देश के किसी भी हिस्से में दुर्गा पूजा को लेकर उत्साह और उमंग हो न हो लेकिन, वेस्ट बंगाल एक ऐसा राज्य है जहां हर साल दुर्गा पूजा में कुछ न कुछ खास ज़रूरत होता है। कभी मूर्ति को मजदूर मां का रंग दिया जाता है, तो कभी दुर्गा मां दुश्मन को मार रही होती है। लेकिन, वेस्ट बंगाल में इस बार कुछ बेहद ही अनोखा होना वाला है। जी हां, इस बार वेस्ट बंगाल में एक पूजा समिति चार महिला पुजारियों के एक समूह से दुर्गा पूजा-पाठ कराने का फैसला लेकर एक नया अध्याय स्थापित करने जा रही है, तो आइए इससे संबंधित और जानकारियों के बारे में जानते हैं।

दरअसल, पिछले साल के अंत में वेस्ट बंगाल शहर की 66 पल्ली पूजा समिति के मुख्य पुजारी का निधन हो गया था। मुख्य पुजारी के निधन के बाद यह सोचा गया कि अगली बार पूजा-पाठ का जिम्मा कौन लेगा। ऐसे में पूजा-पाठ की स्थापित परंपरा से ऊपर उठकर यह तय किया गया कि इस बार कोई महिला पूजा-पाठ कराएंगी। जिसके बाद इन चार महिलाओं को इस शुभ काम के लिए चुना गया। 

women durga puja and rituals in west bengal inside

इसे भी पढ़ें: इस विधि से लगाएं लड्डू गोपाल को भोग, मिलेंगे अद्भुत फल

समिति के इस फैसले को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि दुर्गा की पूजा-पाठ करने के लिए महिलाओं का चयन बेहद ही बेहतर है और वो इंतजार में है कि कब दुर्गा पूजा आए। लोगों को मानना है कि इस नई परंपरा को अपनाने का मतलब है कि महिला सिर्फ घर ही नहीं बल्कि एक बेहतरीन पंडित भी बन सकती है। (नवरात्रि में क्यों करते हैं कन्या पूजन?)

Recommended Video

66 पल्ली पूजा समिति

women durga puja and rituals in west bengal inside

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए 66 पल्ली पूजा समिति के प्रमुख ने कहा कि 'सभी चार महिलाएं विद्वान हैं, वे धर्मग्रंथों की ज्ञाता हैं। सभी अपने-अपने फील्ड में विद्वान हैं। वो सभी अपने-अपने क्षेत्रों में प्राध्यापक हैं'।

इसे भी पढ़ें: Weekly Horoscope: राशि अनुसार जानें कैसा बीतेगा यह सप्‍ताह


महिलाओं के नाम 

women mane durga puja and rituals in west bengal inside

समिति ने उन चारों महिलाओं का नाम भी जारी किया है जो इस साल दुर्गा पूजा करने वाली है। इन चार महिलाओं का नाम- नंदिनी भौमिक और उनकी तीन सहयोगी रूमा, सेमांतो और पुवलोमी बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि इस समिति ने दुर्गा पूजा का विषय 'देवी मां की पूजा माताओं द्वारा की जाएगी' रखा है। वैसे आपको ये भी बता दें कि इस साल नवरात्र 7 अक्टूबर से लेकर 15 अक्टूबर चलने वाली है।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@whatshot.in)