• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

राजस्‍थान की गरासिया जनजाति है कुछ खास ,जहां लिव-इन रिलेशन में रहते हैं लोग और बच्‍चे होने पर करते हैं शादी

राजस्थान की एक ऐसी जनजाति जिसमें शादी से पहले ही बच्चा करने की प्रथा है और जहां महिलाओं को दिया जाता है ऊंचा स्थान। 
author-profile
Next
Article
garasiya tribe lifestyle

हमारे देश के न जाने कितने हिस्सों में अलग तरह की जनजातियां रहती हैं। सभी के रहन सहन का तरीका और पहनने ओढ़ने का ढंग दूसरों से बिल्कुल अलग होता है। जहां कुछ जनजातियों में अपना विवाह खुद के चुने हुए साथी से करने का रिवाज है, वहीं कुछ जनजातियां ऐसी हैं जिनमें विवाह किए बिना ही एक साथ रहने की परंपरा है। ऐसी भी कुछ जनजातियां भी हैं जो लिव इन रिलेशनशिप में रहना पसंद करती हैं और बच्चों के जन्म के बाद ही शादी का निर्णय लेती हैं। ऐसी ही एक जनजाति है राजस्थान की गरासिया आदिवासी जनजाति।

इस जनजाति ने अपनी जीवन शैली के कारण भारतीय संस्कृति में प्रमुख स्थान प्राप्त किया है। गरासिया आदिवासी समुदाय ने राजस्थान राज्य ही नहीं बल्कि बाहर के राज्यों का भी ध्यान अपनी ओर केंद्रित किया है। गरासिया आदिवासी समुदाय को राजस्थान राज्य का तीसरा सबसे बड़ा आदिवासी समूह माना जाता है। इस समुदाय के लोग मूल रूप से इस राज्य के विभिन्न हिस्सों जैसे सिरोही की कोटरा, आबू रोड तहसील, पाली जिले की बाली और देसूरी तहसील, उदयपुर की गोगुंडा और खेरवाड़ा तहसीलों में रहते हैं। आइए जानें इस जनजाति से जुड़ी कुछ रोचक बातें। 

गरासिया जनजाति का इतिहास 

garasia tribes history

गरासिया' शब्द संस्कृत के 'ग्रास' शब्द से बना है जो किसी पदार्थ को दर्शाता है। इतिहास कहता है कि अलाउद्दीन खिलजी से पराजित होने के बाद, राजपूतों ने भील जनजातियों के पहाड़ी इलाकों में उड़ान भरी। गरासियाओं ने भील जनजातियों पर अधिकार कर लिया और गरासिया आदिवासी समुदाय के रूप में जाना जाने लगा। उनका मध्यकालीन राजपूत समुदाय से जुड़ाव है। इसके अलावा, गरासिया जनजातियों को लोकप्रिय रूप से 'गिरे हुए राजपूत' के रूप में जाना जाता है और लोकप्रिय धारणा के अनुसार ये गरासिया जनजाति राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध चौहानों के वंशजों के रूप में सामने आयी। कुछ लोग कहते हैं कि गरासिया जनजाति राजपूतों के वंशज हैं जिन्होंने एक भील महिला से शादी की थी। 

इसे जरूर पढ़ें:जानें भारत के अलग-अलग जनजातियों में लिव-इन रिलेशनशिप की अजीबो-गरीब परंपरा

लिव इन रिलेशनशिप को देते हैं प्राथमिकता 

गरासिया जनजाति का सबसे दिलचस्प पहलू यह है कि वे शादी से पहले ही इसके सदस्यों के बीच लिव-इन रिलेशनशिप में रहने की अनुमति देते हैं। वार्षिक गौर मेला, जनजाति के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है जहां जोड़े अपनी पसंद के भागीदारों के साथ भाग जाते हैं। उनके लौटने के बाद, लड़के के परिवार को दुल्हन के परिवार को एक राशि का भुगतान करना होता है; जिसके बाद वे विवाह करके एक साथ रहते हैं। इस जनजाति की खास बात यह है कि महिलाएं किसी अन्य मेले में एक नए लिव-इन पार्टनर की तलाश कर सकती हैं, जिससे महिला के पूर्व साथी को अधिक कीमत चुकाने की उम्मीद की जाती है। भारत की अन्य जगहों के विपरीत, गरासिया समुदाय में महिलाएं पुरुषों की तुलना में ज्यादा ऊंचा स्थान रखती हैं और शादी के सभी खर्चों को वहन करने की जिम्मेदारी पुरुष पर होती है।

