खुद को पहचानने के लिए एक पल ही काफी होता है, लेकिन कई बार समाज की बंदिशों और खूबसूरती के खोखले पैमानों के कारण हम अपने अंदर ही किसी और की झलक देखने लगते हैं। हमें लगता है कि हमारे अंदर कोई कमी है जिसे हमें ठीक करना है, लेकिन आखिर क्यों हम अपने शरीर को लेकर कॉन्फिडेंट नहीं हो पाते हैं? हर किसी की जिंदगी में ऐसा मौका जरूर आता है जब उसे खुद की पहचान होती है। सेल्फ रियलाइजेशन में कई लोग हमारी प्रेरणा बन सकते हैं। ऐसी ही एक महिला हैं डॉक्टर फाल्गुनी वसावड़ा जो कई लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं। 

डॉक्टर फाल्गुनी अपनी उपलब्धियों और अपने सेल्फ लव को ही खूबसूरती मानती हैं और यही खूबी शायद हम सबमें होनी चाहिए कि हम अपनी खूबियों को ही और निखारें और खुद से प्यार करें क्योंकि अगर हम खुद अपने आप से प्यार नहीं कर पाएंगे तो फिर किसी और से कैसे ये उम्मीद कर सकते हैं कि वो हमसे प्यार करें। 

सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर और फैशनिस्टा-

अक्सर फैशनिस्टा की बात करने पर हमारे दिमाग में एक तय छवि बनती है जहां कोई अल्ट्रा-स्लिम लड़की लोगों को फैशन की बातें बताती है, लेकिन सही मायनों में एक फैशनिस्टा वो होती है जो हमें इंस्पायर करे और डॉक्टर फाल्गुनी वसावड़ा भी अपने हज़ारों सोशल मीडिया फॉलोवर्स के लिए यही करती हैं। साड़ियों की शौकीन डॉक्टर फाल्गुनी के वॉर्डरोब में आप बहुत सारी क्लासिक साड़ियां देख पाएंगे। वो अपने इंस्टाग्राम पोस्ट्स से बॉडी पॉजिटिविटी के बारे में बात करती हैं। 

falguni profile

डॉक्टर फाल्गुनी के मुताबिक बॉडी पॉजिटिविटी खुद से शुरू होती है। ऐसे लोगों पर ध्यान देना कम करना चाहिए जो आपको हमेशा नीचा दिखाने की कोशिश करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- HZ Exclusive: हर चेहरा है ख़ास क्यूंकि हर रंग है खूबसूरत

TedX स्पीकर और बॉडी पॉजिटिविटी की हितैशी-

डॉक्टर फाल्गुनी वसावड़ा हज़ारों लोगों के सामने ये मैसेज देती हैं कि खुद से प्यार करना सीखिए। वो TedX स्पीकर हैं, बॉडी पॉजिटिव हैं, डबल गोल्ड मेडलिस्ट हैं और उनके पास 20 साल से ज्यादा का टीचिंग एक्सपीरियंस भी है। वो एडवर्टाइजिंग और मार्केटिंग की प्रोफेसर होने के साथ बॉडी पॉजिटिविटी की हितैशी भी हैं। उन्हें पता है कि मार्केटिंग कैसे होती है और किस तरह से मीडिया में खोखले ब्यूटी स्टैंडर्ड्स सेट कर दिए गए हैं, लेकिन फिर भी हमें ये नहीं सोचना चाहिए कि अगर हम उन पैमानों पर सेट नहीं होते हैं तो कोई कमी है हममे या फिर कुछ सही नहीं है। 

falguni womens day

डबल गोल्ड मेडलिस्ट और पीएचडी करने के बाद भी लोगों के ताने मिलते हैं-

डॉक्टर फाल्गुनी बेहद टैलेंटेड महिला हैं जो ट्रेंड कॉर्पोरेट प्रोफेश्नल भी हैं और युवाओं को पढ़ाती हैं और एडवर्टाइजिंग, मार्केटिंग, कंज्यूमर अंडर्स्टैंडिंग, ब्रांडिंग, सोशल मीडिया आदि फील्ड्स की जानकारी देती हैं। उन्होंने कई इंटरनेशनल जर्नल्स लिखे हैं, नेशनल और इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंसेज में कई रिसर्च पेपर भी प्रेजेंट किए हैं। वो डबल गोल्ड मेडलिस्ट हैं, पीएचडी हैं, वो देश-विदेश के कई मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट्स में गेस्ट प्रोफेसर के तौर पर उन्हें बुलाया जाता है। उनकी उपलब्धियां भी बहुत सारी हैं, लेकिन फिर भी कई लोग ऐसे हैं जो आज भी उन्हें वजन को लेकर ताने देते हैं। डॉक्टर फाल्गुनी का कहना है कि, 'ऐसा नहीं है कि अब फर्क नहीं पड़ता, लेकिन 13 साल की उम्र में जितना परेशान ये ताने मुझे करते थे वो अब नहीं करते। मैं इन्हें इग्नोर करने की कोशिश करती हूं। इनसे बहस करके क्या फायदा, ये अभी भी राम-सीता के स्वयंवर और महाभारत के जमाने में रह रहे हैं।'

इसे जरूर पढ़ें-  फॉर्च्यून इंडिया की लिस्ट में शामिल हैं भारत की सबसे प्रभावशाली 50 बिज़नेस वीमेन 

आज के जमाने में बॉडी पॉजिटिविटी को लेकर कई लोग बातें करते हैं, लेकिन यकीनन बॉडी पॉजिटिव बनना आसान नहीं है जो हमें डॉक्टर फाल्गुनी सिखाती हैं। हरजिंदगी के वुमन्ड डे स्पेशल सेशन Shespeaks में डॉक्टर फाल्गुनी हमसे जुड़ी थीं और उन्होंने हमारे व्यूअर्स के लिए बहुत ही मोटिवेटिंग मैसेज दिए।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।