कहते हैं कि इंसान वही है, जिसकी आंखों में सपने हों। चाहे पुरूष हो या महिला, हर व्यक्ति अपने जीवन में कुछ पाने की आस करता है। यह सपने उसकी प्रोफेशनल लाइफ से ही नहीं, पर्सनल लाइफ से भी जुड़े हो सकते हैं। लेकिन सपने सिर्फ उन्हीं के पूरे होते हैं, जिन्हें उन लक्ष्यों को प्राप्त करने का रास्ता मालूम हो। जरूरी नहीं है कि आपको हर चीज प्लेट में सजी हुई मिल जाए। यकीनन अपने गोल्स को पूरा करने के लिए आपको कड़ी मेहनत करने की जरूरत होती है, लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि कड़ी मेहनत करने के बाद भी आप अपने गोल्स को पाने से चूक जाते हैं। क्या आप जानती हैं कि ऐसा क्यों होता है। इसके पीछे की मुख्य वजह होती है लक्ष्यों को पूरा करने के लिए आप सही तरह से कदम नहीं बढ़ातीं। हार्ड वर्क के साथ-साथ स्मार्ट वर्क ही सफलता के रास्ते खोलता है। खासतौर से, महिलाओं को तो और भी ज्यादा स्मार्टली काम करने की जरूरत होती है क्योंकि वह एक साथ कई जिम्मेदारियों को निभाती हैं। इसलिए अपने गोल्स को पूरा करने के लिए उठाया गया उनका हर कदम उनकी पूरी जिन्दगी को प्रभावित करता है। लक्ष्यों को पूरा करने की पहली सीढ़ी होती है प्लानिंग। अगर आप सही प्लानिंग से अपने कदम आगे बढ़ाती हैं। तो न सिर्फ आपके गोल्स पूरे होते हैं, बल्कि आप तय समय में उन्हें पूरा कर पाती हैं। तो चलिए जानते हैं प्लानिंग और सक्सेस का आपस में क्या है नाता-

इसे भी पढ़ें: सिर्फ एक दिन फोन से दूरी पलटकर रख देगी आपकी पूरी जिन्दगी

क्यों जरूरी है प्लानिंग

what you should do to achieve your goal inside four

जब भी प्लानिंग की बात होती हैं तो आपको सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि वास्तव में प्लानिंग गोल्स को पूरा करने में किस तरह काम आती है और यह वास्तव में क्यों जरूरी है। प्लानिंग करने का एक सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इससे आपके दिमाग में किसी तरह की उलझन नहीं होती। दरअसल, मस्तिष्क में एक साथ कई चीजें चलती हैं और इस तरह आपको अपने लक्ष्यों को किस तरह पूरा करना है, यह सिर्फ प्लानिंग से ही तय किया जा सकता है।

Recommended Video

टाइम मैनेजमेंट

what you should do to achieve your goal inise three

यह एक चीज है, जो महिलाओं के जीवन में बेहद अहम् है। एक स्त्री को घर-परिवार व ऑफिस की कई जिम्मेदारियों को निभाना होता है। इस बीच में अपने सपनों के लिए समय निकाल पाना काफी मुश्किल नजर आता है। ऐसे में अगर आप सही तरह से प्लानिंग करती हैं तो इससे आपको टाइम मैनेज करने में भी आसानी होती है और आप अतिरिक्त तनाव से बच जाती हैं।

करें डिटेलिंग

what you should do to achieve your goal inside two

जब भी प्लानिंग की बात होती है तो आपको यह समझना बेहद जरूरी है कि इसे आप थोड़ा डिटेलिंग में करें। मसलन, अगर आप ऑफिस गोइंग मैरिड वुमेन हैं और आप अपने वेट को कम करना चाहती हैं या फिर कोई नई चीज सीखना चाहती हैं तो आपकी प्लानिंग में जिम ज्वाइन करना या एक्सपर्ट क्लास ज्वाइन करना ही शामिल नहीं होना चाहिए। बल्कि आप डिटेलिंग में एक कापी में यह लिखें कि आप कितनी ओवरवेट हैं और आपको अपना वजन कितना वजन कम करना है। साथ ही इसके लिए आप खुद को कितने महीनों का वक्त दे रही हैं। इन सबके अलावा आप अपना डाइट प्लान और हर दिन का वर्कआउट प्लान भी बनाएं। इसके साथ-साथ हर पंद्रह मिनट बाद अपने शरीर में आए परिवर्तनों को भी लिखें। इस तरह आपके दिमाग में चीजें ज्यादा क्लीयर होंगी कि आपको अपने गोल्स को पूरा करने के लिए कदम किस तरह बढ़ाना है। अगर आप सिर्फ यह प्लानिंग करती हैं कि आप तीन महीने में छह किलो वजन कम करेंगी तो इससे आपका वजन कभी भी कम नहीं होगा। इतना ही नहीं, हो सकता है कि इस चक्कर में आप मानसिक रूप से खुद को परेशान भी करें।

इसे भी पढ़ें: करियर डिसिजन लेते समय छोटी-छोटी बातों पर दें ध्यान, बाद में नहीं पड़ेगा पछताना

छोटी-छोटी बातें

what you should do to achieve your goal inisde one

प्लानिंग करते समय आपको कुछ छोटी-छोटी बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उदाहरण के तौर पर, आपके गोल्स बड़े हो सकते हैं, लेकिन आपकी प्लानिंग बेहद शुरूआत से और छोटे कदमों से ही होनी चाहिए। 

प्लानिंग के दौरान खुद के साथ ईमानदारी बरतना बेहद जरूरी है। कभी भी अनरियलिस्टिक गोल्स सेट ना करें और ना ही उनके लिए प्लानिंग करें। मसलन, अगर आप चाहती हैं कि आपका एक सप्ताह में पांच किलो वजन कम हो जाए तो यह लगभग असंभव है। ऐसे में आप खुद को परेशान करने के अलावा और कुछ नहीं करेंगी।

जब आप अपने गोल्स को पूरा करने के लिए प्लानिंग करें तो उसमें कुछ कदमों के बाद खुद को रिवार्ड भी दें। मसलन, अगर आपने वजन कम करने की ठानी है और अपने गोल्स को पूरा करते हुए आप एक महीने में दो किलो वजन कम कर लेती हैं तो इसके लिए खुद को बधाई देना न भूलें। आप उस दिन रिवार्ड के तौर पर खुद को एक बढ़िया सी ट्रीट दें या फिर काम से छुट्टी लेकर स्पा या पार्लर में जाएं और खुद को पैम्पर करें। इस तरह प्लानिंग में अगर रिवार्ड को शामिल किया जाए तो मन में एक सकारात्मकता बनी रहती है और आप कभी भी अपने गोल्स को बीच में नहीं छोड़तीं। जब आप प्लानिंग करें तो उन ऑब्स्टैकल्स के बारे में भी जरूर लिखें, जो आपको आपके गोल्स को पूरा करने से रोकते हैं। इससे आपको खुद ब खुद उन कठिनाईयों से निकलने का रास्ता मिल जाएगा। जब ऐसा हो तो आप उन साल्यूशन्स के बारे में भी जरूर लिखें।