जब भी अमृतसर का नाम आता है, तो सबसे पहले गोल्डन टेम्पल घूमने का ख्याल ही मन में आता है। गोल्डन टेम्पल विश्वस्तरीय फेमस गुरूद्वारा है और यहां आने वाली हर पर्यटक गोल्डन टेम्पल अवश्य जाता है। यहां आकर एक अजीब सी शांति का अनुभव होता है। हालांकि, अमृतसर में यह अकेला ही आध्यात्मिक प्लेस नहीं है, बल्कि यहां पर अन्य भी कई बेहतरीन मंदिर है, जिन्हें आपको एक बार अवश्य देखना चाहिए।

अमृतसर यकीनन कई खूबसूरत मंदिरों और गुरूद्वारों का घर है और इस लिहाज से यह ना केवल ऐतिहासिक बल्कि आध्यात्मिक दृष्टि से भी उतना ही महत्वपूर्ण है। अगर आप यहां पर हैं तो देवी के मंदिर से लेकर इस्कॉन मंदिर में घूम सकते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको अमृतसर में स्थित कुछ बेहतरीन टेम्पल्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें देखे बिना आपकी अमृतसर की यात्रा पूरी ही नहीं होगी-

माता लाल देवी मंदिर

mata lal devi temple

यह एक अनूठा मंदिर है जिसमें बेहतरीन मिरर वर्क किया गया है और इसलिए यहां पर आकर हर भक्त एक अलग ही एक्सपीरियंस करता है। यह उन महिलाओं के लिए पूजा का स्थान है जो बच्चा पैदा करना चाहती हैं। यह मंदिर विदेशी पर्यटकों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है। आप भले ही हिन्दू धर्म से संबंधित हों या ना हों, लेकिन फिर भी आपको इस मंदिर में अवश्य आना चाहिए। यहां पर कई मूर्तियां है, संकरी पानी वाली गुफाएं और बड़े सांप के सिर और शेर के सिर के आकार के दरवाजे हैं। जो इस मंदिर को और भी अधिक अद्भुत बनाते हैं।

श्री दुर्गियाना मंदिर

गोल बाग में स्थित श्री दुर्गियाना मंदिर को लक्ष्मीनारायण मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इसका निर्माण और स्वरूप काफी हद तक स्वर्ण मंदिर के समान है। यह मंदिर मुख्य रूप से देवी दुर्गा को समर्पित है और उत्तर भारतीयों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। इस मंदिर में भारतीयों के साथ-साथ विदेशों में रहने वाले भक्त भी आते हैं। मंदिर में आने वाली तीर्थयात्री यहां पर डुबकी भी लगाते हैं। इसमें चांदी के विशाल दरवाजे और संगमरमर की दीवारें हैं। मंदिर में भक्तों और आगंतुकों के लिए लंगर भी लगाया जाता है।

इसे ज़रूर पढ़ें-श्रीपुरम गोल्डन टेम्पल: दक्षिण भारत का सबसे अद्भुत और पवित्र मंदिर

बड़ा हनुमान मंदिर

hanuman mandir

गोल बाग में ही दुर्गियाना मंदिर के करीब, बड़ा हनुमान मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित एक मंदिर है, जहां पहुंचने के लिए आपको तंग गलियों से होकर जाना पड़ेगा। मंदिर के अंदर भगवान शिव की पूजा भी की जाती है, वहीं मंदिर के बाहर एक पवित्र बरगद का पेड़ है। भगवान हनुमान एक पौराणिक वानर राजा थे और मंदिर में आपको कई बंदर घूमते हुए मिलेंगे। भक्तों के लिए रामायण भजन जपने के लिए एक कमरा है, जहां पर जाते ही आपको एक अजीब सी शांति और खुशी का अहसास होता है।

इस्कॉन मंदिर

अमृतसर में एक छोटा और मनमोहक इस्कॉन मंदिर भी है, जिसके सेंटर में कृष्ण और राधा की मूर्तियां हैं। मंदिर में सुंदर सजावट की गई है और यहां पर मौजूद कलाकृतियां माहौल को और भी अधिक मंत्रमुग्ध बना देती है। यहां पर मेडिटेशन के अलावा संडे लव फेस्ट का आयोजन किया जाता है, जिसे आपको जरूरत अटेंड करना चाहिए। अमृतसर का इस्कॉन मंदिर भारत में अन्य की तुलना में छोटा है, लेकिन फिर भी यह आपकी अमृतसर ट्रेवल बकिट लिस्ट में अवश्य होना चाहिए।  

Recommended Video

वाल्मीकि मंदिर या राम तीरथ

walmikki temple

वाघा सीमा के पास अमृतसर के बाहरी इलाके में स्थित, यह संत वाल्मीकि को समर्पित एक प्रमुख तीर्थ स्थान है। वाल्मीकि जी ने ही रामायण लिखी थी। इतना ही नहीं, राम से अलग होने के बाद देवी सीता ने वाल्मीकि जी के आश्रम में ही शरण ली थी।  ऐसा माना जाता है कि उनके पुत्र लव और कुश का जन्म यहीं हुआ था और राम की सेना और उनके पुत्रों के बीच लड़ाई यहीं हुई थी। मंदिर का परिसर विशाल है, जिसमें वाल्मीकि आश्रम, एक बड़ी पानी की टंकी और कुछ छोटे मंदिर हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें- Gurpurab Special: गोल्डन टेम्पल में लगने वाले लंगर के बारे में जानें अनोखे तथ्य

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit- Amritsar.nic, tripinvites, amritsar.tourismindia