अनुष्का शर्मा इन दिनों अपनी फ़िल्म ज़ीरो के प्रमोशन में व्यस्त हैं। साथ ही वह अपने होम प्रोडक्शन पर भी लगातार काम कर रही हैं। जल्द ही वह वेब कंटेंट लेकर भी आने वाली हैं। ऐसे में अनुष्का शर्मा से हमने जानना चाहा कि वह अपनी ज़िंदगी में हैपीनेस के लिए क्या करती हैं-

ईगो सबसे बड़ा दुश्मन

anushka sharma tips

अनुष्का कहती हैं कि उन्हें ऐसा लगता है कि जब उनके आस-पास कुछ अच्छा नहीं हो रहा है, तो उन्हें अच्छा नहीं लगता। वह अपने साथ के लोगों को खुश रखना चाहती हैं। उनके लिए ख़ुशी का मतलब सिर्फ खुद से नहीं है। अनुष्का कहती हैं कि हम सब में मुझे लगता है कि ईगो की प्रॉब्लम होती है। अगर आप लोगों को बुरा देखते हैं तो सब कुछ आपको भी बुरा लगता है। आप अगर अच्छा देखते हैं तो आपको भी अच्छा लगता है, क्योंकि हमारा ईगो ही हमें ये सब महसूस कराता है, लेकिन अनुष्का कहती हैं कि मैं रियलिटी में देखूं तो अगर आपको कुछ ग़लत दिख रहा होता है तो गंदगी आपके अंदर होती है। अनुष्का कहती हैं कि उन्हें लगता है कि वह अपने आप में और ये बात और सुधारना चाहेंगी कि वह लोगों से निर्मलता और स्नेह से डील करुंगी।

Read more: विराट और अनुष्का फस्ट एनिवर्सरी के लिए कर रहे हैं तैयारी, यहां करेंगे सेलिब्रेट

Pet के साथ रहना भी हैपीनेस

anushka sharma tips

अनुष्का बताती हैं कि उन्हें उस वक़्त बहुत अधिक चिढ़ हो जाती है, जब वह देखती हैं कि सामने वाले लोगों में कम्पैशन नहीं है। किसी और को देखकर मारपीट करते हैं या बुरा करते हैं और किसी जानवर के साथ दुर्व्यवहार करते हैं तो मुझे बहुत गुस्सा आता है। अनुष्का कहती हैं कि उनके लिए उनके कुत्ते के साथ रहना भी उनके लिए हैपीनेस है। अनुष्का कहती हैं कि जो लोग मेरे आस-पास रहते हैं। अगर उन्हें ख़ुश रखा जाए तो वह बहुत ख़ुशी होती है। अनुष्का कहती हैं कि मैं हर दिन मेडिटेशन करती हूं। हर दिन मैं एक घंटे जरूर निकलती हूं।

प्रकृति से प्यार ज़रूरी

anushka sharma tips

अनुष्का कहती हैं कि मेरी जो स्प्रिचुअल लाइफ है, वह मेरी ज़िंदगी का अहम हिस्सा है। ये सब टाइम को लेकर नहीं होता है। आपको लगातार इस पर काम करना चाहिए। हमें इस बात को समझना चाहिए कि अगर हमें लाइफ मिली है तो हम अपने वातावरण को अच्छा बनाएं।

अनुष्का कहती हैं कि मुझे उन लोगों से बेहद चिढ़ है जो अपने थोड़े देर के सुकून के लिए जानवरों के साथ खिलवाड़ और छेड़छाड़ करना सही नहीं लगता। ऐसे लोगों को मुझे लगता है कि सीखने समझने की बेहद ज़रूरत है। प्रकृति से प्यार और जानवर से प्यार करना बेहद ज़रूरी है।  

 
  • Anupriya Verma
  • Her Zindagi Editorial