भारत में रॉयल्टी का अपना एक इतिहास है और देश भर में कई शाही महल और किले हैं। कुछ पैलेस को तो आज भी संरक्षित किया गया है, वहीं कुछ पुराने महलों को लक्जरी होटलों में परिवर्तित कर दिया गया है। इन होटलों में ठहरना यकीनन आपके लिए थोड़ा महंगा साबित हो सकता है, लेकिन अगर आप एक दिन रॉयल अंदाज में जीना चाहती हैं तो इन पैलेस होटल्स में ठहरना अच्छा विचार रहेगा। भले ही पुराने महलों को होटल की शक्ल दे दी गई हो, लेकिन फिर भी इन होटल्स में उस शाही जीवन व अंदाज को बरकरार रखा गया है। इस तरह इन होटल्स में मात्र एक दिन बिताने से आप आसानी से महसूस कर सकती हैं कि पुराने समय में राजा-महाराजा का जीवन कैसा होता था। तो चलिए आज हम आपको भारत के कुछ बेहतरीन पैलेस होटल्स के बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में जानने के बाद आप यकीनन यहां पर अपना कुछ समय जरूर बिताना चाहेंगी-

इसे जरूर पढ़ें: चीन के बाद राजस्थान के इस किले की दीवार है वर्ल्ड की सबसे लंबी दीवारों में शुमार 

नीमराना फोर्ट-पैलेस, अलवर

insidde  palace hotels india

अपनी अद्भुत वास्तुकला के साथ 553 साल पुराना मध्यकालीन महल आज भारत के बेहतरीन होटलों में गिना जाता है। राजस्थान की अरावली श्रेणी पर स्थित, नीमराना फोर्ट-पैलेस एक लक्जरी होटल है, जिसमें बहुत कुछ है। यह महल काफी बड़ा है और इसे भागों में विभाजित किया गया है। हर भाग की अपनी एक अलग शैली है। यहां के बेहतरीन कमरों के साथ आप तैराकी, स्पा और बेहतरीन भोजन का लुत्फ उठा सकती हैं।

ताज फलकनुमा पैलेस, हैदराबाद

inside  palace hotels india

कभी हैदराबाद के निज़ामों का निवास था, लेकिन अगर आज भी आप हैदराबाद में रॉयल्टी और भव्यता का अहसास करना चाहती हैं तो एक बाद ताज फलकनुमा पैलेस में जरूर जाइए। यह मूल रूप से पैगा परिवार के स्वामित्व में था, और बाद में निजामों के स्वामित्व में आया। इस पैलेस होटल्स के कमरे और सुइट्स का डेकोर शाही जीवन की झलक पेश करता है। यहां पर आप गोल बंगले में हैदराबाद शहर के नजारों का आनंद उठाते हुए एक बेहतरीन मील ले सकते हैं। वैसे महल में एक हुक्का लाउंज भी है।

इसे जरूर पढ़ें: राजस्थान में जयपुर ही नहीं उदयपुर की ये 5 जगहें हैं देखने लायक


रामथरा का किला, राजस्थान

inside  palace hotels india

अगर आप राजस्थान के जंगलों का लुत्फ उठाना चाहती हैं, तो रामथरा के किले में एक बार जरूर घूमकर आइए। इस किले को 1645 ई में करौली के राजा द्वारा ठाकुर भोज पाल को प्रदान किया गया था। इसका रामायण से भी जुड़ाव है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि भगवान राम ने लंका की यात्रा के दौरान यहां डेरा डाला था। यहाँ आप भरतपुर पक्षी अभयारण्य से दूर और दूर उड़ते पक्षियों को देख सकती हैं। इस किले के सुइट्स और कमरों के अलावा, आप लक्जरी टेंट में भी रहने का भी मौका पा सकते हैं। फ़ार्म टू टेबल डाइनिंग इसके स्टार आकर्षणों में से एक है।