• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

दुनिया की सबके तीखी मिर्च जिसे छूने से पहले भी दी जाती है चेतावनी

मिर्ची जानलेवा भी हो सकती है अगर वो मिर्ची दुनिया की सबसे तीखी मिर्च हो। क्या आप दुनिया की सबसे तीखी मिर्च के नाम जानती हैं जो वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी...
author-profile
  • Inna Khosla
  • Her Zindagi Editorial
Published -04 May 2018, 14:56 ISTUpdated -25 Jun 2018, 17:06 IST
Next
Article
world most hottest chilli peppers MAIN

मिर्ची जानलेवा भी हो सकती है अगर वो मिर्ची दुनिया की सबसे तीखी मिर्च हो। क्या आप दुनिया की सबसे तीखी मिर्च के नाम जानती हैं। इंडिया से लेकर विदेशों तक ऐसी कई मिर्ची हैं जिसने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए हैं यानि जिनके नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज हैं। किस मिर्ची की क्या खासियत है और उनका क्या नाम है आइए आपको बताते हैं। मिर्ची खाने के फायदे तो आपको कई लोगों ने कई बार बताएं होंगे लेकिन दुनिया की सबसे तीखी मिर्ची को यूं ही खा लेना जान गवाना है। 

वैसे आपको ये भी बता दें कि मिर्ची कितनी तेज है इसे जानन के लिए स्कॉविल इकाई का इस्तेमाल किया जाता है। यानि मिर्ची की जितनी ज्यादा स्कॉविल इकाई होगी वो मिर्ची उतनी ही तीखी होगी। 

ड्रेगन्स ब्रेथ

dragon breath world hottest chilli peppers

ये तो सब जानते हैं कि मिर्च जितनी तीखी होती है उतनी ही अच्छी मानी जाती है। घर का खाना हो या किसी शादी -पार्टी के लिए खास खाना बना रहे हों मिर्ची के बिना खाने का स्वाद अधूरा है। मिर्ची खाने के फायदे है अगर आप कुछ मात्रा में तीखा खाएं लेकिन ज्यादा तीखा खाना जानलेवा भी हो सकता है। इसलिए दुनिया की सबसे तीखी मिर्च को इस्तेमाल खाने के लिए नहीं बल्कि इसकी दवाईयां बनाने के लिए किया जाता है। 

यूनाइटेड किंगडम में पाई जाने वाली ड्रेगन्स ब्रेथ नाम की मिर्च को दुनिया की सबसे तीखी मिर्च माना जाता है। सबसे पहले इसकी खेती यूनाइटेड किंगडम के डेनबीशायर के सेंट आसाफ ने की थी। हम आपको ये तो बता चुके हैं कि किसी भी खाने वाले प्रोडक्ट के तीखेपन को स्कॉविल इकाई(Scoville Unit) के साथ मापा जाता है। ड्रेगन्स ब्रेथ का तीखापन 2.48 मिलियन स्कॉविल इकाई तक का होता है जो अभी तक सबसे तीखी माने जाने वाले कैरोलिना पेपर्स से लगभग 2.2 मिलियन अधिक है।

भूत जोलकिया 

ghost pepper world hottest chilli

इंडिया की सबसे तीखी मिर्च असम में उगती है। असम की भूत जोलकिया को साल 2007 में दुनिया की सबसे तीखी मिर्ची माना गया और इसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया। भूत जोलोकिया इतनी तीखी मिर्च है कि इसे घोस्ट पेप्पर भी कहा जाता है। इस मिर्च को यू-मोरोक, लाल नागा औऱ नागा जोलोकिया के नाम से भी जाना जाता है। असम के अलावा इस मिर्च की खेती भारत के मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश में भी की जाती है।

आपको बता दें कि साल 2007 में भूत जोलकिया का नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल जरुर हुआ लेकिन साल 2011 में इंफिनिटी चिली (Infinity Chilli) और फिर साल 2012 में नागा वाइपर नाम की मिर्च को गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड के अनुसार सबसे ज्यादा तीखा माना गया था। हर साल ये टाइटल बदलता है। जैसे ही कोई उससे तीखी मिर्ची का अविष्कार होता है उसे पिछली मिर्च के स्कॉविल इकाई से तुलना करके देखा जाता है। 

कैरोलिना रीपर

carolina reaper world hottest chilli peppers

साल 2013 में कैरोलिना रीपर (Carolina Reaper) को तीखेपन के मामले में गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स बुक में जगह मिली थी। भारत की सबसे तीखी मिर्च भूट जोकोलिया को मसालों के साथ औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसका उपयोग सुअर के मांस और सूखी मछली को अधिक समय तक सुरक्षित बनाए रखने के लिए भी किया जाता है। उत्तर पूर्वी भारत के राज्यों में हाथियों के हमलों से बचने के लिए घरों की दीवारों पर इस मिर्च का लेप लगाया जाता है और साथ ही धुआं बम बनाने में भी इस मिर्च का उपयोग किया जा सकता है।

नागा वाइपर 

naga viper world hottest chilli peppers

नागा वाइपर बहुत ही तीखे मिर्चियों का हायब्रिड मिर्च है और इसकी खेती केवल युनाइटेड किंगडम में ही होती है। इसकी उपज अनस्टेबल है जिसका मतलब यह है कि इसके ऑफस्प्रिंग असली मिर्च की तरह नहीं होता और हर मिर्च एक दूसरे से अलग है।

सेवेन पॉट डुगलाह

 pot douglah world hottest chilli peppers

सेवेन पॉट हैबानेरो का रंग चॉकलेट जैसा होता है इसलिये इसे चॉकलेट 7 या चॉकलेट डुगलाह भी कहा जाता है। सेवेन पॉट हैबानेरो नाम इसे इसलिये दिया गया है क्योंकि एक ही मिर्च 7 बड़े फैमिली साइज स्ट्यु के बर्तन को अधिक तीखा बना सकता है।

ट्रिनिडैड बच स्कॉरपियन

trinidad scorpion butch world hottest chilli

ट्रिनिडैड बच स्कॉरपियन ट्रिनिडैड का करिबियन द्वीप पर पाई जाने वाली सबसे तीखी मिर्च में से एक है। यह द्वीप कई तरह के तीखी मिर्चियों के लिये जाना जाता है। स्कॉरपियनपेप्पर्स् को यह नाम इसलिये मिला है क्योंकि इसमें स्कॉरपियन स्टिंगर की तरह नुकीला टेल होता है और इसे बच इसलिये कहा जाता है क्योंकि यह इसके कल्टिवेटर का नाम है बच टेलर। यह नारंगी-लाल रंग वाली सुंदर मिर्च की स्किन मुलायम होती है पर इसे खाने वाले को अपनी रक्षा खुद ही करनी पड़ती है।

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।