आपने यह कहावत तो जरूर सुनी होगी कि 'अतिथि भगवान का स्वरूप होते हैं।' इसलिए जब घर में कोई मेहमान आता है, तो उसकी खातिरदारी में हम कोई भी कसर नहीं छोड़ते हैं। लेकिन गणेश चतुर्थी एक ऐसा उत्‍सव है, जब भगवान खुद ही अतिथि के स्वरूप में हमारे घर में रहने आते हैं। ऐसे में सभी लोग उनकी तन, मन और धन से सेवा करने में जुट जाते हैं। 

जाहिर है, मेहमान को क्या पसंद है और क्या नापसंद है इस बात का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है ताकि किसी भी वजह से उसे किसी परेशानी या फिर कमी महसूस न हो। अब जब भगवान गणेश स्वयं ही मेहमान बन कर आ गए हों, तो घर पर आपको कौन से काम करने चाहिए और कौन से नहीं, इस बात की जानकारी जरूर होनी चाहिए। 

हमने इस विषय में उज्जैन के पंडित मनीष शर्मा जी से बात की और जाना कि गणपति स्थापना अगर घर में की जाए, तो उस दौरान कौन से कार्य बिलकुल भी न किए जाएं। इस पर पंडित जी कहते हैं, ' यह बात तो सभी जानते हैं कि किसी विशेष अवसर या फिर पूजा-पाठ के दौरान घर को साफ रखना चाहिए और खाना भी बिना प्याज और लहसुन का बनना चाहिए। मगर इसके अलावा भी कुछ बातें हैं, जिन्हें जान लेना जरूरी है।'

इसे जरूर पढ़ें: क्या आप जानते हैं गणपति के एक दन्त होने का ये रहस्य

important  things  to  do  during  ganpati  sthapna

घर होना चाहिए सुगंधित

घर में गणपति स्थापना कर रहे हैं, तो आपको घर की साफ-सफाई के साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि हर वक्त घर सुगंधित बना रहे। इसके लिए आप धूप बत्ती, अगरबत्ती या फिर सुगंधित फूलों की मदद ले सकते हैं। हालांकि, हर वक्त घर में धूपबत्ती और अगरबत्ती का धुआं आपको परेशान कर सकता है, इसलिए आपने जहां गणपति जी की स्‍थापना की हो वहां पर इत्र का छिड़काव करते रहें। इस दौरान आपको अपने घर की डस्टबिन को भी साफ रखना चाहिए और कहीं भी कूड़ा इकट्ठा करके नहीं रखना चाहिए। 

मन के विचार भी बदलें 

घर पर जब कोई मेहमान आता है, तो कलेश को दूर रखना चाहिए। फिर जब भगवान गणेश खुद ही मेहमान हों, तो कलेश तो दूर की बात है इसका विचार भी आपके मन में नहीं आना चाहिए। गणपति स्थापना के दौरान आपको मन के भाव भी साफ रखने चाहिए और जितनी हो सके इन दिनों लोगों की मदद करनी चाहिए। पंडित जी कहते हैं, 'किसी से झूठ बोलना या फरेब करना, किसी भी सूरत में ठीक नहीं है। फिर भी मानव जाति से भूल तो हो ही जाती है। इसलिए आपको हर दिन ईश्‍वर से इस बात के लिए क्षमा मांगनी चाहिए कि जाने-अनजाने में अगर आपसे किसी का दिल दुखा हो तो वह आपको क्षमा करें।'

इसे जरूर पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2021: गणेश जी के स्‍वरूपों से जुड़े रोचक तथ्य जानें

what  not  to  do  during  ganpati  sthapna

घर पर न करें शोर 

आजकल का ट्रेंड है कि लोग जब घर पर गणपति रखते हैं, तो वह तेज आवाज में संगीत चलाते हैं और ढोल बजाते हैं। श्री गणेश जी की स्थापना में इन सबका कोई महत्व नहीं है। पंडित जी कहते हैं, 'यह केवल एक फैशन है। पूजा-पाठ का काम शांति से करना चाहिए न कि ध्वनि प्रदूषण फैला कर। गणेश जी आपके घर में शांति से रह सकें इसके लिए तेज आवाज में टीवी या लाउडस्पीकर न चलाएं।'

गणपति जी के भोजन का रखें खास ख्‍याल 

आप जितने दिन भी घर पर गणपति की स्थापना करें, उतने दिन उनके भोजन की व्यवस्था ठीक प्रकार से करें। ऐसा न हो कि आप पहले भोजन कर लें और फिर पूजा करें। पंडित जी कहते हैं, 'वैसे तो गणेश जी की स्थापना की है, तो दिन में 4 बार भोग जरूर लगाएं। अगर आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं, तो दिन में 2 बार अवश्य उन्हें भोग लगाएं। आपको ब्रह्म मुहूर्त में उठकर पूजा करने की जरूरत नहीं है। मगर इस बात का ध्यान रखें कि सुबह उठते ही आपको सबसे पहले स्नान करना है और गणेश जी की पूजा करनी है और उन्हें भोग लगाना है, फिर अपनी दिनचर्या शुरू करनी है।'

घर में नहीं होना चाहिए अंधेरा 

 गणपति जी की स्थापना जिस स्थान पर की है, वहां अंधेरा कभी नहीं होना चाहिए। अगर आप अखंड दीपक नहीं जला रहे हैं, तो आपको बिजली की व्यवस्था इस प्रकार से करनी चाहिए कि अंधेरा न हो।  

 

गणेश उत्सव की आप सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं। अगर आपने भी अपने घर पर गणपति जी की स्थापना की है, तो पंडित जी द्वारा बताई गई बातों का अवश्य ध्यान रखें। इसी तरह और भी धर्म से जुड़े आर्टिकल पढ़ने के लिए देखती रहें हरजिंदगी। 

Image Credit: Freepik