• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Shilpa
  • Editorial

क्यों मनाई जाती है आषाढ़ की मासिक शिवरात्रि, जानें तिथि, महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

आषाढ़ का महीने को कामना का महीना कहा जाता है। आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त के बारे में।   
Published -17 Jun 2022, 16:50 ISTUpdated -17 Jun 2022, 17:06 IST
author-profile
  • Shilpa
  • Editorial
  • Published -17 Jun 2022, 16:50 ISTUpdated -17 Jun 2022, 17:06 IST
Next
Article
ashadha month masik shivratri  c

Verified By Astrologer Expert Prashant Mishra 

आषाढ़ का महीना हिंदू कैलेंडर के अनुसार चौथा महीना होता है। ऐसी मान्यता है कि इस महीने में देवी-देवताओं की कृपा बनी रहती है। इस महीने को कामना पूर्ति का महीना कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस महीने पूजा-पाठ करने से भोलेनाथ सारी मनोकामना पूरी कर देते हैं। ऐसे में आषाढ़ माह की शिवरात्रि बहुत ही खास होती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन दान करना शुभ माना जाता है। आइए जानते हैं आषाढ़ माह की मासिक शिवरात्रि की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त। 

आषाढ़ का महीना क्यों है खास?

ashadha month masik Shivratri puja vidhi in hindi ()

हर महीने मासिक शिवरात्रि होती है लेकिन आषाढ़ मास की शिवरात्रि बेहद खास होती है। ऐसा कहा जाता है कि इस महीने भोलेनाथ की पूजा करने से मनोकामना पूरी होती है। इस माह मासिक शिवरात्रि 27 जून 2022 को है। कहा जाता है कि इस दिन विधि-विधान से पूजा पाठ करने से जीवन में सुख-शांति बनी रहती है। 

मासिक शिवरात्रि तिथि

आषाढ़ मास की शिवरात्रि कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी 27 जून को सुबह 3 बजकर 25 मिनट पर है। यह अलगे दिन 28 जून को सुबह 5 बजकर 52 मिनट पर खत्म होगा। ऐसे में व्रत रखने का सबसे उत्तम दिन सोमवार 27 जून का है। 

पूजा का महत्व 

ashadha month masik Shivratri puja vidhi in hindi ()

मासिक शिवरात्रि का व्रत बेहद खास होता है। इस दिन ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करने से सभी तरह  की मनोकामना पूरी होती है। वहीं जिन लोगों की शादी में बाधा आ रही है उनके लिए इस दिन व्रत रखना बेहद फलदायी होता है। (घर में सुख शांति के लिए उपाय)

पूजा विधि 

शिवरात्रि के दिन सुबह उठकर सबसे पहले स्नान कर लें। इसके बाद साफ कपड़े पहन घर के मंदिर में पूजा करें। इसके बाद घर के पास जाकर मंदिर में शिवलिंग पर गंगा जल, दूध से अभिषेक करें। इसके बाद शिव जी को बेल पत्र चढ़ाएं। वहीं जिन लोगों की शादी में अड़चने आ रही है वह मां पार्वती और भोलेनाथ की एकसाथ पूजा करें। (शिवरात्रि पर कैसे करें पूजा)

इसे जरूर पढ़ेंः व्रत के खाने में हल्दी खाना चाहिए या नहीं, जानें एक्सपर्ट से सही जवाब

मासिक शिवरात्रि 2022 शुभ मुहूर्त 

ashadha month masik Shivratri puja vidhi in hindi

मासिक शिवरात्रि का शुभ मुहूर्त रात को 12 बजकर 04 मिनट से अगले दिन 12 बजकर 44  मिनट तक है। सुबह 5 से 6 बजे तक का मुहूर्त बेहद शुभ है। 

इसे जरूर पढ़ेंः क्यों कहा जाता है कि पक्षियों को पानी पिलाने से मिलता है पुण्य, पंडित जी से जानें

उपाय

ऐसा माना जाता है कि एक बार भोलेनाथ प्रसन्न हो जाए तो जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सोमवार के दिन आप सफेद, पीला, हरा और लाल रंग का वस्त्र जरूर धारण करें। इस दिन सफेद चीजों का दान करना अच्छा माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि दान करने से भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं। 

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।  

Image Credit: freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।