योग एक अभ्यास है जिसे ध्यान केंद्रित और स्वस्थ रहने का एक प्रभावी तरीका माना जाता है और हम सभी ने अपने जीवन में कभी न कभी योग के फायदे जरूर महसूस किए होंगे। यदि आप इस मौसम के तहत थोड़ा अजीब महसूस कर रही हैं और रिलैक्‍स महसूस करना चाहती हैं, तो यहां एक आसान आसन है जिसे आप कर सकती हैं। कुछ दिनों पहले एक्‍ट्रेस और योग प्रशंसक सोनल चौहान ने वज्रासन करते हुए अपनी एक फोटो इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से शेयर की है। 

इसमें कोई शक नहीं कि सोनल बॉलीवुड की सबसे फिट एक्‍ट्रेसेस में से एक हैं। जन्नत से डेब्यू करने के समय से लेकर आज तक, वह हमेशा स्टनिंग और शेप में दिखती हैं। सोनल अक्सर योगा पोज करते हुए इंस्टाग्राम पोस्ट शेयर करती रहती हैं। इस बार उन्होंने वज्रासन उर्फ डायमंड पोज करते हुए एक फोटो शेयर की है। 

उन्‍होंने पोस्‍ट के कैप्‍शन में लिखा, ''वज्रासन हमारे शरीर को मजबूत करने के लिए एक फेमस और सरल योगासन है। योग के समर्थकों के अनुसार, यह एकाग्रता और ध्यान के लिए सबसे अच्छे आसनों में से एक है।" फोटो के साथ, सोनल ने वज्रासन करने के विभिन्न लाभों का उल्लेख करते हुए एक लंबी पोस्ट भी लिखी।

वज्रासन के फायदे

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Sonal Chauhan (@sonalchauhan)

डाइजेस्टिव सिस्‍टम के लिए अच्छा

वज्रासन करने से हमारे डाइजेस्टिव सिस्‍टम को कई तरह से मदद मिलती है। यह हमारे पैरों और जांघों में ब्‍लड फ्लो को बाधित करता है और हमारे पेट के हिस्‍से में इसे बढ़ाता है, इस प्रकार हमारे मल त्याग में सुधार करता है और कब्ज से राहत देता है। 

वज्रासन हमें पेट फूलने (गैस) और एसिडिटी से निजात दिलाने में भी मदद करता है। यह हमारे शरीर द्वारा पोषक तत्वों का बेहतर अवशोषण सुनिश्चित करता है।

आम तौर पर भोजन करने के तुरंत बाद किसी भी प्रकार का व्यायाम या योग नहीं किया जाता है। लेकिन भोजन के बाद वज्रासन करना अच्छा होता है क्योंकि यह अपच में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें:ये 21 योगासन आपको 21 दिन में कर सकते हैं स्लिम, एक्‍सपर्ट से जानें कैसे

पीठ दर्द से राहत दिलाता है।

यह साइटिका के कारण होने वाले दर्द को दूर करने में भी मदद करता है।

रूमेटिक दर्द से देता है राहत

वज्रासन करने से जांघ और पैर की मसल्‍स और हमारे कूल्हे, घुटनों और टखनों के आसपास की मसल्‍स के लचीलेपन को बढ़ाने में मदद मिलती है। यह कठोरता के कारण इन क्षेत्रों में रूमेटिक दर्द को दूर करने में मदद करता है।

वज्रासन कैल्केनियल स्पर्स के कारण होने वाले एड़ी के दर्द और गाउट के कारण होने वाले दर्द को कम करने में भी मदद करता है।

ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है

वज्रासन करने से पेल्विक में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है और हमारे पेल्विक फ्लोर की मसल्‍स मजबूत होती हैं। इस प्रकार यह तनाव मूत्र असंयम से पीड़ित महिलाओं के लिए उपयोगी है।

पीरियड्स की ऐंठन दूर करें

periods pain

यह प्रसव पीड़ा और पीरियड्स में ऐंठन को कम करने में भी मदद करता है। इन समस्‍याओं से ज्‍यादातर महिलाएं परेशान रहती हैं।

सबसे अच्‍छी ध्‍यान मुद्रा

ध्यान का अभ्यास करने के लिए वज्रासन एक अच्छा आसन है। इस मुद्रा में सांस लेने के व्यायाम करने से हमारे मन को शांत करने में मदद मिलती है और हमें भावनात्मक रूप से लाभ होता है।

तनाव होता है कम

वज्रासन तनाव को कम करता है, एकाग्रता में सुधार करता है और डिप्रेशन और चिंता को दूर रखता है।

 

दिल की रक्षा करें

यह तनाव, ब्‍लडप्रेशर के लेवल को कम करने में मदद करता है, इस प्रकार हमें विभिन्न हृदय विकारों से बचाता है।

नींद में सुधार

वज्रासन करने से हमें शांति मिलती है और तनाव और चिंता कम होती है। इस प्रकार यह हमें अच्छी रात की नींद लेने में मदद करता है।

मोटापा कम करता है

यह हमारे पाचन को मजबूत करता है और पेट की चर्बी को कम करने में मदद करता है। यह बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) और मोटापे को कम करने में कारगर पाया गया है।

इसे जरूर पढ़ें:बैली फैट और पेट की समस्‍याओं को तेजी से दूर करता है ये 1 योग, खाने के बाद रोजाना करें

वज्रासन करने का तरीका

vajrasana benefits

  • इसे करने के लिए घुटनों के बल जमीन पर बैठ जाएं।
  • इस दौरान दोनों पैरों के अंगुठों को साथ में मिलाएं और एड़ियों को अलग रखें।
  • फिर हिप्‍स को एड़ियों पर टिकाएं। 
  • अपनी हथेलियों को घुटनों पर रख दें।
  • पीठ और सिर को सीधा रखें। 
  • ध्यान रखें कि इस दौरान घुटने आपस में मिले होने चाहिए।
  • नॉर्मल तरीके से सांस लेते रहें। 
  • इस पोजीशन में जब तक संभव हो, आप बैठने का प्रयास करें।

सोनल चौहान की तरह इस योगासन को करके आप भी कई तरह के फायदे पा सकती हैं। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Article & Image Credit: Sonal Chauhan (@Instagram)