Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    कितने तरह के फेस प्राइमर के बारे में जानती हैं आप?

    मेकअप करने से पहले चेहरे पर प्राइमर लगाना जरूरी होता है। चलिए आज हम आपको अलग-अलग तरह के प्राइमर के बारे में बताते हैं।
    author-profile
    Published -01 Feb 2022, 15:45 ISTUpdated -01 Feb 2022, 16:00 IST
    Next
    Article
    all about face primers

    मेकअप आर्टिस्ट और प्रोफेशनल हमेशा स्किन को मेकअप करने से पहले तैयार करने के बारे में बताते हैं। आपकी त्वचा जितनी स्मूथ होती है, मेकअप भी आपके चेहरे पर उतनी बेहतर तरीके से लगता है। अपने चेहरे को मॉइश्चराइज करने के बाद, प्राइमर का उपयोग करना गेम-चेंजर हो सकता है। यह आपकी त्वचा को एक समान बनाता है और आपके पोर्स को ब्लर करता है, जिससे आपका मेकअप लंबे समय तक टिका रहता है।

    ब्यूटी मार्केट अलग-अलग तरह के प्राइमरों से भरा पड़ा है। अलग-अलग स्किन तो और जरूरतों के आधार पर प्राइमर यूज किए जाते हैं। आज हम आपको अलग-अलग तरह के फेस प्राइमर और उनके फायदों के बारे में बताएंगे।

    मैट प्राइमर

    matt primer

    मैट प्राइमर ऑयली स्किन वाली महिलाओं के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। मैटिफाइंग प्राइमर आपके पोर्स को ब्लर करने और फाइन लाइन्स को स्मूथ करने के साथ-साथ फाउंडेशन को लंबे समय तक टिकने में मदद करता है। एक सिलिकॉन प्राइमर मैटिफाइंग होता है और आपकी त्वचा के टेक्सचर को स्मूथ करता है। यह आपके पोर्स को फिल करता है, जिससे एक अच्छा बेस तैयार होता है। यह थोड़े से चिपचिपे हो सकते हैं, जो आपके फाउंडेशन और कंसीलर को टिकने में मदद करते हैं। सिलिकॉन प्राइमर्स ऑयली स्किन वालों के लिए बेहतर प्रोडक्ट है, क्योंकि उससे आपका मेकअप न मेल्ट होगा और न क्रीज आएगी।

    हाइड्रेटिंग प्राइमर

    hydrating primer

    एक अन्य लोकप्रिय प्रकार का प्राइमर हाइड्रेटिंग प्राइमर है जिसे ऑयल-बेस्ड प्राइमर के रूप में भी जाना जाता है। चेहरे के लिए इस तरह का प्राइमर रूखी त्वचा वालों के लिए वरदान है। प्राइमर ऑयल आमतौर पर उन ऑयल्स से तैयार किया जाता है, जो हाइलूरोनिक एसिड और एंटीऑक्सीडेंट इंग्रीडिएंट्स के साथ त्वचा को मॉइश्चराइज और पोषण देते हैं।

    एक ऑइल प्राइमर यह सुनिश्चित करता है कि आपकी त्वचा को गहराई से पोषण मिले और उसमें ड्राई पैच न हों। त्वचा में ड्राई पैच होने से मेकअप उनमें जमा हो जाता है और क्रीज्ड दिखता है। मेकअप ऑयल प्राइमर आपके प्रोडक्ट्स जैसे ब्लश, कन्टूर और हाइलाइटर की स्मूथ एप्लिकेशन में मदद करता है। अगर आपकी त्वचा रूखी है, तो आपको ऐसे प्राइमर का इस्तेमाल करना चाहिए।

    इल्यूमिनेटिंग प्राइमर

    illuminating primer

    एक इल्यूमिनेटिंग प्राइमर काफी हद तक सिलिकॉन प्राइमर की तरह काम करता है। बस अंतर यह है कि इस तरह का प्राइमर आपकी त्वचा में थोड़ी चमक ऐड करता है। इसका इस्तेमाल आप तब करते सकते हैं जब आपको ड्यूवी मेकअप लुक चाहिए। जब आप फाउंडेशन इसके ऊपर अप्लाई करते हैं तो यह आपके चेहरे को एक ग्लासी और ग्लो लुक देता है। किसी खास मौके पर ड्यूवी प्राइमर का इस्तेमाल किया जा सकता है। वैसे इसे हर स्किन टाइप की महिलाएं इस्तेमाल कर सकती हैं, लेकिन ड्राई स्किन वालों के लिए यह काफी अच्छा है, चूंकि इसे ड्राई स्किन में एक ग्लो आता है। जब तक प्राइमर हैवी और गहरा मॉइश्चराइजिंग न हो, तब तक इसे तैलीय त्वचा के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

