• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

कौन हैं बालमणि अम्मा जिनकी याद में गूगल ने बनाया शानदार डूडल

बालमणि अम्मा के लिए आज गूगल ने खास डूडल तैयार किया है। इस आर्टिकल में जानिए बालमणि अम्मा के बारे में विस्तार से। 
author-profile
  • Geetu Katyal
  • Editorial
Published -19 Jul 2022, 15:29 ISTUpdated -19 Jul 2022, 16:04 IST
Next
Article
google doodle celebrates birthday of balamani amma

सर्च इंजन गूगल पर आज बालमणि अम्मा का डूडल नजर आ रहा है। इस डूडल को केरल के आर्टिस्ट देविका रामचंद्रन ने तैयार किया है। आप सोच रहे होंगे कि आखिर बालमणि अम्मा है कौन? दरअसल बालमणि अम्मा को मलयालम साहित्य की दादी के नाम से जाना जाता है। आज उनकी 113वीं बर्थ एनिवर्सरी है। इसी लिए गूगल ने उनके लिए डूडल बनाया है। बालमणि अम्मा को उनकी कविताओं के लिए ढेर सारे पुरस्कारों ने नवाजा गया था और आज भी साहित्य जगत में वो अपनी एक अलग जगह रखती हैं। आइए जानते हैं बालमणि अम्मा के बारे में विस्तार से। 

कौन हैं बालमणि अम्मा

बालमणि अम्मा का जन्म 1909 में केरल के त्रिशूर जिले में हुआ था। उन्हें साहित्यिक कार्यों के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था। पद्म विभूषण के साथ-साथ बालमणि अम्मा को सरस्वती सम्मान से भी नवाजा गया था। आपको बता दें कि बालमणि अम्मा की बेटी कमला दास हैं जिन्हें 1984 में साहित्य के नोबेल पुरस्कार के लिए नॉमिनेट किया गया था। बालमणि अम्मा की पहली कविता कोप्पुकाई 1930 में प्रकाशित हुई थी। उन्होंने अपनी रचनाओं में पौराणिक पात्रों  को अपनाकर महिलाओं का शक्तिशाली रूप प्रदर्शित किया है। यही कारण है उन्हें मातृत्व की कवयित्री के रूप में भी जाना जाता है।  बालमणि अम्मा को उनकी कविताओं के लिए ही मुथस्सी यानी दादी की उपाधि दी गई है। 

इसे भी पढ़ेंः कौन है दृष्टि मिश्रा? 5 साल की उम्र में निकाल लेती हैं सांतवीं की गणित के हल

बिना स्कूली शिक्षा के बने कवयित्री

एक रिपोर्ट के अनुसार बालमणि अम्मा ने स्कूली शिक्षा प्राप्त नहीं की थी। इसके बावजूद भी उन्होंने अनुवाद सहित 20 से अधिक कविताओं का संकलन प्रकाशित किए। बालमणि अम्मा की मृत्यु 2004 में हुई थी। उन्होंने साहित्य के लिए ढेर सारा काम किया। यही कारण है कि आज लोग उन्हें बालमणि अम्मा के नाम से जानते हैं। वहीं गूगल ने उनके लिए जो डूडल बनाया है उसमें भी वह कागज पर कुछ लिखती नजर आ रही हैं।  वहीं लोगों को उनका डूडल बहुत पसंद आ रहा है। कोच्ची इंटरनेशनल बुक फेयर बालमणि अम्मा के नाम से पुरस्कार भी देता है। (कौन है दृष्टि मिश्रा?)

इसे भी पढ़ेंः 7000 रुपए महीने में भी पढ़ सकते हैं विदेश में, इस देश में मिलती है स्टूडेंट्स को आसानी से स्कॉलरशिप

बालमणि अम्मा साहित्य जगत में अपनी एक अलग जगह और बड़ा नाम रखती है। उनके बारे में जानकर आपको कैसा लगा? यह हमें फेसबुक के कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा। 

Recommended Video

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Photo Credit: Google Doodle

 

 

 

 

 

 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।