कुछ दिन पहले ही महानायक अमिताभ बच्‍चन ने इस बात की घोषणा की थी कि 'कौन बनेगा करोड़पती' के सीजन 12 के लिए इस बार ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन होंगे। यह रजिस्‍ट्रेशन अब शुरू भी हो चुके हैं। हजारों लोग एक बार फिर अपनी इस गेम शो में अपनी किस्‍मत को आजमाने के लिए तैयार हैं। मगर, केबीसी सीजन 12 के आने से पहले ही एक अच्‍छी खबर सुनने को मिली है। 

दरअसल, केबीसी सीजन 11 में प्रयागराज की रहने वाली ऊषा यादव सिर पर पल्‍ला डालकर अमिताभ बच्‍चन के सामने हॉटसीट पर बैठी थीं तब हर किसी की निगाहें टीवी स्‍क्रीन पर टिक गईं थीं। हर किसी के मन में यही सवाल था कि क्‍या एक छोटे से शहर से आईं उषा यादव इस गेम शो से कुछ जीत कर जा पाएंगी। मगर, देखते ही देखते उषा 25 लाख रुपए जीत गई थीं।

इसे जरूर देखें: 'कौन बनेगा करोड़पति-12' के ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन हो गए हैं शुरू 

KBC  kaun banega cororpati  

जीवने में कई बड़ी चुनौतियों और मुश्किलों का सामना कर चुकीं ऊषा यादव बेशक छोटे शहर और ग्रामीण परिवेश से हों मगर केबीसी सीजन 11 में उन्‍हें बेहद सूझ बूझ के साथ हर सवाल का जवाब दिया। फास्‍टेस्‍ट फिंगर फर्स्‍ट में भी ऊषा यादव ने 3.92 सैंकेंड में जवाब दे दिया था। यह पल ऊषा यादव के लिए काफी बड़ा था। अमिताभ ने 'बच्चन' उपनाम के पीछे की कहानी बताई, होली पर पिता का प्रेरणादायक किस्‍सा किया साझा

Recommended Video

अब ऊषा यादव की लाइफ में एक और बड़ा मौका आया है। ऊषा जल्‍द ही टीचर बनने जा रही हैं। 12 मई को उत्‍तर प्रदेश के सहायक शिक्षक भर्ती के नतीजे आए हैं और इन नतीजों में ऊषा यादव का नाम भी शामिल है। ऊषा यादव के लिए यह मौका केबीसी में सेलेक्‍ट होने जैसा ही है। वह अब प्राइमरी टीचर बन जाएंगी। 

इसे जरूर देखें: क्या आप दे सकती हैं KBC 11 में पूछे गए 7 करोड़ के इस सवाल का जवाब?

 lakh rupees winner of KBC

ऊषा यादव के पूरे परिवार को पहले ही उन पर गर्व था मगर, अब वह परिवर में आई इस खुशी के लिए ऊषा यादव को ही जिम्‍मेदार मान रहे हैं। ऊषा यादव का विवाह 8 वर्ष पहले ही हो चुका था। उनके पति भी प्राइमरी टीचर हैं। एक साल पहले ही उन्‍हें यह नौकरी मिली है। ऊषा यादव बेटी, बहू, वाइफ के साथ ही 2 वर्ष की बेटी की मां भी हैं। घर के सारे काम और उसके बीच में अपने करियर के लिए तैयारी करना ऊषा यादव के आसान काम नहीं था। स्‍कूल में खिचड़ी बनाने वाली महिला बनी दूसरी करोड़पति, सैलरी मात्र 1500 रुपये महीने

मगर, संघर्ष और बुलंद हौसलों से ऊषा यादव इस मुकाम को हासिल करने में सफल रही हैं। ऊषा यादव हमेशा से ही टीचर बनना चाहती थीं। जब वह केबीसी में भी आई थीं तब भी उन्‍होंने अमिताभ बच्‍चन को बताया था कि वह इंतजार कर रही हैं कि कब‍ रिजल्‍ट आए और उसमें उनका नाम भी शामिल हो। आज ऊषा यादव का सपना पूरा हो गया है। क्या आप दे सकती हैं कौन बनेगा करोड़पति 2019 में पूछे गए इन 10 सवालों के सही जवाब?