कल्पना चावला की एक इच्छा थी और उस इच्छा के बारे में वो अक्सर कहा करती थीं कि वो जरूर पूरी होगी। कल्पना चावला ने अपनी इच्छा पूरी होने को लेकर भविष्यवाणी पहले ही कर दी थी। कल्पना चावला ने 41 साल की उम्र में अपनी पहली अंतरिक्ष यात्रा की जो आखिरी साबित हुई। 

मिशन पूरा होने के बाद जब कोलंबिया अंतरिक्ष यान वापस लौट रहा था जिसमें कल्पना चावला अपने 6 साथियों के साथ थीं, उस यान की उष्मारोधी परतें फट गईं और यान क्षतिग्रस्त हो गया। देखते ही देखते खुशनुमा माहौल मातम में बदल गया। कल्पना चावला के वो शब्द सत्य हो गए और इच्छा भी। 

कल्पना चावला कहा करती थीं, “मैं अंतरिक्ष के लिए ही बनी हूं। हर पल अंतरिक्ष के लिए ही बिताया है और इसी के लिए मरूंगी।“ 

kalpana chawla life interesting

कल्पना चावला का प्यार का नाम 

कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 को हरियाणा के करनाल जिले में हुआ था। कल्पैना ने अपनी शुरुआती पढ़ाई टैगोर बाल निकेतन से की और इसके बाद चंडीगढ़ से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की। कल्पएना आगे की पढ़ाई करने अमेरिका चली गईं और 1984 में टेक्सस यूनिवर्सिटी से आगे की पढ़ाई की। कल्प‍ना अपने पिता बनारसी लाल चावला और मां संज्योती चावला की लाडली थी और घर में सब उन्हें प्यार से मोंटू कहते थे। कल्पना चावला के रिश्तेदार उन्हें मोंटू ही बुलाते थे। 

इसे जरूर पढ़ें: मिताली राज ने रचा इतिहास, 200 वनडे खेलने वाली विश्व की पहली महिला क्रिकेटर

kalpana chawla life interesting

कल्पना चावला की दो बातें 

कल्पना चावला की दो बातें हमेशा याद रहेंगी। कल्पना चावला ने सपनों को लेकर कुछ ऐसी बातें की थी जो लोगों को खासतौर पर युवाओं को हमेशा याद रहेंगी। 

कल्पंना चावला ने कहा था, “अपनी जिंदगी में कुछ ऐसा करो जिसे आप सच में करना पसंद करते हो। अगर आप बस इसे अपना लक्ष्य  समझकर कर रहे हो और उसे करने की प्रक्रिया का आनंद नहीं ले रहे हो तब आप खुद के साथ विश्वा्सघात कर रहे हो” 

कल्पना चावला ने कहा था, “सपनों से सफलता तक का रास्ताा तो तय होता है लेकिन क्यां आपमें इसे ढूंढने की इच्छाा है? उसे पाने के लिए उस मार्ग पर चलने का साहस है? क्याा आप अपने सपनों को हासिल करने के लिए पूर्ण रूप से दृढ़ हैं?” 


kalpana chawla life interesting

ये संदेश हैं देश की उस जांबाज बेटी कल्पना चावला के जो एक छोटे से शहर से निकलकर नासा तक पहुंची और ऐसा काम किया कि वह दुनिया के लिए मिसाल बन गईं।