बूंदी के लड्डू खासकर शादी बिहा में खाने का मौका मिलता है। लेकिन बूंदी के लड्डू इतने स्वाद होते हैं कि आप किसी भी अगली शादी आने का इंतज़ार करती हैं। घर में जैसे ही कोई आपको बूंदी के लड्डू की मिठाई देकर जाता है कि वो आते ही खत्म हो जाती है। ऐसा ज्यादातर घरों में तो जरुर होता है। 

अगर आप भी बूंदी के लड्डू खाने की शौकीन हैं और मार्केट में लड्डू देखते ही खरीदती हैं तो आपको अब मार्केट जाने की जरुरत नहीं है क्योंकि आप अपने घर पर आसानी से ही बूंदी के लड्डू बनाकर खा सकती हैं।

बूंदी के लड्डू बनाने की सामग्री 

  • बेसन - 250 ग्राम
  • चीनी - 375 ग्राम
  • पिस्ते - 10-12 (कद्दूकस किए हुए)
  • इलायची पाउडर- 1/4 चम्मच 
  • खरबूजे के बीज - 1/4 कप
  • घी - तलने के लिए

बूंदी के लड्डू बनाने की विधि

लड्डू बनाने के लिए आप एक बाउल में सबसे पहले बेसन डालें। अब इसमें थोड़ा सा पानी डालिये और बेसन को गुठलियां खत्म होने तक घोलिए। थोड़ा पानी और मिलाइये और बेसन को अच्छी तरह फैटिये। बेसन को इस तरह से फैंटकर तैयार करना है जिससे लगातार चम्मच से गिरने वाली कनसिसटेन्सी बनें। जब आप बैटर को अच्छे से फैंट लें तो इसे 10 मिनट के लिए ऐसे ही रख दें।

इतनी देर में आप चाशनी बना लें इसके लिए एक बर्तन में चीनी डालकर उसमें पौना कप पानी डालकर उसे गैस पर गर्म करने के लिए रखें।चमचे से चाशनी की गिराइये, चाशनी में से 1-2 तार बन रहा होता है तो चाशनी बन कर तैयार है। गैस बंद कर दीजिए।

boondi ladoo recipe ingredient

अब आपको लड्डू बनाने के लिए पैन में घी डालकर गरम करना है। आपने पहले जो बेसन घोला है वो 10 मिनट बाद फूल कर तैयार हो जाएगा फिर आप इसे 2-3 मिनट और अच्छे से फैंटें। घी अच्छे से गरम है इसे चैक करने के लिए गोल की एक बूंद घी में डालकर देखें अगर वो सिक कर ऊपर आ रही है तो घी अच्छे से गरम होकर तैयार है।

Read more: घर पर ही बनायें बेसन के हेल्दी लड्डू

बूंदी बनाने के लिए छेद वाली कलछी को गरम घी के ऊपर रखें और करछी के ऊपर चमचे से दो चम्मच बेसन का घोल डालिये. कलछी के छेदों से बेसन निकल कर कढ़ाई में गिरता है और गोल बूंदी बन जाता है, कढ़ाई में जितनी बूंदी आ जाय उतनी गिरा दिजिये, अब बूंदी को हल्का सा ही सेकना होता है हल्की सी सिक जाने पर इसे बरतन के ऊपर रखी छलनी में निकाल लीजिये ताकि एक्ट्रा घी इसमें से निकल कर नीचे बरतन में चला जाए।

अब अगली बार की बूंदी को तलने के लिए झाव में लगा हुआ बेसन दोनों ओर से हटा दीजिए, बेसन हटा देने से बूंदी फिर से बनाने पर गोल और अच्छी बनकर तैयर होती है। अब इस झावा पर बेसन का घोल डालें और बूंदी को घी में सेक कर तैय़ार कर लीजिए इसी प्रकार सारे घोल से बूंदी बना कर तैयार कर लीजिए।

boondi ladoo

चाशनी अगर ठंडी हो गई है तो इसे गरम कर लें क्योंकि बूंदी को हमें गरम चाशनी में ही डालना है। बूंदी के साथ इसमें इलायची पाउडर और खरबूजे के बीज सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लें।

चाशनी में बूंदी मिक्स करने के बाद आप उसे ढककर अलग से आधे घंटे के लिए रख दें। ऐसा करने से बूंदी में चाशनी अच्छे से एब्जार्ब हो जाएगी। 

आधे घंटे बाद बूंदी के लड्डू बनाने के लिए हाथों पर थोड़ा सा घी लगाकर थोड़ी सी बूंदी या जितना बड़ा लड्डू बनाना चाहते हैं उसके हिसाब से उतनी बूंदी हाथ में उठाकर दोनो हाथो की सहायता से दबा-दबा कर गोल लड्डू बनाकर तैयार करें।

लड्डू खाने की जल्दी ना करें इसे 4-5 घंटे पूरी तरह से खुश्क होने के लिए रख दें। इसके बाद इन्हें किसी भी एयर टाइट कंटेनर में भर कर रख दें।

इन्हें फ्रिज से बाहर रख कर 10-12 दिनों तक खाया जा सकता है और अगर आप इसे फ्रिज में रख सकती हैं तो आप इन्हें 20-25 दिनों तक खा सकती हैं।

टिप्स- बूंदी बनाने के लिए जो झावा लें वो ज्यादा बड़ा ना हो तो अच्छा होगा। बूंदी बनाने के लिए बैटर बहुत ज्यादा पतला या बहुत ज्यादा गाढा़ नहीं होना चाहिए। बूंदी के लिए बनाए घोल को एकदम अच्छे से चिकन अहोने तक घोलना होता है। बूंदी तलने के लिए मध्यम गरम तेल की आवश्यकता होती है। बूंदी गोल न बन रही हो तो इसका कारण होता है कि बेसन का घोल सही से नहीं बना है। घोल गाढा़ है और अच्छे से फैंटा नहीं गया है। बूंदी अगर चपटी बन रही हो तो उसका कारण है कि बेसन का घोल पतला बना है। लड्डू को रंग देने के लिए पीला या ऑरेंज फूड कलर का उपयोग भी किया जा सकता है।

Recommended Video