• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

Ganesh Puja 2022: जानिए क्यों 10 दिन बाद ही होता है गणेश विसर्जन?

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि क्यों 10 दिनों के बाद ही होता है गणेश विसर्जन।  
author-profile
Published -02 Sep 2022, 11:22 ISTUpdated -10 Sep 2022, 16:15 IST
Next
Article
ganesh visarjan after  days of ganesh puja

देश के कई राज्यों में गणेश उत्सव को बड़े ही उत्साह और धूमधाम के साथ लोग मनाते हैं। हर साल भाद्रपद चतुर्थी तिथि पर गणेश जी का जन्मोत्सव मनाया जाता है। लोग भक्ति भाव से इस त्योहार को मनाते हैं।

गणेश चतुर्थी के बाद गणेश जी की 10 दिन तक विधि विधान के साथ पूजा की जाती है फिर 10 दिनों के बाद गणेश विसर्जन किया जाता है लेकिन आखिर क्यों 10 दिन बाद ही गणेश विसर्जन किया जाता है? इस लेख में हम आपको इसके पीछे की एक पौराणिक कथा को बताएंगे तो अंत तक यह लेख जरूर पढ़ें।

महाभारत से जुड़ा है खास कारण

 ganesh puja

पौराणिक कथा के अनुसार भगवान गणेश जी का जन्म भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष (जिसे गणेश चतुर्थी भी कहते हैं)। माना जाता है कि गणेश चतुर्थी के दिन से ही महाभारत को लिखने का कार्य शुरू किया गया था। आप यह तो जानते ही होंगे कि महर्षि वेदव्यास ने महाभारत की रचना कि थी।

आपको बता दें कि महर्षि वेदव्यास ने महाभारत की रचना के लिए भगवान गणेश जी से इसे लिखने के लिए प्रार्थना की थी। लेकिन गणेश जी ने उनके आगे यह शर्त रख दी थी कि वह अगर लिखना शुरू करेंगे तो अपनी कलम को नहीं रोकेंगे। इसके साथ ही भगवान गणेश जी ने यह भी कहा था कि अगर उनकी कलम रुक गई तो वह वहीं पर लिखना बंद कर देंगे।

जिसके बाद महर्षि वेदव्यास ने गणेश जी से कहा था कि 'भगवान गणेश आप विद्वानों में सबसे आगे हैं और मैं साधारण ऋषि हूं'। उन्होंने यह भी कहा था कि 'यदि मुझसे किसी श्लोक में कोई गलती हो जाए तो आप उसे ठीक करते हुए लिख दीजिएगा।

 जरूर पढ़ें: गणपति बप्‍पा की पूजा करने से मिलते हैं ये 8 लाभ, पूरी होती है सारी मनोकामना

इसके बाद महाभारत लेखन शुरू हुआ था। महाभारत का लिखने का कार्य लगातार 10 दिनों तक चला था। अनंत चतुर्थी के दिन जब महाभारत लेखन का कार्य गणेश जी ने पूर्ण किया तो उनके शरीर पर धूल-मिट्टी जम चुकी थी। तब गणेश जी ने सरस्वती नदी में स्नान करके अपने शरीर की धूल-मिट्टी साफ की थी। यही कारण है कि गणपति स्थापना 10 दिन के लिए ही की जाती है। फिर 10 दिनों के बाद अनंत चतुर्दशी पर गणेश जी की मूर्ति का विसर्जन करते हैं।

गणेश उत्सव पर मन हो जाता है साफ

ऐसा माना जाता है कि गणेश उत्सव के 10 दिनों तक शांत मन के साथ रहना चाहिए। आपको बता दें कि ऐसी मान्यता भी है कि जिस तरह गणेश जी का मैल साफ हुआ था उसी तरह से हमारे मन पर लगे मैल नाकारात्मक विचार  को हटाकर उसे साफ करने का समय इस त्योहार में आता है।

इसे जरूर पढ़ें: पूजन विधि और शुभ मुहूर्त के साथ जानें कैसे करनी है आपको गणपति जी की स्थापना

यह भी माना जाता है कि सच्ची श्रद्धा और विधि-विधान से भगवान गणेश जी की पूजा करने से जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं।

 

 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image credit- unsplash/freepik

 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।