• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

जानें भारत की पहली महिला मर्चेंट नेवी कैप्टन राधिका मेनन के बारे में

कैप्टन राधिका मेनन भारतीय मर्चेंट नेवी की अधिकारी हैं। उनकी इंस्पायरिंग कहानी के बारे में जानें।
author-profile
Published -30 Jul 2022, 18:18 ISTUpdated -30 Jul 2022, 18:36 IST
Next
Article
radhika menon story ()

आज भी कई ऐसे प्रोफेशन हैं जिनमें महिलाओं की संख्या काफी कम है। मर्चेंट नेवी भी इनमें से एक हैं। लंबे समय तक इस क्षेत्र में भी केवल पुरुष हुआ करते थे, लेकिन अब महिलाएं भी मर्चेंट नेवी का हिस्सा हैं। आज के इस लेख में हम आपको भारत की पहली महिला मर्चेंट नेवी ऑफीसर की कहानी बताएंगे, जिन्होंने ने अन्य महिलाओं के लिए मर्चेंट नेवी में जाने के रास्ते खोल दिए। आइए जानें कैप्टन राधिका मेनन की कहानी। 

कौन हैं राधिका मेनन?

who is radhika menon

राधिका मेनन भारतीय महिला मर्चेंट नेवी अधिकारी हैं, जो कैप्टन के रूप में कार्य कर रही हैं। वह भारतीय मर्चेंट नेवी की पहली महिला कप्तान हैं। वो तेल उत्पादों के टैंकर सुवर्ण स्वराज्य का नेतृत्व करती हैं। साल 2016 में राधिका मेनन को उनकी बहादुरी के लिए IMO पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसी के साथ राधिका इस सम्मान को पाने वाली पहली महिला हैं। 

इसे भी पढ़ें- ओलंपिक फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला पी. टी. उषा के बारे में जानें

मछुआरों की बचाई थी जान

radhika menon inspiring story

राधिका मेनन को उनके बचाव अभियान के लिए जानी जाती हैं। जिसे उन्होंने साल 2015 में सफलतापूर्वक चलाया था। इस ऑपरेशन में उन्होंने 7 मछुआरों को बचाया था, जो 1 सप्ताह तक 9 फसे रहे थे।  

राधिका मेनन का जीवन 

राधिका का जन्म और पालन-पोषण केरल(केरल में घूमने की जगहें) के कोडुंगल्लूर में हुआ था। उन्होंने कोच्चि के ऑल इंडिया मरीन कॉलेज से अपनी पढ़ाई पूरी की और अपने करियर की शुरुआत शिपिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया से की थी। राधिका वहां पर रेडियो अधिकारी के रूप में कार्यरत रहीं।

इसे भी पढ़ें- जानें देश की पहली महिला ऑटो रिक्शा ड्राइवर शीला दवरे की इंस्पायरिंग कहानी 

भारतीय नौसेना की प्रमुख कैडर बनीं राधिका

radhika menon story

कुछ समय तक शुरुआत शिपिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में काम करने के बाद राधिका नौसेना की प्रमुख कैडर बनीं। साल 2012 में राधिका को मर्चेन नेवी के अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया, जहां वो भारतीय मर्चेंट नेवी की पहली कैप्टन बनीं। उस साल उन्होंने तेल टैंकर सुवर्ण स्वाराज्य के नेता के रूप में कार्यभार संभाला। साल 2016 में राधिका को मछुआरों की जान बचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन पुरस्कार से नवाजा गया।

महिला नाविकों को प्रेरित करती हैं कैप्टन राधिका मेनन

राधिका ने युवा महिला नाविकों के लिए अपनी साथी नौसेना अधिकारियों सुनिति बाला और शरवानी मिश्रा के साथ मिलकर 3 नवंबर 2017 को अंतर्राष्ट्रीय महिला नाविक फाउंडेशन की स्थापना की। जहां तमाम महिला नाविकों की प्रेरित किया जाता है।

तो ये थी राधिका मेनन की इंस्पायरिंग कहानी जिसके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ। 

Image Credit-twitter

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।