आजकल महिलाएं अपनी खूबसूरती बढ़ाने के लिए कई तरह के नुस्खे आजमाती हैं। महिलाओं की त्वचा संबंधी कई समस्याओं में से पिंपल्स, एक्ने, रिंकल्स एजिंग के लक्षण आदि शामिल हैं। इन सभी त्वचा समस्याओं को कुछ टेक्निकल  सल्यूशंस से दूर किया जा सकता है। खूबसूरत चेहरे के पीछे का राज़ स्वस्थ त्वचा होती है। लेकिन अगर इसे कुछ हो जाए तो खूबसूरती पर जैसे ग्रहण सा लग जाता है।

विज्ञान की दिनों-दिन तरक्की और बढ़ती आधुनिक तकनीकियों की मदद से अब इन सभी त्वचा समस्याओं से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। आइए उन आधुनिक टेक्निकल सल्यूशंस के बारे में जानते हैं, सुप्रसिद्ध कॉस्मेटोलॉज़िस्ट, ऐस्थिटीशियन व एल्पस कॉस्मेटिक क्लीनिक एंड एकेडमी की फाउंडर डॉयरेक्टर, भारती तनेजा जी से।

bhaarti taneja skin solutions

येलो लेज़र

येलो लेजर एक विशेष तरंग दैर्ध्य - 577 एनएम - का उपयोग करके एक बहुमुखी त्वचा कायाकल्प तकनीक है जो त्वचा की गहरी परत के उपचार में मदद करती है। यह सुरक्षित, दर्द रहित प्रक्रिया त्वचा की विभिन्न स्थितियों के उपचार के लिए प्रभावी रूप से काम करती है। जिनमें त्वचा की कई समस्याएं जैसे एक्ने सन स्पॉट, एजिंग के लक्षण शामिल हैं। ये लेज़र तकनीक आंखों के नीचे आए डार्क सर्कल को कम करने में काफी सहायक है। भारती जी बताती हैं आमतौर पर लेज़र आंखों के लिए सुरक्षित नहीं होती पर ये लेज़र आंखों के लिए सेफ है। इस लेज़र के प्रभाव से त्वचा रीजनरेट होती है। इसके अलावा ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है साथ ही पिग्मेंटेशन के कम होने से डार्क सर्कल भी लाइट नज़र आने लगते हैं। इतना ही नहीं इस ट्रीटमेंट से झुर्रियां भी बहुत हद तक कम हो जाती हैं।

रेड लेज़र

red laser tecnique

एंटी-माइक्रोबियल प्रकृति होने के कारण रेड लेज़र तकनीक से सभी प्रकार के इंफैक्शन को दूर किया जा सकता है और नए सेल्स को रीजनरेट किया जा सकता है। ये त्वचा की अंदरूनी लेयर पर कार्य करती है। रेड लेज़र द्धारा चेचक के दाग, बर्न मार्क्स, चोट, मुंहासे, खरोंच व उनके निशानों को मिटाकर चेहरे को सुंदर व आकर्षक बनाया जा सकता है। भारती तनेजा जी बताती हैं कि स्किन को रीजनरेट करने के साथ-साथ यदि क्लीनिक में कोलाजन मास्क और घर पर कोलाजन सीरम का इस्तेमाल किया जाए तो रिज़ल्ट लगभग बेहतर आता है।

इसे जरूर पढ़ें:40 की उम्र के बाद त्वचा की खूबसूरती के लिए फॉलो करें एक्सपर्ट के ये स्किन केयर टिप्स

हाई फ्रीक्वेंसी मशीन

इस मशीन के जरिए स्किन रीवाइटालाइज़ और रीजुवेनेट होती है साथ ही हीलिंग प्रॉसेस की प्रक्रिया भी तेज हो जाती है। इसके अलावा इससे ब्लैकहैड्स व व्हाइटहैड्स रिमूव होते हैं और ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है जिससे चेहरे पर ग्लो नज़र आता है। इस ट्रीटमेंट को करते समय त्वचा के आस-पास की ऑक्सीजन ओज़ोन में बदल जाती है जिसके एंटी-बैक्टीरियल गुण त्वचा की ऊपरी सतह में समाहित हो कर उसे क्लीन करते हैं और चेहरे को फ्लॉलेस लुक देते हैं। एंटी-फंगल और एंटी-सेप्टिक गुणों के होने से इंफैक्टेड स्किन जल्दी ठीक हो जाती है। इसी कारण ये ट्रीटमेंट एक्ने के लिए बेस्ट है।

डर्माब्रेशन तकनीक

derma skin treatment

डर्माब्रेशन एक एक्सफ़ोलीएटिंग तकनीक है जो आमतौर पर चेहरे पर त्वचा की बाहरी परतों को हटाने के लिए एक घूमने वाले उपकरण के उपयोग से की जाती है। यह उपचार उन लोगों में लोकप्रिय है जो अपनी त्वचा की समस्याओं में सुधार करना चाहते हैं। इसके द्वारा इलाज की जा सकने वाली कुछ स्थितियों में महीन रेखाएं, सूरज की क्षति, मुंहासों के निशान और असमान बनावट शामिल हैं। भारती तनेजा जी बताती हैं कि डर्माब्रेशन तकनीक में एल्यूमिनीयम क्रिस्टल्स की मदद से त्वचा की ऊपरी सतह निकल जाती है, जिससे दाग-धब्बे कम होते हैं और त्वचा पर इंस्टेंट निखार आ जाता है। ऐसे में इस ट्रीटमेंट का सबसे बड़ा फायदा ब्राइडल और प्री-ब्राइडल में देखने को मिलता है। कई बार जब मुंहासे त्वचा की गहराई तक हो जाते हैं तो स्किन पर गड्ढ़े भी पड़ जाते हैं। इन गड्डों को कम करने के लिए भी ये ट्रीटमेंट बहुत कारगर है। इस तकनीक का इस्तेमाल स्किन पॉलिशिंग ट्रीटमेंट के अंदर भी किया जाता है।

Recommended Video

अल्ट्रासॉनिक मशीन

लगभग सभी स्किन ट्रीटमेंट में ये सबसे तेज और प्रभावशाली ट्रीटमेंट है। इसके अंतर्गत साउंड वेव्स का प्रयोग करके स्किन के अंदर प्रोडक्ट्स को डीपली पेनीट्रेट किया जाता है जिससे सभी जरूरी तत्व स्किन के अंदर समा जाते हैं और त्वचा पर एक अल्ट्रा ग्लो नज़र आता है। इसके साथ ही इस प्रक्रिया से स्किन रीजनरेट भी होती है।

यहां बताए गए सभी ट्रीटमेंट विशेष रूप से त्वचा की कई समस्याओं के लिए प्रभावी हैं। इसलिए इन ट्रीटमेंट्स से आप भी त्वचा के विकारों को आसानी से दूर कर सकती हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik