यह तो आप सब जानते ही होंगे कि हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस (world environment day) मनाया जाता है। हर साल की तरह इस साल भी इस दिन की एक ख़ास थीम है, और वह है ‘Beat Plastic Pollution’ और इस थीम को होस्ट कर रहा है हमारा भारत!

आपको बता दें कि आम जनता के अलावा प्लास्टिक बैन से छोटे पर्दे की अभिनेत्रियां भी बहुत खुश हैं। इस बारे में हमने टीवी इंडस्ट्री की कई अभिनेत्रियों से बात की और सभी का कहना है कि प्लास्टिक बैन तो सालों पहले ही हो जाना चाहिए था। आइए जानते हैं और क्या-क्या कहा इन अभिनेत्रियों ने-

tv actresses talking about plastic bans on world environment day ()

रूही चतुर्वेदी

“मैं कभी प्लास्टिक बैग इस्तेमाल नहीं करती। मेरे घर पर भी मैं सभी को कपड़े के बने बैग्स का इस्तेमाल करने के लिए कहती हूँ। प्लास्टिक बैन तो सालों पहले हो जाना चाहिए था। मैं तो स्ट्रॉ भी इस्तेमाल नहीं करती, इसके बदले मेरे पास अपना एक स्टील का स्ट्रॉ है। सेट्स पर भी मैं Disposable कप्स और प्लेट्स नहीं लेती, मेरे पास मेरे अपने बर्तन होते हैं।”

tv actresses talking about plastic bans on world environment day ()

शीबा

“मैंने अपने घर पर प्लास्टिक को कई सालों पहले ही बैन कर दिया था। मुझे प्लास्टिक बैग्स बिल्कुल पसंद नहीं हैं। मैं कई बार स्ट्रीट एनिमल्स को कूड़े के ढेर से इन प्लास्टिक बैग्स को खाते हुए देखा है, यह देखकर मुझे बहुत दुःख होता है।”

काजोल श्रीवास्तव

“मुझे प्लास्टिक बैग्स कभी पसंद नहीं थे, मैंने हमेशा पेपर बैग्स या कपड़े से बने बैग्स का ही इस्तेमाल किया है। जो भी चीज़ पर्यावरण के लिए नुकसानदायक है, मैं वो इस्तेमाल नहीं करती। मैं फेसवॉश और स्क्रब भी इस्तेमाल नहीं करती क्यूंकि इनमें प्लास्टिक से बने माइक्रो फाइबर होते हैं। हमारी वजह से जानवर प्लास्टिक बैग्स खा जाते हैं और इनमें से कई मर भी जाते हैं। अगर आप गौर करें तो यह प्लास्टिक घूम फिर कर हमारे पास ही आ रहा है और हम भी इसे खा रहे हैं। गाय कूड़े से निकला प्लास्टिक खाती है और हम उसका दूध पीते हैं। यह एक धीमा ज़हर है जो हम ही बना रहे हैं और हम ही खा रहे हैं।”

tv actresses talking about plastic bans on world environment day ()

जैस्मिन भसीन

“जब अन्य देश प्लास्टिक बैन कर रहे थे, हमें भी तब ही कर देना चाहिए था। मैं बहुत खुश हूँ कि अब जाकर ही सही हमारी सरकार ने इसे बैन करने का फैसला ले लिया है। हमसे कहीं ज्यादा छोटा देश बांग्लादेश जब इकोसिस्टम को सुधारने में इतना कुछ कर सकता है तो हमें यह फैसला लेने में 16 साल क्यों लगे? मैंने तो हमेशा ही नेचुरल प्रोडक्ट का इस्तेमाल किया है। मेरे पास कपड़े के और जूट के बैग्स हैं, जिन्हें शॉपिंग के समय इस्तेमाल किया जा सकता है। इन्हें फिर से रीसायकल भी किया जा सकता है। 

Recommended Video