Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    दिल्ली का सिग्नेचर ब्रिज बनेगा एक भव्य टूरिस्ट डेस्टिनेशन

    आधुनिक तकनीक से तैयार हुए सिग्नेचर ब्रिज को बनने में 8 साल से भी ज्यादा लग गए। एक भव्य टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित किए जा रहे इस ब्रिज के पूरा...
    author-profile
    Updated at - 2018-08-22,18:11 IST
    Next
    Article
    SIGNATURE BRIDGE article

    लंबे वक्त से दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज के निर्माण का काम चल रहा है। माना जा रहा है कि इस बहुप्रतीक्षित सिग्नेचर ब्रिज का काम अक्टूबर महीने तक पूरा हो जाएगा। यह ब्रिज दिल्ली को उत्तर प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्र गाजियाबाद स्थित ट्रॉनिका सिटी से कनेक्ट करेगा। इस ब्रिज को बनने में 8 साल से भी ज्यादा का वक्त लग गया। इस प्रॉजेक्ट की घोषणा साल 2004 में हुई थी, जबकि दिल्ली कैबिनेट ने इसे बनाने का अप्रूवल 2007 में दिया था। प्लानिंग के अनुसार इसे अक्टूबर 2010 में बनकर तैयार हो जाना चाहिए था। लेकिन 8 साल बाद भी अब तक ब्रिज का काम पूरा नहीं हुआ है। 

    SIGNATURE BRIDGE inside

    सिग्नेचर ब्रिज से खूबसूरत दिखती है दिल्ली

    सिग्नेचर ब्रिज के इस प्रॉजेक्ट पर लोक निर्माण विभाग के साथ दिल्ली टूरिज्म और ट्रांसपोर्ट डिवेलपमेंट कॉर्पोरेशन (DTTDC) भी काम कर रहा है। इतने बड़े पैमाने पर इस ब्रिज पर इसलिए काम हो रहा है क्योंकि इसके बनकर तैयार हो जाने के बाद इसे टूरिज्म प्लेस के तौर पर डेवलप किया जाएगा।

    दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने हाल ही में कहा है, 'सिग्नेचर ब्रिज देश के सबसे अहम टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स में से एक बनेगा। इसे पब्लिक यूज के लिए 31 अक्टूबर तक खोल दिया जाएगा। इस ब्रिज पर 154 मीटर की ऊंचाई पर ग्लास बॉक्स बनाया जा रहा है, जहां से पूरे शहर का नजारा बेहद खूबसूरत दिखेगा। 

    सिग्नेचर ब्रिज से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य

    • यह ब्रिज वजीराबाद ब्रिज, जिससे लोग दिल्ली और गाजियाबाद के बीच आवाजाही करते हैं,  पर पड़ने वाले बोझ को बांट लेगा। पश्चिमी किनारे पर आउटर रिंग रोड को पूर्वी किनारे के वजीराबाद रोड से जोड़ता है। इस ब्रिज के शुरू होने के बाद गाजियाबाद और भोपुरा बॉर्डर के बीच आने-जाने के समय में 30 मिनट कम हो जाएंगे। 
    • 675 मीटर का यह ब्रिज धनुष के आकार का है और लगभग 154 मीटर ऊंचा है, जो कुतुब मीनार से लगभग दुगुना ऊंचा है। भारत का यह पहला एसिमिट्रिकल केबल स्टेड ब्रिज है। 
    • ब्रिज का काम पूरा न होने के मद्देनजर दिल्ली हाई कोर्ट में एक पीआईएल दायर की गई थी जिसमें कहा गया है कि साल 2011 से लेकर अब तक सिग्नेचर ब्रिज का प्रॉजेक्ट पूरा होने की डेडलाइन कई बार मिस हो चुकी है। दिल्ली के PWD विभाग ने दिल्ली हाई कोर्ट को इस बात का भरोसा दिलाया कि सिग्नेचर ब्रिज का काम अगले 2 महीने में यानी अक्टूबर महीने तक पूरा हो जाएगा जिसके बाद ब्रिज का ट्रायल शुरू होगा। 
    • यमुना नदी पर बन रहा 154 मीटर ऊंचा सिग्नेचर ब्रिज जब बनकर तैयार हो जाएगा तब यह वजीराबाद ब्रिज पर होने वाले वाहनों के ट्रैफिक का बोझ कुछ कम कर देगा। इससे वजीराबाद ब्रिज की मरम्मत का काम भी शुरू किया जा सकेगा। सिग्नेचर ब्रिज नॉर्थ दिल्ली को नॉर्थ ईस्ट दिल्ली और गाजियाबाद से जोड़ेगा। साथ ही इससे रिंग रोग पर होने वाला ट्रैफिक भी कुछ कम हो जाएगा। 
    • दिल्ली सरकार ने इस ब्रिज को बनाने के लिए एक एरियल सर्वे किया था और सिग्नल फ्री कॉरिडोर के रीएलाइनमेंट के लिए और दक्षिण दिल्ली में डीएनडी फ्लाईवे से ब्रिज को जोड़ने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया था। इस तरह के प्रोजेक्ट में ड्रोन का यह अपनी तरह का अनूठा प्रयोग था। 
     

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।