ये गर्मियों का समय है और अब धीरे-धीरे वो मौसम आने वाला है जिसमें घर के बाहर निकलना तो दूर घर के अंदर बैठना भी बहुत मुश्किल हो जाता है। गर्मी इतनी बढ़ जाती है कि हमें ये समझ नहीं आता कि क्या किया जाए। ऐसे समय में कूलर भारतीय घरों की सबसे बड़ी जरूरत बन जाते हैं। भारत में जहां 45 डिग्री सेल्सियस से भी ज्यादा तापमान हो जाता है वहां कूलर एक अहम गैजेट होता है। 

गर्मियों के समय कूलर खरीदना भी सही होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कूलर कैसे खरीदा जाए? दरअसल, कई बार हम ऐसी चीज़ें खरीदते समय अपनी जरूरत को नजरअंदाज़ कर देते हैं और या तो काफी बड़ा, काफी छोटा या फिर ऐसा कूलर ले आते हैं जो हमारे कमरे या घर के हिसाब से परफेक्ट नहीं होता। तो क्यों न ऐसे में हम कुछ खास बातें जान लें जो हमारे लिए कूलर बाइंग गाइड बन जाएं। 

सबसे पहले चुनें सही टाइप-

आपने कूलर को लेकर कुछ तय पैमाने सेट किए होंगे। पर्सनल या रूम कूलर लेना है या फिर डेजर्ट कूलर ये आपके कमरे के साइज और उसकी जगह पर निर्भर करता है। सही तरह का कूलर ही आपके कमरे को ठंडा कर पाएगा। सीधी सी बात है कि अगर आपका कमरा बहुत बड़ा है तो डेजर्ट कूलर चुनें (300 स्क्वेयर फिट से बड़ा), अगर आपका कमरा उससे छोटा है तो पर्सनल कूलर चुनें। ये सही तरीका होगा अपने कूलर को खरीदने का। 

साथ ही मौसम का भी ध्यान रखें अगर आप ड्राई समर्स वाले इलाकों में रहते हैं तो डेजर्ट कूलर लें और अगर ह्यूमिड जगह पर रहते हैं तो पर्सनल कूलर लें। 

air cooler fan

इसे जरूर पढ़ें- सिर्फ सिरके और नींबू की मदद से की जा सकती है कूलर की पूरी सफाई, जानें कैसे 

कमरे के साइज के साथ कूलर की जगह भी निर्धारित करें-

कुछ कमरों की बनावट ऐसी होती है कि वहां बाहर कूलर रखने की जगह नहीं होती। ऐसे कमरों में डेजर्ट कूलर्स नहीं रखे जा सकते क्योंकि वो अंदर के तापमान को ठंडा नहीं करेंगे बल्कि इसे ह्यूमिड कर देंगे। हमेशा ऐसा कूलर चुनें जो आपके कमरे के डेकोर के हिसाब से सेट हो जाता हो। देखकर सबसे बड़ा कूलर लेने से फायदा नहीं है बल्कि आपको अगर कमरे के अंदर ही कूलर रखना है तो पर्सनल कूलर या फिर टावर कूलर बेस्ट होंगे। 

अपने कूलर के वाटर टैंक को ध्यान से चुनें-

अगर आपका कमरा बड़ा है तो 40 लीटर से बड़ा वाटर टैंक वाला कूलर लें, मीडियम साइज के लिए 25 लीटर और छोटे कमरे के लिए 15 लीटर वाला कूलर लें। जितना बड़ा कमरा होगा उतना बड़ा कूलर का टैंक बेस्ट होगा। 

कितनी बिजली खर्च होती है कूलर में?

एक सवाल जो कूलर के सेल्समैन से हमेशा पूछना चाहिए वो ये है कि आखिर इस कूलर को चलाने में कितनी बिजली खर्च होती है और क्या ये इनवर्टर के साथ चलता है या नहीं। अगर आपका कूलर ज्यादा बिजली खर्च करता होगा तो वो पावर कट में इनवर्टर के साथ नहीं चल पाएगा। साथ ही आपका बिजली का बिल भी ज्यादा आएगा।  

air cooler buying guide

वो फीचर्स जिनका रखना है बहुत ज्यादा ख्याल-

आपको कूलर के कुछ बेसिक फीचर्स के बारे में पूछना चाहिए जो आपकी नींद में खलल न डालें जैसे- 

ऑटो-फिल फंक्शन है या नहीं: कई कूलर्स अब ऑटो-फिल फंक्शन के साथ आते हैं जिनमें बार-बार पानी भरने की जरूरत नहीं होती है। ऐसे कूलर्स ज्यादा मेहंगे होते हैं, लेकिन बार-बार भरने और कम पानी के कारण मोटर डैमेज होने से बचाते हैं।  

कितना आवाज़ करता है कूलर: नागपुरी कूलर या टीन वाले कूलर ज्यादा आवाज़ करते हैं और आपको एक बार जाकर पता कर लेना चाहिए।  

कूलिंग पैड्स: कूलिंग पैड्स कई तरह के आते हैं। खस-खस वाले पैड्स अलग तरह के होते हैं और हर साल बदलने होते हैं। हनीकॉम्ब मेश अलग तरह के होते हैं। उन्हें ज्यादा बार बदलने की जरूरत नहीं होती। तीसरे होते हैं वूल वुड पैड्स जिन्हें ज्यादा मेंटेनेंस लगती है।  

आइस पैड्स: कई कूलर्स में अब आइस चेंबर की सुविधा दी जाने लगी है ये कूलर्स पानी को तुरंत ठंडा कर देते हैं, लेकिन अगर आपको जरूरत न हो तो इस फीचर वाले कूलर लेने की जरूरत नहीं। ये भी लगभग वैसा ही काम करते हैं जैसे नॉर्मल कूलर। 

air cooler remote

रिमोट कंट्रोल: अब रिमोट कंट्रोल और मॉस्किटो फिल्टर वाले कूलर आने लगे हैं और अगर आपके घर में मच्छर ज्यादा होते हैं तो यकीनन ये देख लें कि ये कूलर सुविधाजनक है या नहीं।  

इसे जरूर पढ़ें- AC या Cooler की खरीदारी से पहले इन जरूरी बातों का रखें ध्यान 

आपके लिए ये बहुत जरूरी है कि अपनी जरूरत के हिसाब से कूलर चुना जाए। कई बार लोग ज्यादा फीचर्स देखकर कूलर ले लेते हैं और वो लगभग उन्हें उतना ही महंगा पड़ता है जितना एसी पड़ता है। ये सही नहीं है। आपको सिर्फ जरूरत से ज्यादा खर्च कूलर पर नहीं करना चाहिए। हां, हनी कॉम्ब मेश और ऐसे अन्य फीचर वाले कूलर जरूर लें ताकि बार-बार मेंटेनेंस की जरूरत न पड़े, लेकिन इससे ज्यादा नहीं।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।