गंगा तट पर स्थित काशी पुरानी नगरी है। लोग दूर-दूर से भगवान भोलेनाथ के दर्शन करने के लिए यहां आते हैं, लेकिन यहां मां दुर्गा का भी पुरातन मंदिर है। वाराणसी में कई प्रमुख मंदिर है, उन्हीं में से एक है मां दुर्गा का ये मंदिर। नवरात्रि में यहां मां दुर्गा की पूजा करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ती है। अगर आप वाराणसी जाने का प्लान बना रही हैं तो दुर्गाकुंड जाना ना भूलें।

विशेष बात है कि इस मंदिर में मां दुर्गा के कई स्वरूपों के दर्शन करने का सौभाग्य मिलता है। यही कारण है कि लोग माता के दर्शन के लिए घंटों लाइन में लगे रहते हैं। यहां जाने पर लोगों के अंदर सकारात्मक उर्जा का बहाव महसूस होता है। इसलिए दर्शन के बाद कुछ लोग मंदिर के प्रांगण में बैठते हैं और फिर बाहर जाते हैं। वहीं इस मंदिर का मुख्य द्वार इस तरह बनाया गया कि आप सड़क से भी माता के दर्शन प्राप्त कर सकती हैं।

ऐसे हुआ था मंदिर का निर्माण

durga kund

इस मंदिर का निर्माण 18वीं शताब्दी में रानी भवानी ने करवाया था, जो देवी की एक भक्त थीं। इसकी प्रमुख विशेषताओं में से एक है इस मंदिर का कुंड जो मंदिर के परिसर में ही बनाया गया है। इस कुंड को लोग गंगा नदी से जोड़ते हैं। इस मंदिर की वास्तुकला की बात करें तो इसका निर्माण उत्तर भारतीय नागर शैली में लाल पत्थरों से किया गया है। वहीं मां दुर्गा का मुख्य चिह्न, जिसे शक्ति की देवी भी माना जाता है। उसे भी लाल रंग में देखा जा सकता है। यही नहीं जब आप मंदिर के अंदर जाते हैं तो आपको दीवारों पर उकेरे गए कई सुंदर नक़्क़ाशीदार पत्थर दिखाई देंगे। इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको वाराणसी के कैंट स्टेशन से ऑटो मिल जाएगा। इसके अलावा आप निजी वाहन कर के भी आप यहां पहुंच सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: हरिद्धार जाने पर इन प्रसिद्ध मंदिरों के जरूर करें दर्शन, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी

आदिकाल से है यह मंदिर 

durga kund mandir

इस मंदिर में माता दुर्गा यंत्र के रूप में विरामजान है। मंदिर के प्रांगण में माता दुर्गा के अलावा देवी सरस्वती, लक्ष्मी, काली, और बाबा भैरोनाथ की अलग-अलग मूर्तियां स्थापित हैं। माता के दर्शन के अलावा मंदिर के पुजारियों के भी दर्शन करें। वहीं इस मंदिर को लेकर ऐसी मान्यताएं कि यह आदिकाल से है। जब माता दुर्गा ने असुर शुंभ और निशुंभ का वध किया था, तो मां ने यहीं विश्राम किया था। इस मंदिर में वह शक्ति स्वरूप में विराजमान। बता दें कि आदिकाल से सिर्फ तीन मंदिर ही थे, जिसमें पहला काशी विश्वनाथ, दूसरा मां अन्नपूर्णा, और तीसरा दुर्गा मंदिर है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दुर्गा कुंड में तंत्र पूजा भी की जाती है। प्रत्येक दिन इस कुंड में हवन किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: सुबह और शाम ग़ायब हो जाता है शिव का ये मंदिर, दर्शन के लिए दूर-दूर से आते हैं लोग

Recommended Video

दुर्गा कुंड के आसपास हैं कई मंदिर

banaras ka durga kund

वाराणसी में स्थित दुर्गा कुंड के आसपास कई मंदिर है, जहां आप दर्शन के लिए जा सकती हैं। जिसमें संकट मोचन, तुलसी मानस मंदिर आदि शामिल हैं। दुर्गा कुंड पहुंचने के बाद इन मंदिरों के दर्शन आसानी से किये जा सकते हैं।

यह आर्टिकल आपको अच्‍छा लगा हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें। साथ ही इसी तरह के और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।