• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

Karwa Chauth 2022 : करवा चौथ में करवे में क्या भरा जाता है?

 इस लेख में हम आपको बताएंगे कि करवा चौथ में करवे में क्या भरा जाता है।
author-profile
Published -02 Sep 2022, 13:12 ISTUpdated -10 Sep 2022, 16:30 IST
Next
Article
KARWA CHAUTH VRAT what to fill in Karwa

करवा चौथ का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं। करवा चौथ का व्रत कार्तिक कृष्ण चतुर्थी को रखा जाता है। मान्यता के अनुसार भगवान शंकर जी ने माता पार्वती को करवा चौथ के व्रत का महत्व बताया था। आपको बता दें कि महाभारत में भी द्रौपदी ने अर्जुन के लिए व्रत रखा था।

इस बार करवा चौथ व्रत 13 अक्टूबर को मनाया जाएगा। करवा चौथ की पूजा विधी विधान से करी जाती है। इस पूजा में करवा का बहुत महत्व माना जाता है। आपको बता दें कि इसके बिना व्रत अधूरा माना जाता है। करवा में कई चीजें भरी जाती हैं। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि करवा चौथ में करवे में क्या भरा जाता है।

क्या होता है करवा चौथ व्रत का नियम?

karwa chauth vrat

करवा चौथ वाले दिन सूर्योदय के साथ ही इस व्रत की शुरुआत हो जाती है और चांद को देखने के बाद यह व्रत सही तरह से पूर्ण होता है। आपको बता दें कि करवा चौथ पर महिलाएं सुबह से निर्जला व्रत रखती हैं और चांद के दर्शन के बाद ही पूजा करके अपने व्रत को खोलती हैं। इस दिन व्रत को करने वाली महिलाओं को सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करना चाहिए।

इसके साथ ही शुद्ध मन के साथ करवा चौथ व्रत का संकल्प लेकर व्रत की शुरुआत करनी होती है।

इसे जरूर पढ़ें:Karwa Chauth 2022 : इस साल बहुत ही शुभ मुहूर्त में पड़ेगा करवा चौथ, जानें व्रत की तिथि और महत्व

क्या होता है करवा?

karwa chauth

करवा चौथ में इस्तेमाल किया जाने वाला करवा बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। यह मिट्टी का बना हुआ होता है और साथ ही देश के अलग-अलग जगह पर इसकी बनावट अलग तरह से बनी हुई भी होती है। आपको बता दें कि मिट्टी को पंच तत्व का प्रतीक माना जाता है। 

इसके साथ ही करवे को देवी का प्रतीक चिन्ह समझकर पूजा की जाती है। जिनके पास मिट्टी का बना हुआ करवा नहीं होता है वो लोग तांबे या स्टील के लोटे को करवे के तौर पर इस्तेमाल करते हैं। पूजा के दौरान दो करवे बनाएं जाते हैं। इसमें एक देवी मां का माना जाता है और दूसरा सुहागिन महिला का जो यह व्रत रखती है।

इसे जरूर पढ़ें: Karwa Chauth 2022: करवा चौथ पर वास्तु के अनुसार पहनें चूड़ियां, पति को मिलेगी दीर्घायु और जीवन में सफलता 

पूजा में कैसे होता है प्रयोग?

आपको बता दें कि पूजा करते समय और करवा चौथ व्रत कथा सुनते समय दो करवा पूजा के स्थान पर रखने होते हैं। एक वो जिससे महिलाएं अर्घ्य देती हैं यानी जिसे उस महिला की सास ने दिया होता है और दूसरा करवा वो होता है जिसे करवा बदलने वाली प्रक्रिया करते वक्त महिला अपनी सास को करवा देती हैं। करना को सबसे पहले अच्छे से साफ करा जाता है फिर करवा में रक्षा सूत्र बांधकर, हल्दी और आटे के मिश्रण से एक स्वस्तिक भी बनाया जाता है। 

करवा में क्या भरा जाता है?

करवा रखने पहले जमीन पर पीला रंग मिलाकर मिट्टी से गौरी जी को बनाया जाता हैं। साथ ही उनकी गोद में गणेश जी बनाकर बिठाएं जाते हैं। गौरी जी पर चुनरी, बिंदी आदि सुहाग सामग्री से उनका श्रृंगार करना होता है।

आपको बता दें कि कुछ लोग करवा में गेहूं भरते हैं और उसके ढक्कन में शक्कर को भरते हैं।

इसके बाद करवा पर 13 रोली की बिंदी को रखकर हाथ में गेहूं या चावल के दाने लेकर करवा चौथ की कथा को सुना जाता है। आपको बता दें कि कथा को सुनने के बाद करवा पर हाथ घुमाकर महिलाएं अपनी सास के पैर छूकर आशीर्वाद लेती हैं फिर उन्हें करवा देती हैं।

देश की कुछ जगहों पर एक करवा में जल तथा दूसरे करवा में दूध को भी भरा जाता है और फिर उसमें तांबे या चांदी का सिक्का डालते हैं। इसके बाद गौरी-गणेश की पूजा करी हैं। फिर महिलाएं अपने पति की दीर्घायु की कामना चांद को अर्घ देने के बाद करती हैं। इस व्रत का समापन करते वक्त करवा से जलपान करके महिलाएं व्रत तोड़ती है। 

इस तरह से विवाहित महिलाएं अपने करवा चौथ व्रत को करती हैं।   

तो यह थी गणेश पूजा से जुड़ी हुई जानकारी।

 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image credit- amazon/freepik/flipkart

 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।