    इसे भी पढ़ें : मेकअप करने से पहले जरूरी है प्राइमर, जानें इसे सही से लगाने का तरीका

    कलर करेक्टिंग प्राइमर

    color correcting primer

    कलर करेक्टिंग प्राइमर एक ऐसा प्राइमर होता है, जो आपके चेहरे पर अनइवन रंग को एक समान करने में मदद करता है। यदि आपकी आंखों के नीचे रोसैसिया या फिर काले-बैंगनी डार्क सर्कल्स हैं, तो आप कलर करेक्टर प्राइमर का विकल्प चुन सकती हैं क्योंकि वे उन्हें ठीक करने और आपके अंडरटोन को बेअसर करने में आपकी मदद करते हैं। उदाहरण के लिए, एक ग्रीन कलर करेक्टर प्राइमर आपके चेहरे पर रेडनेस को दबाने में आपकी सहायता करेगा। ग्रीन कलर करेक्टिंग प्राइमर का इस्तेमाल करने से यह सुनिश्चित होता है कि आपके फाउंडेशन से चेहरे की रेडनेस नहीं दिखेगी।

    लिप, आईशैडो और लैश प्राइमर

    different types of primer

    आपको यह जानकर हैरानी होगी कि हमारे चेहरे के साथ ही लिप, आईशैडो और लैश प्राइमर भी होते हैं। 

    आईशैडो प्राइमर

    अगर आपकी पलकें ऑयली हैं तो आईशैडो प्राइमर आपकी पलकों को मैटीफाई करने में मदद करेगा और आपके आईशैडो को लंबे समय तक बनाए रखेगा। अपनी पलकों पर प्राइमर लगाने से यह सुनिश्चित होगा कि आपका आईलाइनर की स्मूथ एप्लिकेशन होगी और जल्दी से मिटेगा नहीं। 

    इसे भी पढ़ें : अपनी स्किन टाइप के आधार पर ऐसे चुनें सही प्राइमर

    लिप प्राइमर

    अगर आपको सूखे और फटे होंठों की शिकायत रहती है। लिक्विड लिपस्टिक लगाने के बाद भी होंठ रूखे हैं, तो लिप प्राइमर आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है। इस प्रकार का प्राइमर यह सुनिश्चित करेगा कि आपकी लिपस्टिक पूरे दिन चले और ट्रांसफर न हो। यह लिपस्टिक लगाने को भी आसान बनाता है क्योंकि यह लिपस्टिक को ब्लीडिंग से बचाता है। आप किसी भी रंग को, न्यूड से लेकर बोल्ड लिप्स तक, बिना इस बात की चिंता किए रॉक कर सकती हैं कि वह फीके पड़ जाएंगे।

    Recommended Video

    लैश प्राइमर

    आईलैश प्राइमर में सफेद रेशे होते हैं जो आपकी पलकों को कोट करते हैं। ये फाइबर आपकी पलकों को वॉल्यूम और लंबाई भी देते हैं। आप पहले आइलैश प्राइमर लगाने के बाद मस्कारा के कोट्स लगाएं। इससे पलके फुलर लगेंगी और आंखें सुंदर दिखेंगी।

    प्राइमर हमारी त्वचा के लिए जरूरी होता है। यह त्वचा पर एक बेस क्रिएट करके हमें एक फ्लॉलेस मेकअप लुक देता है। आप भी इन प्राइमर का इस्तेमाल अपनी जरूरत के हिसाब से कर सकती हैं। हमें उम्मीद है यह लेख आपको पसंद आया होगा। मेकअप से जुड़े ऐसे अन्य लेख पढ़ने के लिए विजिट करें हरजिंदगी।

     

    Image Credit: grove.co, nykaa, revlon, freepik

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।