• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

कौन है दृष्टि मिश्रा? 5 साल की उम्र में निकाल लेती हैं सांतवीं की गणित के हल

5 साल की दृष्टि मिश्रा सांतवीं की गणित के प्रश्नों का आराम से हल निकाल लेती हैं। जानिए उनके बारे में। 
author-profile
  • Geetu Katyal
  • Editorial
Published -19 Jul 2022, 13:23 ISTUpdated -19 Jul 2022, 13:49 IST
Next
Article
god gifted child drishti mishra

कुछ बच्चे बहुत छोटी उम्र में भी बहुत कुछ सीख जाते हैं। दृष्टि मिश्रा के बारे में जानकर आपको भी ऐसा लगेगा क्योंकि वह गणित के प्रश्नों का हल निकालने में माहिर हैं। आपको बता दें कि दृष्टि मिश्रा पहली कक्षा का स्टूडेंट हैं और वाराणसी की रहने वाली हैं। दृष्टि की गणित पर इतनी अच्छी पकड़ है कि वो अपने से बड़ी उम्र की लड़कियों को भी पढ़ा सकती हैं। इसके साथ-साथ उनका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है। यही कारण है कि लोग उन्हें लोग गाड गिफ्टेड चाइल्ड कहकर पुकारते है। आइए आपको बताते हैं वाराणसी की रहने वाली दृष्टि मिश्रा के बारे में विस्तार से।

गॉड गिफ्टेड चाइल्ड हैं दृष्टि मिश्रा

दृष्टि मिश्रा वाराणसी की पब्लिक स्कूल में पहली क्लास में पढ़ती हैं लेकिन उन्हें छठी और सांतवीं क्लास के गणित के प्रश्न हल करने आते हैं। यही कारण है कि वो अपने गांव की लड़कियों को गणित सिखाती हैं। इसके अलावा दृष्टि को सभी देश, उनकी राजधानी और  झंडों की पहचान करने के लिए इंडिया वर्ल्ड ऑफ रिकॉर्ड ने भी सम्मानित किया हुआ है। उन्होंने यह रिकॉर्ड 2021 में मनाया था। एक रिपोर्ट के अनुसार, दृष्टि मिश्रा के पिता ने बताया कि वह कक्षा में अन्य बच्चों की तुलना में हमेशा तेज थी। अगर कोई उसे पढ़ाने की कोशिश करता है तो वह हर चीज के बारे में बहुत सारे सवाल पूछती है। उन्होंने बताया कि जब दृष्टि यूकेजी में पढ़ रही थी, तब तीसरी और चौथी क्लास के गणित के प्रश्न हल कर लेती थी। (GST का नियम लागू होने पर महंगी होंगी ये चीजें)

इसे भी पढ़ेंः क्या एक बार फिर मम्मी बनने वाली हैं करीना कपूर? जानिए क्यों कहा जा रहा है ऐसा

आईएएस बनना चाहती हैं दृष्टि मिश्रा

दृष्टि मिश्रा आईएएस बनना चाहती हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक दृष्टि के पिता ने बताया कि वह अभी से दुनिया को बदलने का सपना देखती है। वह समाज के लिए अच्छा करना चाहती है और लड़कियों को भी पढ़ाती है जिनके पास शिक्षा तक पहुंच नहीं है। दृष्टि महिला अधिकारों और सशक्तिकरण के बारे में काम करना पसंद करती है। दृष्टि बाकी बच्चों की तरह नहीं है इसलिए उन्हे कुछ समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। रिपोर्ट के अनुसार दृष्टि की शैक्षणिक आवश्यकताओं को समझने के लिए उनके पिता ने घर-घर जाकर ट्यूटर ढूंढा था। दृष्टि रोजाना 4 से 5 घंटे की पढ़ाई करती है। छोटी सी बच्ची से हर किसी को इंस्पिरेशन लेनी चाहिए। (IAS अधिकारियों को मिलती हैं ये सुविधाएं)

इसे भी पढ़ेंः क्या ब्रह्मास्त्र मूवी के दूसरे पार्ट में अपनी पत्नी और एक्स के बीच में फंसे दिखेंगे रणबीर कपूर? पढ़ें पूरी खबर

अक्सर माता-पिता बच्चों की पढ़ाई के लिए बहुत चिंतित रहते हैं लेकिन दृष्टि मिश्रा कुछ अलग है। वो खुद पढ़ने में बहुत दिलचस्पी रखती हैं। आपको दृष्टि के बारे में जानकर कैसा लगा? यह हमें फेसबुक के कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा। 

Recommended Video

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Photo Credit: India Book of Records/Twitter

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।