बच्चे के जन्म के बाद होती है शादी 

garasia tribe wedding

इस जनजाति की एक और ख़ास बात ये है कि महिलाएं अपनी पसंद के पार्टनर का चुनाव करके उनके साथ लिव इन में तो रहती ही हैं और उनसे शादी तभी करती हैं जब उन्हें बच्चा हो जाता है और वो पार्टनर के साथ खुश रहती हैं। यदि उन्हें किसी भी तरह की असंतुष्टि होती है तो वो बेजिझक रिश्ते को तोड़ भी सकती हैं। ऐसा सिर्फ इसलिए होता है क्योंकि इस जनजाति में महिलाएं ज्यादा ऊंचा दर्जा रखती हैं और इसी वजह से इस जनजाति में कभी भी रेप या महिलाओं के साथ मारपीट जैसी कोई घटना नहीं होती है। यही नहीं यदि लिव इन में रहते हुए उन्‍हें बच्‍चें नहीं होते हैं तो वो दुसरे पार्टनर की तलाश भी कर सकती हैं। (भारत के अलग राज्यों में पीरियड्स से जुड़े रीति-रिवाज)

जीवन यापन के लिए करते हैं खेती 

भले ही पूरे गरासिया आदिवासी समुदाय को कई कुलों में विभाजित किया जा सकता है, लेकिन वे शायद ही कभी आपस में एकता बनाए रखते हैं। अपने जीवन यापन को बनाए रखने के लिए गरासिया जनजाति के लोग खेती करते हैं। गरासिया जनजातियों की खान-पान की आदतें भी राज्य के किसी अन्य कृषि आदिवासी समुदाय की परंपरा का पालन करती हैं। मक्का सभी गरासिया परिवारों द्वारा उगाया जाने वाला मुख्य भोजन है। इसके अलावा वे अपने आहार में चावल, ज्वार और गेहूं भी शामिल करते हैं। रबड़ी को गरासिया लोगों का पसंदीदा भोजन माना जाता है। वे अपने सभी शुभ अवसरों के दौरान लपसी, मालपुआ, चूरमा आदि तैयार करते हैं। गरासिया जनजाति ज्यादातर शाकाहारी होती हैं और उन्हें किसी प्रकार की शराब की कोई लत भी नहीं होती है।

इसे जरूर पढ़ें:ओडिशा का एक अनोखा फेस्टिवल जहां लड़कियों के पीरियड्स शुरू होने पर होता है सेलिब्रेशन

Recommended Video


फैशन में भी आगे है गरासिया जनजाति 

garasia fashion tips

गरासिया आदिवासी समुदाय द्वारा पहने जाने वाले कपड़े काफी स्टाइलिश होते हैं। गरासिया आदिवासी समुदाय के पुरुषों और महिलाओं दोनों ने अपने पहनावे की अलग शैली विकसित की है। चांदी के कई आभूषण इनके फैशन में हैं। गरासिया समुदाय की महिलाएं आमतौर पर झुल्की,(ट्रेडिशनल ड्रेसेस के साथ ट्राई करें राजस्थान के ये गहने)घेरदार घाघरा और ओढ़नी पहनती हैं। वहीं पुरुषों को उनकी लाल या सफेद पगड़ी के लिए जाना जाता है जिसे साफा या पोटियु भी कहा जाता है। पुरुषों की पोशाक में अंगरखी, कुर्ता और धोती शामिल हैं। गरासिया महिलाओं में गोदना भी काफी प्रचलित है।

इस प्रकार गरासिया जनजाति कई अन्य जनजातियों से बिल्कुल अलग स्थान रखती हैं और इस समुदाय में चली आ रही प्रथाएं इन्हें दूसरों से अलग बनाती हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: shutterstock,pixabay, tripoto.com

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।