करें और नमक का सेवन न करें। 
  • शाम के समय विष्णु जी की आरती करें और फलाहर ही ग्रहण करें। 
  • अगले दिन द्वादशी तिथि के दिन पूरी श्रद्धा भाव से व्रत का पारण करें। 

इस प्रकार मोहिनी एकादशी का व्रत करने वाले व्यक्ति के जीवन से सभी बाधाएं लगती हैं और उन्हें सभी पापों से मुक्ति भी मिलती है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।