इंडिया में होली पर अजीबो-गरीब पंरपराएं निभाई जाती हैं जैसे कहीं लाठी मारकर होली सेलिब्रेट की जाती है तो कहीं अंगारे फेंक कर होली का जश्न मनाया जाता है। होली फेस्टिवल का अपना ही एक अलग मजा है। यह सच है कि होली का त्यौहार रंगों के साथ-साथ घर में खुशियों का माहौल भी लेकर आता है। इस दिन हर कोई एक-दूसरे को रंगों में रंगना चाहता है।  इंडिया में लगभग हर राज्य में रंगो के इस फेस्टिवल को सेलिब्रेट किया जाता है। होली 2020 पर हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसी ही परंपराओं के बारे में।

भारत के कुछ राज्यों में होली को लेकर आज भी बहुत सी अजीबो-गरीब परंपराएं निभाई जाती हैं। तो चलिए जानते है होली के फेस्टिवल से जुड़ी कुछ अजीब परंपराओं के बारे में: 

ब्रज, एक हफ्ते चलती हैं यहां होली 

होली फेस्टिवल से जुड़ी अजीबो-गरीब परंपरा के बारे में बताने की शुरुआत यही से करते हैं कि ब्रज के बरसाना गांव में होली की टोलियां जब पिचकारियां मारती है तो महिलाएं उनपर लाठियां बरसाती हैं। पुरुषों को इन लाठियों से बचकर महिलाओं को रंगों से भिगोना होता है। इसे लट्ठमार होली भी कहा जाता है। 

holi celebration Lath mar holi

Image Courtesy: Wikimedia

यहां आपको बता दें कि बृज में हफ्ते भर होली चलती है इसलिए यहां विदेशियों की भी भीड़ लगी रहती है। मथुरा, वृंदावन, गोकुल, नंदगांव, बरसाने में कुल एक हफ्ते तक होली चलती है। वृंदावन में फूलों से होली खेली जाती है तो कहीं भांग के नशे में होली का सेलिब्रेशन किया जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें: Holi 2020: 3 मार्च से शुरू हो रही है बृज की होली, जानें कब,कहां और कैसे मनेगा त्‍योहार 

विधवाओं की होली

वृंदावन में विधवाओं की होली खेली जाती है। कुछ ही साल पहले वृंदावन में विधवाओं की होली का चलन पागल बाबा के मंदिर से शुरू हुआ था। अमूमन ये होली फूलों की होली के अगले दिन अलग-अलग मंदिरों में खेली जाती है। जीवन के रंगों से दूर इन विधवाओं को होली खेलते देखना बेहद ही सुंदर नजारा होता है। 

holi celebration phulo ki holi

Image Courtesy: Wikimedia

होली से अगले दिन होली

दाऊजी हुरंगा  मंदिर में होली के अगले दिन मनाया जाने वाला यह फेस्टिवल 500 साल पुराना है। इस मंदिर के सेवादार परिवार की महिलाएं पुरुषों के कपड़े फाड़कर उनसे उन्हें पीटती हैं। इस परिवार में अब 300 से ज्यादा लोग हैं। यहां का नजारा बहुत ही अलग होता है और यहां आपको बता दें कि दाऊजी का मंदिर मथुरा से 30 किलोमीटर दूर है। 

अगर इस होली पर आप मथुरा जा रही हैं और इस नजारे को देखना चाहती हैं तो आपको सुबह बहुत ही जल्दी दाऊजी हुरंगा  मंदिर पहुंचना होगा। 

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें: यह जगह है बेहद खूबसूरत, इसे कहते हैं इंडिया का स्कॉटलैंड

मध्यप्रदेश, होली में शादी का भी है रिवाज 

मध्यप्रदेश के एक गांव में युवक हाथों में मांदल नामक वाद्य यंत्र लेकर बजाते हैं और नृत्य करते हुए युवती को गुलाल लगा देते हैं। अगर ऐसे में युवती भी युवक को रंग लगा देती है तो इसे रजामंदी समझा जाता है। इसके बाद दोनों भाग जाते है और उनकी शादी हो जाती है। 

holi celebration mp

Image Courtesy: Wikimedia

मालवा, यहां फेंके जाते हैं अंगारे 

मध्यप्रदेश के गांव मालवा में होली के दिन लोग एक-दूसरे के उपर अंगारे फेंकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस प्रकार अंगारे फेंकने से होलिका राक्षसी का पूरी तरफ विनाश हो जाता है।

holi celebration women holi

Image Courtesy: Imagebazaar

कुंडारा, पुरुष नहीं खेल सकते हैं होली 

यूपी  के कुंडारा में पुरुषों को होली खेलने की मनाही होती है। जी हां, यहां की महिलाएं राजजानकी मंदिर में इकट्ठा होकर आपस में ही होली खेलती हैं। 

हिमाचल प्रदेश, मायके में भेजी जाती है रोटी 

हिमाचल प्रदेश मंडी जिले के सुकेत इलाके में होली पर बहन-बेटियों को रोटी मायके से भेजी जाती है और जिसे बांटा भी कहा जाता है। वहां के लोगों का मानना है कि मायके की जमीन में उगी फसल का शेयर बेटियों को प्रतीक के रूप में दिया जाता है।