परफ्यूम का इस्तेमाल हम सभी खुद को महकाने के लिए करते हैं। कुछ लड़कियों महिलाओं को तो परफ्यूम का बहुत ही शौक होता है। उनके पास उनके कॉस्मेटिक्स के अलावा परफ्यूम का भी बहुत अच्छा कलेक्शन देखने को मिलता है। जैसे लुक लोग महंगी गाड़ियों को खरीद अपना शौक पूरा करते हैं। उसी तरह परफ्यूम कलेक्शन भी कुछ लोगों की हॉबी होती है। अगर आप भी परफ्यूम की शौकीन हैं तो निश्चित ही आपने ड्रेस कलेक्शन की तरह परफ्यूम का भी कलेक्शन बनाया होगा। आपको परफ्यूम्स के ब्रांड और उनकी स्मेल की अच्छी नॉलिज भी होगी। लेकिन शायद आप परफ्यूम से जुड़े ये फैक्ट्स नहीं जानती होंगी। 

परफ्यूम स्मेल चेंज होती है

never knew about perfumes inside

जी हां, सही पढ़ा आपने। परफ्यूम तीन लेयर के कॉम्बिनेशन से बनता है। टॉप नोट, मिडिल नोट और बेस नोट ये परफ्यूम की तीन लेयर होती हैं। ये तीनो लेकर आपको अलग अलग तरह की खुशबू देते हैं। जब आप परफ्यूम लगाती हैं तो इसकी स्माइल अलग होती है, कुछ घंटों बाद यह बदल जाती है और पार्टी-फंक्शन ओवर होने तक यह अलग तरह होती है। 

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: पूरे दिन महकना चाहती हैं आप तो इन जगहों पर जरूर लगाएं परफ्यूम

स्पर्म व्हेल के excreta के यूज से भी बनता था परफ्यूम 

never knew about perfumes inside

जी हां आपको जानकर हैरानी होगी कि कुछ सालों पहले तक स्पर्म व्हेल के excreta को परफ्यूम बनाने के लिए यूज किया जाता था। स्पर्म व्हेल मछलियों की एक प्रजाति है। जिसकी excreta को परफ्यूम बनाने के लिए प्रयोग किया जाता था। क्योंकि यह पदार्थ सॉलिड मोम की तरह होता है। जो सालों तक समुन्द्र में पड़े रहकर खुशबूदार ठोस पदार्थ में बदल जाता है। इसकी कीमत करोड़ों रूपये में होती है। हालांकि अब जीव रक्षा के चलते इसका प्रयोग परफ्यूम में नहीं किया जाता। और इसकी जैसी खुशबु वाले परफ्यूम बनाने के लिए कुछ सिंथेटिक केमिकलों का यूज किया जाता है।  

रियल फ्लावर्स यूज नहीं होते 

परफ्यूम खरीदते समय आप अच्छी स्मेल वाला परफ्यूम ही चुनना चाहते हैं।  हम ज्यादातर परफ्यूम पैकिंग के बने फ्लावर को देख कर समझ लेते हैं कि यह रियल फ्लावर्स से बना है। लेकिन ऐसा नहीं है, क्योंकि अब रियल फ्लावर्स की जगह उनमें सिंथेटिक fragrances का इस्तेमाल किया जाता है। जिसकी वजह से ये परफ्यूम ज्यादा दिनों तक यूज किए जाए सकें। 

इसे भी पढ़ें: Perfume Day 2020: 500 से 2000 रुपए की कीमत में खरीदना है परफ्यूम, ये 10 ऑप्शन हो सकते हैं बेस्ट 

कोलतार भी यूज होते हैं परफ्यूम में

inside

हालांकि ज्यादातर परफ्यूम में की स्मेल फूलों जैसी महसूस होती है। लेकिन जो परफ्यूम मुख्य रूप से फूलों से तैयार होते हैं। उसमें कभी-कभी परफ्यूम बनने तक फूलों की स्मेल कम हो जाती है। जिसको पूरा करने के लिए इंडोल का यूज किया जाता है। इंडोल एक aromatic organic होता है जो कोल तार से प्राप्त होता है जिसका यूज परफ्यूम बनाने में किया जाता है। कोलतार को फ़िल्टर करके pure किया जाता है जो बाद में कपूर जैसी स्मेल देता है।   

ये वो बातें हैं जो शायद आपको आज तक मालूम नहीं थी। लेकिन न बातों का आपके इस शौक पर कोई कोई प्रभाव नहीं पड़ता। लेकिन हम जो चीज़ें अपनी लाइफ में यूज कर रहे हैं उनके बारे में पता होना भी एक अच्छी बात है। ताकि हम अपनी नॉलिज दूसरों को भी शेयर कर सकें।