दिल्ली की गर्मी को देखते हुए सुबह ऑफिस आने की जल्दी काफी परेशान कर देती है। भागते-दौड़ते ऑफिस पहुंचो तो एसी भी ठंडा नहीं लगता। इंद्र देव दिल्ली से कुछ परेशान हैं, लेकिन मुंबई पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान हैं। मुंबई पानी-पानी हो चुका है और बारिश है कि रुकने का नाम नहीं ले रही। 2015 तक मैं भी मुंबई में रही थी मायानगरी में रहने वाले हर इंसान को ये जरूर पता है कि वहां सिर्फ दो ही मौसम चलते हैं। एक गर्मी और दूसरा बारिश। मुंबई की बारिश जो पिछले कई सालों से तबाही मचा रही है। हर साल जुलाई में मुंबई की सड़कों पर गाड़ियां नहीं नाव चलाने की नौबत आ जाती है। हाल ही में एक चौंकाने वाली खबर पढ़ने को मिली अभी तक मुंबई में 21 लोगों की मौत बारिश से जुड़े हादसों में हो चुकी है। जहां एक ओर ये खबर बेहद दुखद थी वहीं दूसरी ओर मुंबई का एक ऐसा किस्सा याद आ गया जिसने मुझे डरा दिया था। 

2015 की बारिश में लोकल ट्रेन में फंसने और फिर पैदल 8 किलोमीटर चलकर ऑफिस पहुंचने का किस्सा। सड़कों पर पानी इतना भरा था कि अगर एक भी गड्ढे पर पैर पड़ता तो खुद को संभालना मुश्किल हो जाता। 40 मिनट के रास्ते को 3 घंटे बाद पूरा किया था। उस दिन कई लोगों ने मदद की थी वर्ना समय भी और लगता साथ ही चोट भी लग सकती थी। ये हाल है मुंबई का। वो मुंबई जो किसी भी हालत में रुकती नहीं है। अक्सर लोगों को बारिश के समय परेशानी होती है और उन्हें ये नहीं पता होता कि करना क्या है। अगर आप या आपका कोई जानने वाला इस तरह की मुश्किल में फंसा है तो उसे कुछ खास सुरक्षा टिप्स का ध्यान रखऩा होगा। 

1. टू-व्हीलर में ज्यादा ट्रैवल करने से बचें

अगर बात मुंबई की हो रही है तो सबसे अहम है ट्रैवल। मुंबई में लोगों को अपने घर से कई किलोमीटर दूर का सफर हर रोज़ करना होता है। रोजाना 50-100 किलोमीटर तक का सफर करते हैं। ऐसे में समस्या ये है कि जिन लोगों को कम दूरी पर जाना होता है वो लोग टू-व्हीलर का भी इस्तेमाल करते हैं। लेकिन बारिश के समय ये खतरनाक हो सकता है। मुंबई की सड़कों पर गड्ढे भी बहुत हैं और बारिश में सड़कें भरी होने के कारण दिखते नहीं है। टू-व्हीलर का इस्तेमाल मुंबई की बारिश में सही नहीं होगा। 

Mumbai rain travel

2. M indicator का इस्तेमाल करें

मुंबई की लाइफलाइन है लोकल ट्रेन और उसकी पूरी जानकारी रखता है M indicator। ये एप इतना कारगर है कि हर मिनट आपको ये बताता रहेगा कि किस जगह कौन सी ट्रेन है, कहां ट्रेन फंस गई है, कौन से स्टेशन से ज्यादा आसानी होगी, अगर अपना रूट नहीं लिया है तो किसी और रूट से कैसे जाएं आदि। इसमें बस, ऑटो जैसे साधनों की भी जानकारी मिल जाएगी। इसलिए अगर आप कहीं फंस गए हैं तो इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें- डिनर डेट को बनाना है स्पेशल, तो मुंबई की इन जगहों पर जरूर जाएं

