कोरोना वायरस से अब तक दुनिया भर में 16,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इस वायरस से पूरी दुनिया में 3,81, 653 लोग संक्रमित हुए हैं, वहीं 1,02, 429 लोग इससे रिकवर कर चुके हैं। यह बीमारी कम्युनिटी लेवल पर न फैले, इसके लिए बड़े पैमाने पर प्रयास किए जा रहे हैं। दुनिया के अलग-अलग देशों में इंफेक्शन से बचाव के लिए लॉक डाउन कर दिया गया है। इस समय में सभी लोग अपने बचाव के लिए घरों में सीमित होकर रह गए हैं। ऐसे में विदेशों में जो भारतीय फंसे हैं, खासतौर पर यूरोपीय देशों में, उनकी मदद करना अपने आप में बहुत बड़ी बात है। विशेष रुप से महिलाओं द्वारा ऐसा किया जाना सराहनीय है। कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया देश की युवा पायलट स्वाति रावल ने, जो न सिर्फ एयर इंडिया 777 की कमांडर हैं, बल्कि 5 साल के बच्चे की मां भी हैं। विष्णु सोम के ट्वीट के अनुसार स्वाति रावल इटली की राजधानी रोम से 265 भारतीयों को सुरक्षित वापस भारत लेकर आईं और इसी को लेकर वह इस समय में सुर्खियों में बनी हुई हैं। हालांकि एएनआई ने भारत वापस आने वाले यात्रियों की संख्या 263 बताई है।

 

पीएम नरेंद्र मोदी ने की सराहना

captain swati rawal pm narendra modi praises

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस प्रयास की सराहना की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में इस बात का जिक्र किया कि विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने वाले एयर इंडिया के पायलटों ने देश के लिए बड़ा काम किया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 

'मुझे एयर इंडिया की टीम पर गर्व है, जिसने अदम्य साहस का परिचय दिया है और मानवता की खातिर अपना फर्ज निभाया है। उनके इस प्रयास को असंख्य भारतीयों ने सराहा है।'

इसे जरूर पढ़ें: आनंद महिंद्रा ने 94 साल की हरभजन कौर को बनाया एंट्रेप्रिन्योर ऑफ द इयर, बेसन की बर्फी से हुईं थीं फेमस 

captain swati rawal brought back indians from italy

स्वाति रावल के प्रयासों की नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी तारीफ की है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'एयर इंडिया के बोइंग 777 के चालक दल ने कैप्टन स्वाति रावल और राजा चौहान के नेतृत्व में अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए 263 भारतीयों की स्वदेश वापसी कराई है।

इसे जरूर पढ़ें: Women Inspiration: मंजरी चतुर्वेदी ने अपने सूफी कथक से निर्गुण भक्ति को दिया नया आयाम

captain swati rawal women inspiration  

इससे पहले स्वाति साल 2010 में भी सुर्खियों में रही थीं, जब वह एयर इंडिया की ऑल विमेन क्रू का हिस्सा बनी थीं। इस टुकड़ी ने मुंबई से न्यूयॉर्क के लिए उड़ान भरी थी। बीते 15 सालों से स्वाति रावल प्लेन उड़ा रही हैं। बचपन से ही उनकी इच्छा थी कि वह बड़ी होकर पायलट बनें और एयर इंडिया के विमान उड़ाएं।

Recommended Video

captain swati rawal brought indians back from rome

कैप्टन स्वाति रावल का सपना फाइटर प्लेन उड़ाने का था, लेकिन उस समय में भारतीय महिलाओं को सेना में प्रवेश की अनुमति नहीं मिली थी। इसीलिए वह फाइटर प्लेन के पायलट नहीं बन पाईं। इसके बाद स्वाति ने एयर इंडिया ज्वाइन किया और कमर्शियल पायलट बन गईं।

स्वाति को उनके परिवार वालों ने भी काफी सपोर्ट किया है। इस समय में जबकि लोग अपने परिवारों के लिए फिक्रमंद हैं, स्वाति ने सर्वप्रथम देश के लिए अपना फर्ज निभाया और इस तरह वह महिलाओं के लिए एक बड़ी इंस्पिरेशन बन गई हैं। 

Image Courtesy: Twitter(@HardeepSPuri)

Information Source:Twitter(@VishnuNDTV)