अब तक भारतीय लोगों के बीच दुबई का नाम दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों में शुमार बुर्जखलीफा के नाम से जाना जाता था। मगर अब यहां कुछ ऐसा होने जा रहा है जिसकी वजह से दुबई इंडियंस के लिए बेहद खास travel destination हो जाएगा । वैसे भी Dubai को लेकर भारतीयों में अलग ही क्रेज है। विदेश में ट्रिप प्लाtन करने की बात आती हैं तो इंडियंस की लिस्‍ट में Dubai का नाम टॉप पर होता है। इसकी कई वजह भी हैं। पहली वजह यह कि इस देश में भारी संख्या में इंडियंस रहते हैं। इसलिए यहां आने पर बहुत फैमलियर फील होता है। दूसरा यहां आने वाले इंडियंस को खाने पीने और रहने में भी कोई असुविधा नहीं होती। यह देश बेहद खुले विचारों वाला देश हैं साथ ही यहां इंडियंस को बहुत लाइक किया जाता है। 

Read more: गजब है! घर वाले ठुकराएं तो यहां आ जाएं, ना दरोगा का डर ना रहने- खाने की फिक्र

narendra modi inaugrated first hindu temple in dubai  india dubai

image courtesy: ANI

यहां का शानदार इंफ्रास्ट्रक्चर भी इंडियंस को काफी एट्रैक्ट करता है। शायद यही वजह है कि यहां बहुत सारे भारतीयों ने अपनी खुद की प्रॉपर्टी खरीद रखी है। इनमें सबसे ज्यादा संख्या Bollywood celebs की है। यहां किसी ने अपना बंगला बनवा रखा है तो किसी ने होटल। यहां आने वाले भारतीयों के लिए यह भी एक टूरिस्ट  अट्रैक्शन प्वॉइंट जैसा ही होता है। शॉपिंग के लिए भी दुबई दुनिया भर में मश्हूर है। दुबई के मॉल्स में एक साथ  मौजूद बड़े बड़े इंटरनैशनल ब्राडंस आपको शायद कहीं और देखने को भी न मिलें। शायद यही वजह है कि बॉलीवुड की कई celebrities की शॉपिंग डेस्टीनेशन में दुबई का नाम सबसे पहले आता है । मगर अब यहां आने वाले भारतीयों को होटल्‍स, मॉल्स, बीच और ऊंची ऊंची इमारों के अलावा एक और जगह घूमने को मिलेगी, जो खासतौर पर भारत से आने वाले हिंदुओं के लिए बनवाई जा रही है। जी हां, जल्द ही दुबई में एक मंदिर बनने वाला है। 

narendra modi inaugrated first hindu temple in dubai  india hindi temple

यह मंदिर दुबई के कैपिटल अबुधाबी में बनने जा रहा है। रविवार को खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अबुधाबी के ओपरा हाउस में कई भारतीयों की मौजूदगी में इस मंदिर के मॉडल को इनॉगरेट किया। यह मंदिर 2020 तक बनकर तैयार होगा। इस मंदिर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसे दिल्ली के अक्षरधाम टेम्पल के जैसा बनाया जाएगा। आपको बता दें कि ऐसा ही एक टेम्पल न्यूजर्सी में भी बनाया जा रहा है। 

इंट्रेस्टिंग बात यह है कि अबुधाबी में कई भारतीय मूल के लोग रहते हैं फिर भी यहां पर अब तक एक भी हिन्दू  टेम्पल नहीं है। इसलिए यह टेम्पल अबुधाबी का पहला हिंदू टेम्पल होगा। यही नहीं पूरे मिडिल ईस्ट में यह पहला हिंदू टेम्पल होगा। इस मंदिर के लिए अबूधाबी के क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन जायेद अल नहयान ने अबूधाबी-दुबई हाईवे के पास मुफ्त जमीन दी है। जिस पर बोचासनवासी श्रीअक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) द्वारा यह मंदिर बनवाया जा रहा है। आपकों बता दें कि इस संस्थाम के द्वारा विश्व  भर में 1100 मंदिर बनवाए जा चुके हैं। बीएपीएस के प्रवक्ता ने इनॉग्रेशन के दौरान बताया कि इस को पूरी तरह से हिंदू परंपराओं के आधार पर बनाया जाएगा। इसे तैयार करने के लिए भारत से शिल्पकारों की टीम आएगी। साथ ही इस मंदिर में भगवान के दर्शन के अलावा भक्ता सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आनंद उठा सकेंगे। 

मंदिर के मॉडल को इनॉगरेट करते वक्ते पीएम मोदी ने 125 करोड़ भारतीयों की तरफ से क्राउन प्रिंस को अबुधाबी में हिंदू मंदिर का निर्माण कराने के लिए धन्यवाद दिया। उन्हों ने यह भी कहा कि दुबई से भारत का रिश्ता केवल पॉलिटिकल नहीं है बल्कि यह दिल का रिश्ता है और मंदिर निर्माण के साथ यह रिश्ता और भी मजबूत होता जाएगा।