• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Astro Tips: आषाढ़ के महीने में किए गए ये खास उपाय बदल देंगे आपकी किस्मत

अगर आप आषाढ़ के महीने में घर की सुख समृद्धि बढ़ाना चाहती हैं तो यहां बताए कुछ उपाय आपके लिए कारगर हैं।  
author-profile
Published -20 Jun 2022, 15:12 ISTUpdated -20 Jun 2022, 16:02 IST
Next
Article
asadh month astro tips and remedies

हिंदू धर्म में आषाढ़ के महीने को कामना पूर्ति का महीना कहा जाता है। इस साल आषाढ़ महीने की शुरुआत 15 जून 2022 को हो गई है और यह माह 13 जुलाई को ख़त्म होगा। सनातन धर्म में इस माह को बहुत ही पवित्र माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान विष्णु इसी माह से चार महीने के लिए पृथ्वी लोक को छोड़कर क्षीर सागर में योग निद्रा के लिए चले जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि उसके चार महीने के बाद पृथ्वी लोक की देखभाल भगवान शिव करते हैं।

इस मास में कई पर्व जैसे योगिनी एकादशी, देवशयनी एकादशी, प्रदोष व्रत, मासिक शिवरात्रि आते हैं जिनका विशेष महत्व है। जगन्नाथ यात्रा भी इसी माह में होती है। इसी माह में गुप्त नवरात्रि भी आती है। इस माह में वर्षा ऋतु प्रारम्भ हो जाती है। इसलिए ऐसी मान्यता है कि इस पूरे महीने में यदि आप ज्योतिष के कुछ ख़ास उपाय आजमाती हैं तो आपके जीवन में  लाभ होगा। आइए ज्योतिषाचार्य एवं वास्तु विशेषज्ञ डॉ.आरती दहिया जी से जानें कुछ ज्योतिषीय उपायों के बारे में।

पूजा पाठ का है विशेष महत्व

आषाढ़ के महीने में जप, तप, पूजा उपासना और स्नान दान का बड़ा ही महत्व है। ऐसी मान्यता है कि यदि इस दौरान सच्चे मन और पूर्ण श्रद्धा से जप तप किया जाए तो सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। ऐसा माना जाता है की इस माह में जो भी मनोकामना की जाती है वह जरूर पूरी होती है। इसलिए पूरी श्रद्धा भाव से पूजन करें।

इसे जरूर पढ़ें:शाम की पूजा के समय रखें इन बातों का ध्यान, चमक उठेगी किस्मत

भगवान शिव एवं विष्णु की पूजा करें

lord vishnu puja

आषाढ़ माह में भगवान विष्णु के साथ भगवान शिव की पूजा का भी उतना ही महत्व है। क्योंकि भगवान विष्णु जब चार महीने के लिए योग निद्रा में चले जाते हैं तब उस समय भगवान शिव ही सारी पृथ्वी का ध्यान रखते हैं। इसलिए यदि आप इस माह विष्णु जी के साथ भगवान शिव जी की पूजा भी करते है तो ये विशेष फलदायी होता है।

aarti dahiya expert inside

दान का महत्व

शास्त्रों में आषाढ़ मास को ध्यान, योग और अध्ययन के लिए उत्तम माना गया है। इस माह में दान पुण्य का भी बहुत महत्व है। इस पूरे महीने में किसी गरीब या जरूरतमंद को गेहूं, चावल, तिल, छाता, चप्पल, आंवला  दान में देना अति शुभ होता है।

इसे जरूर पढ़ें:Yogini Ekadashi 2022: जून के महीने में कब पड़ेगी योगिनी एकादशी, पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व जानें

Recommended Video


गुप्त नवरात्रि

साल में चार नवरात्रि आती है जिसमे से दो गुप्त नवरात्रि होती हैं। आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से गुप्त नवरात्रि की शुरुआत होती है। इस दौरान मां दुर्गा एवं काली की पूजा करने का प्रावधान है। यह माह विशिष्ट लोगों की साधना के लिए होता है।

आषाढ़ी अमावस्या

pitron ka shradh

वैसे तो हर माह में अमावस्या के दिन दान पुण्य किया जाता है लेकिन आषाढ़ माह की अमावस्या का विशेष महत्व है। आषाढ़ की अमावस्या पितरों के श्राद्ध, तर्पण और दान के लिए उत्तम मानी जाती है। ऐसा करने से भक्तों को भगवान का विशेष वरदान मिलता है।  इस माह में व्रत रखने और पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

इस प्रकार यदि आप पूरे आषाढ़ के महीने में यहां बताए गए उपायों को आजमाएंगे तो ये आपके लिए अत्यंत लाभकारी हो सकता है और आपको सभी पापों से मुक्ति मिल सकती है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and shutterstock.com

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।