हमारे देश  में ऐसी कई महिलाएं हैं, जो अन्‍य महिलाओं के लिए मिसाल हैं। अब इसमें एक नाम और जुड़ चुका है। यह नाम है मान्‍या सिंह का। मान्‍या सिंह हाल हि में फेमिना मिस इंडिया 2020 प्रतियोगिता रनर अप रही हैं। उनके सिर पर जो खूबसूरती का ताज पहनाया गया है, वह असल में उनकी महनत और लगन का नतीजा है।  

वैसे तो भारत की महिलाएं हर जगह अपनी एक अलग पहचान कायम करते हुए निरंतर आगे बढ़ रही हैं। हर एक क्षेत्र में अपना विजय परचम लहराने वाली महिलाएं देश की शान और बान को बढ़ा रही हैं। इनमें से किसी भी संघर्ष को कम नहीं आंका जा सकता है।

मान्‍या सिंह भी इसका एक सबसे बड़ा उदाहरण हैं। एक ऑटो ड्राइवर की बेटी के भी सपने होते हैं और उन सपनों को पूरा करने का उसमें हौसला भी होता है यह कोई  मान्या सिंह से सीखे। इस वर्ष विमेन डे पर मान्‍य देश की हर वर्ग और हर उम्र की महिला के लिए मिसाल बन चुकी हैं। आइए उनके संघर्ष की कहानी जानते हैं। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Femina Miss India (@missindiaorg)

जी हां पूरा माहौल तालियों की गड़गड़ाहट से उस समय गूँज उठा जब जुड़ी ने रनर -अप के रूप में मान्या का नाम लिया। वास्तव में मान्यता ने न सिर्फ अपने पूरे परिवार का नाम रोशन किया है बल्कि वो हम सभी के लिए प्रेरणा की स्रोत बन गयी हैं। आइए जानें मान्या के जीवन से जुड़ी कुछ बातें।  

ऑटो ड्राइवर की बेटी 

auto driver daughter

मिस इंडिया रनर-अप 2020 उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के एक ऑटोरिक्शा ड्राइवर ओमप्रकाश सिंह की बेटी हैं। असंख्य संघर्षों को पार करते हुए, मान्या ने प्रतिष्ठित फेमिना मिस इंडिया ब्यूटी पेजेंट की रनर-अप का खिताब हासिल किया और इतिहास कायम कर दिया। मान्या का जीवन काफी मुश्किलों भरा बीता है।

उनके पिता ओमप्रकाश सिंह ने कुशीनगर के हाटा में मकान बनवाया है। फिलहाल ओमप्रकाश मुंबई में ऑटो चलाते हैं और मान्या की मां मनोरमा देवी मुंबई में टेलर की तरह काम करती हैं। मान्या के फीस भरने के लिए कई बार उनकी मां को अपनी ज्वैलरी तक गिरवी रखनी पड़ी। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Femina Miss India (@missindiaorg)

सपने हुए साकार

dream comes true 

वीएलसीसी फेमिना मिस इंडिया 2020 के परिणाम ने रनर-अप मान्या सिंह के सपनों को साकार कर दिया है। 9 फरवरी की रात को सौंदर्य प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। तेलंगाना के मनासा वाराणसी ने फेमिना मिस इंडिया 2020 का खिताब जीता, जबकि हरियाणा की मनिका श्योकंद ने फेमिना मिस ग्रैंड इंडिया 2020 का खिताब जीता। इसी प्रतियोगिता में मान्या के सभी सपने साकार हुए और वो प्रतियोगिता की रनर अप बन गईं। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Femina Miss India (@missindiaorg)

इंस्टाग्राम पर साझा किए पोस्ट 

instagram post

दिसंबर में मिस इंडिया के आधिकारिक इंस्टाग्राम हैंडल द्वारा साझा किए गए पोस्ट में उसने कहा कि उनके सपनों को आगे बढ़ाने के लिए उनके खून, पसीने और आंसुओं की मेहनत लगी है। कुशीनगर में जन्मी मान्या ने अपने पोस्ट में कहा कि वह कठिन परिस्थितियों में पली-बढ़ीं, बिना भोजन के रातें बिताईं। कुछ रुपए बचाने के लिए नींद और मीलों पैदल चलती थीं। वह कई किताबों और कपड़ों के लिए तरस गईं, लेकिन उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें जीत हासिल हुई। 

पोस्ट की फैमिली की तस्वीर 

family pic manya

अपनी जीत के बाद, मान्या ने इंस्टाग्राम पर अपने माता-पिता की एक तस्वीर साझा की, जहां वे ताज पहनाए जाने के बाद मान्या की तस्वीर के साथ एक अखबार पकड़े हुए हैं। उन्होंने एक इमोशनल मैसेज के साथ अपने माता-पिता के प्रति आभार व्यक्त किया। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Femina Miss India (@missindiaorg)

मान्या ने वास्तव में ये बात साबित कर दी है कि कड़ी मेहनत और लगन से कोई भी मुकाम आसानी से हासिल किया जा सकता है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: Instagram