• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

तो इसलिए वैष्णों देवी में हजारों लोग आते हैं अपनी मुरादें लेकर

क्या आप जानती हैं वैष्णों देवी के मंदिर के पीछे एक कहानी है जिसे जानने के बाद ही समझ में आता है कि आखिरकार क्यों यहां हजारों भक्तों की मुरादें पूरी हो...
author-profile
  • Kirti Jiturekha
  • Editorial
Published -16 Mar 2018, 18:00 ISTUpdated -17 Jul 2019, 18:21 IST
Next
Article
vaishno devi temple history

वैष्णों देवी जहां ना जाने कितने भक्तों की मुरादें पूरी होती हैं, हर साल यहां हजारों लोग मां वैष्णों देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं लेकिन क्या आप जानती हैं वैष्णों देवी के मंदिर के पीछे एक कहानी है जिसे जानने के बाद ही समझ में आता है कि आखिरकार क्यों यहां हजारों भक्तों की मुरादें पूरी होती हैं। 

नवरात्र के समय तो वैष्णों देवी के दर्शन के लिए भीड़ लगती है। आलम ये होता है कि लोग घंटों लाइन में लगकर भी उनकी एक झलक पाने को बेताब रहते हैं। कई लोगों की मन्नत यहां आकर पूरी हो जाती है।

इसे जरूर पढ़ें- वैष्णो मां के करने हैं दर्शन तो खर्च करने होंगे केवल 2500 रुपये 

चलिए जानते हैं क्या है वैष्णों देवी के मंदिर के पीछे की कहानी

जम्मू के त्रिकूट पर्वत पर एक भव्य गुफा है और वैष्णो देवी की गुफा में प्राकृतिक रूप से तीन पिण्डी बनी हुई है। यह पिण्डी देवी सरस्वती, लक्ष्मी और काली की हैं। भक्तों को इन्हीं तीन पिण्डियों के दर्शन होते हैं लेकिन मां वैष्णो की यहां कोई पिण्डी नहीं है। माता वैष्णो यहां अदृश रूप में मौजूद हैं फिर भी यह स्थान वैष्णों  देवी तीर्थ कहलाता है। 

ऐसा कहा जाता है कि वैष्णों देवी मंदिर का निर्माण लगभग 700 साल पहले एक ब्राह्मण पुजारी पंडित श्रीधर द्वारा कराया गया था। वह बहुत ज्यादा गरीब थे, उनके मन में मां वैष्णों देवी के लिए बहुत ज्यादा भक्ति थी। ऐसा कहा जाता है कि उन्हें एक दिन मां सपने में दिखी और कहां कि वो उनके लिए एक भंडारा कराए। मां वैष्णो देवी को समर्पित भंडारे के लिए एक शुभ दिन तय किया गया और श्रीधर ने आसपास के सभी गांव वालो को प्रसाद ग्रहण करने का न्योता भी दे दिया। 

vaishno devi temple history inside

मां वैष्णों देवी के इस भंडारे के लिए कुछ लोगों ने उनकी मदद की लेकिन वो मदद उस भंडारे के लिए काफी नहीं थी। जैसे-जैसे भंडारे का का दिन नजदीक आता जा रहा था ब्राह्मण की परेशानी बढ़ती जा रही थी। वह बस यही सोच रहे थे कि इतने कम सामान के साथ भंडारा कैसे हो पाएगा। 

इसे जरूर पढ़ें-  ये हैं गुजरात के 7 फेमस मंदिर जहां मोदी और राहुल भी टेकते हैं मत्था

भंडारे से एक दिन पहले ब्राह्मण एक पल के लिए भी नहीं सो पा रहे थे यह सोचकर की वह मेहमानों के खाने का इंतजाम कैसे पाएंगे। वह सुबह तक समस्याओं से घिरे हुए थे और ऐसे में उन्हें बस देवी मां के किसी चमत्कार की उम्मीद थी। 

ब्राह्मण अपनी कुटिया के बाहर पूजा के लिए बैठ गए और दोपहर तक भंडारे के लिए मेहमान आना शुरू हो गए। सभी लोग ब्राह्मण की छोटी सी कुटिया में आसानी से बैठ गए और इसके बाद भी कुटिया में जगह थी। 

इसके बाद ब्राह्मण ने अपनी आंखें खोली और सोचा की वो इन सभी को भोजन कैसे करा पाएंगे। तब उन्होंने अचानक से एक छोटी सी लड़की को कुटिया से बाहर आते हुए देखा जिसका नाम वैष्णवी था। वह सभी को भंडारा किला रही थी और उस कन्या का नाम वैष्णवी था। 

vaishno devi temple history inside

भंडारे के बाद ब्राह्मण कन्या वैष्णवी के बारे में जानने के लिए उत्सुक थे लेकिन अचानक से वैष्णवी गायब हो गई और उसके बाद किसी को नहीं दिखी। कुछ दिनों के बाद ब्राह्मण को वैष्णवी कन्या का सपना आया उसमें स्पष्ट हुआ कि वह मां वैष्णो देवी थी। 

कन्या के रूप में आई माता रानी ने ब्राह्मण को सनसनी गुफा के बारे में बताया। इसके बाद ब्राह्मण श्रीधर मां की गुफा की तलाश में निकल पड़े। जब उन्हें वह गुफा मिली तो उन्होंने तय किया की वह अपना सारा जीवन मां  की सेवा करेंगे। बस यही थी मां वैष्णों देवी की कहानी। भारत में ऐसे कई मंदिर हैं जहां ऐसी ही कहानियां प्रचलित हैं, लेकिन उन सभी में मां वैष्णों देवी की बात कुछ अलग है। 

आज इंडिया हो या फिर विदेश इस दुनिया के कोने-कोने से लोग अपनी मन्नतें लेकर वैष्णों देवी के धाम आते हैं। 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।