3. वो सामान जिसे साथ रखना जरूरी है

मुंबई की बारिश में दो बातें ध्यान रखें पहली ये कि कुछ सुरक्षा गैजेट्स अपने साथ रखें और दूसरी ये कि उन्हें ठीक से कवर करें नहीं तो वो बारिश में भीग जाएंगे। टीजर टॉर्च जो सुरक्षा और अंधेरे में रोशनी दोनों देने का काम करेगा। इसी के साथ, एक पावरबैंक क्योंकि आपको ये नहीं पता होगा कि आप कहां फंस सकते हैं। इसके अलावा, अपने साथ वाटरप्रूफ पाउच जरूर रखें जिसमें मोबाइल और अन्य जरूरी सामान डाला जा सके। इसके अलावा, साथ में बैंडेड आदि रखें और साफ पानी की बोतल. घर में इमर्जेंसी लाइट और फर्स्ट एड पूरा तैयार रखें।

Mumbai rains security

4. कैश का ध्यान रखें

मुंबई की बारिश में अगर साथ बहुत सारा कैश लेकर चल रहे हैं तो ये गलत होगा। इससे बचें। बारिश में कितनी भी कोशिश कर लें भीग ही जाएंगे ऐसे में अगर वाटरप्रूफ बटुआ है तो भी उसमें काफी समस्या हो सकती है। बहुत ज्यादा कैश लेकर चलना सही नहीं होगा। हां, थोड़ा जरूर रखें क्योंकि बारिश में हर जगह कार्ड का इस्तेमाल नहीं हो पाएगा। अगर दिन का खर्च 500 रुपए है तो 600 तक कैश रखें उससे ज्यादा नहीं।

5. लोकल ट्रेन्स पर निर्भर रहना गलती होगी 

मुंबई की लाइफलाइन लोकल पर बारिश के समय निर्भर रहना गलती होगी। लोकल ट्रेन का कोई भरोसा नहीं रहता है और ऐसे में बात बिगड़ सकती है। साथ ही, मुंबई लोकल बारिश में और भी ज्यादा खतरनाक हो जाती है। इसलिए न तो उसे दौड़कर पकड़ें न ही दरवाज़े पर लटकने की कोशिश करें। 

Mumbai rain local train

6. इन एप्स के इस्तेमाल से मुश्किल में मांग सकते हैं मदद

Pratisaad-Ask, Police Mitra, Vahanchoritakrar और Railway helpline एप तो महाराष्ट्र पुलिस द्वारा लॉन्च किए गए एप्स हैं। इसके अलावा, Safetipin और Raksha जैसे एप्स महिलाओं की सुरक्षा के लिए हैं। अगर कहीं भी फंस जाएं तो इनका इस्तेमाल कर सकते हैं। 

7. सुमद्र के पास ज्यादा न जाएं, हाई टाइड से बचें

बारिश में गेटवे ऑफ इंडिया, जूहू बीच, मरीन ड्राइव पर मस्ती करना अच्छा लग सकता है, लेकिन इस समय समझा नहीं जा सकता कि जानें कब हाई टाइड आ जाए। या बारिश तेज़ हो जाए। ऐसे समय में फिसलन भी हो जाती है और इसलिए बेहतर है कि आप पानी वाली जगहों से दूर रहें। 

8. घर में चेक कर लें कि कहीं इलेक्ट्रिक वायर तो नहीं छूटे हुए

घर में ये जरूर जांच लें कि कहीं कोई इलेक्ट्रिक वायर छूटा हुआ तो नहीं है। अक्सर घरों में भी पानी घुस जाता है और इसलिए घर में करेंट फैलने का खतरा होता है। 

इसे जरूर पढ़ें- मुंबई की धड़कन कही जाने वाली 6 स्पेशल स्ट्रीट फूडस, जानें इनके बारे में

9. फुट वेयर का ध्यान रखें

बारिश के समय ऐसे जूते बिलकुल न पहने जिससे फिसलने का जरा भी खतरा हो। क्रॉक्स आदि बेहतर हो सकता है। अगर फॉर्मल पहनने भी हैं तो सड़क पर निकलते समय कंफर्टेबल जूते पहनें और फॉर्मल बैग में रख लें। 

10. अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग के पास न जाएं

मुंबई में बारिश के समय अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग काफी खतरनाक हो जाती हैं और ऐसे में दीवार गिरने या बिल्डिंग के किसी हिस्से को नुकसान पहुंचने का बड़ा खतरा होता है। बेहतर है कि उससे दूर ही रहें।