मेकअप करने से पहले प्राइमर लगाना बेहद आवश्यक होता है। यह आपके चेहरे पर एक लेयर बनाता है और मेकअप के लिए सही बेस तैयार करता है। अगर आपको फ्लॉलेस मेकअप की चाह है, तो आपको प्राइमर जरूर लगाना चाहिए। एन्लार्ज्ड पोर्स, एक्सेस ऑयलीनेस और ड्राईनेस और बढ़ती उम्र के संकेत मेकअप को खराब दिखा सकते हैं, इसलिए प्राइमर लगाना जरूरी होता है, ताकि आपका बेस भी सही रहे।

इसी के साथ जरूरी है कि आप अपने स्किन टाइप के आधार पर मेकअप प्राइमर का चुनाव करें। सही तरह का प्राइमर आपके मेकअप को भी फ्लॉलेस दिखाएगा, इसलिए सही प्राइमर चुनने के टिप्स को जान लें।

अगर आपकी एक्ने-प्रोन स्किन है

primer for acne prone skin

एक्ने-प्रोन स्किन को अगर प्रोटेक्टेड नहीं रखा गया या हैवी मेकअप अप्लाई किया गया तो ब्रेकआउट्स के चांस ज्यादा रहते हैं। अगर आपकी त्वचा पर बहुत जल्दी ब्रेकआउट्स होते हैं, फिर आपको प्राइमर जरूर यूज करना चाहिए। प्राइमल चुनते वक्त आपको टी-ट्री ऑयल और चारकोल इंग्रीडिएंट्स देखने चाहिए। ऑयल फ्री प्राइमर चुनें क्योंकि एक्सेस ऑयल आपके पोर्स को बंद कर सकता है। साथ ही सिलिकॉन प्राइमर की जगह वाटर बेस्ड प्राइमर चुनें। एक ऐसा लाइट प्राइमर चुनें जो मैट की फिनिश दे, रेडनेस को कम करे और हाइड्रेट करने के साथ-साथ सन प्रोटेक्शन भी दे।

अगर आपकी नॉर्मल सिक्न है

अगर आपकी नॉर्मल स्किन है या टी-जोन ऑयली रहते है, तो यह बहुत बड़ा कंसर्न नहीं है और आप आसानी से ज्यादातर प्राइमर यूज भी कर सकती हैं। आप अपने टी जोन वाले एरिया पर मैटिफाइंग प्राइमर का इस्तेमाल कर सकती हैं और ड्राई नॉर्मल एरिया में हाइड्रेटिंग प्राइमर सबसे अच्छा काम करता है। कई एक्सपर्ट इस तरह की त्वचा के लिए बेक्का बैकलाइट प्राइमिंग फिल्टर जैसे ल्यूमिनस प्राइमर का उपयोग करना पसंद करते हैं। एक न्यूट्रल प्राइमर जो आपकी नॉर्मल स्किन के टेक्सचर को स्मूथ करे और आपके मेकअप को लॉन्ग लास्टिंग बनाए आपकी त्वचा पर अच्छे से काम कर सकता है।

इसे भी पढ़ें:मेकअप करने से पहले जरूरी है प्राइमर, जानें इसे सही से लगाने का तरीका

अगर आपकी ऑयली स्किन है

primers for oily skin

तैलीय त्वचा के लिए फेस प्राइमर की तलाश करते समय, आपको एक ऐसा प्राइमर खोजने की जरूरत है जो अतिरिक्त सीबम उत्पादन को नियंत्रित करे और आपकी त्वचा को मैट फ़िनिश दे। एक ऐसा प्राइमर चुनें जिसमें डाइमेथिकोन (सिलिकॉन-बेस्ड इंग्रीडिएंट) हो जो तेल उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह सिलिकॉन आपकी त्वचा को चिकना करने और इसे एक साफ फिनिश देने में मदद करेगा। साथ ही ऑयली और एक्ने-प्रोन स्किन वालों को नॉन-कॉमेडोजेनिक प्राइमर्स का चुनाव करें जो ब्रेकआउट्स और स्पॉट्स को रोकते हैं।

इसे भी पढ़ें:परफेक्ट और फ्लॉलेस मेकअप के लिए इन टिप्स और ट्रिक्स का रखें ध्यान

अगर आपकी ड्राई स्किन है

अगर आप रूखी त्वचा है, तो टाइटनेस और फ्लेकीनेस आपकी दो मुख्य चिंताएं हैं। ऐसी त्वचा को अच्छे हाइड्रेशन की जरूरत होती है। एक ऐसा प्राइमर चुनें जो सुपर हाइड्रेटिंग हो और आसानी से त्वचा में अब्सॉर्ब हो जाए। साथ ही अगर आप अपने फाउंडेशन को ड्यूवी लुक चाहते हैं तो उसमें थोड़ा सा हाइड्रेटिंग प्राइमर की ड्रॉप डालें और यूज करें। साथ ही ध्यान रखें कि प्राइमर स्किन को हाइड्रेट करे मगर हैवी न हो।

Recommended Video

अगर आपकी मैच्योर स्किन है

primer for mature skin

फाइन लाइन्स, झुर्रियां, रूखापन और पैचनेस अगर त्वचा पर हो तो मेकअप भी भद्दा लगता है। ऐसी त्वचा पर प्राइमर लगाना जरूरी हो जाता है। मैच्योर स्किन पर हाइलूरोनिक एसिड के साथ एक अच्छी गुणवत्ता वाला प्राइमर आदर्श है। अधिकांश प्राइमरों में दूसरी त्वचा की तरह काम करने के लिए किसी प्रकार का पॉलीमर और सिलिकॉन होता है-यह मेकअप को लॉन्ग लास्टिंग बनाता है। अगर आप चाहती हैं कि आपकी फाइन लाइन्स और झुर्रियों के बाद मेकअप फ्लॉलेस लगे तो प्राइमर सही होना बेहद जरूरी है।

अब आपको पता चल ही गया है कि आपका प्राइमर कैसा होना चाहिए। अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें। ब्यूटी से जुड़े ऐसे आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: freepik