30 मई से क्रिकेट का सबसे बड़ा फेस्टिवल यानी ‘क्रिकेट विश्व कप 2019’ शुरू हो चुका है। क्रिकेट प्रेमियों के लिए अगले दो महीने बेहद रोमांचक होने वाले हैं। ऐसा कहा जा सकता ‘क्रिकेट विश्व कप’ क्रिकेट की दुनिया का महाकुंभ है। क्रिकेट विश्व कप का इंतजार बेसब्री से कर रहे क्रिकेट प्रेमियों के साथ-साथ यह महाकुंभ नॉन क्रिकेट लवर्स को भी खूब भाता है। दरअसल, इस क्रिकेट महाकुंभ में खेल के अलावा, इंटरटेनमेंट, हिस्ट्री और रोमांच भी भरा होता है। इसलिए ‘क्रिकेट विश्व कप’ को हर कोई देखना चाहता है। वैसे इस बार ‘क्रिकेट विश्व कप 2019’ में किसकी जीत और किसकी हार होने वाली है इसका अनुमान लगाना जल्दबाजी होगी मगर, हम आपको आज बीते वर्षां में हुए ‘क्रिकेट विश्व कप’ से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्य बताएंगे जो आपके होश उड़ा देंगे।   

 इसे जरूर पढ़ें:ICC World Cup 2019: शिखर धवन की पत्नी आयशा धवन के बारे में ये बातें नहीं जानती होंगी आप

ICC World Cup  India Matches

  • भले ही आजकल होने वाले वर्ल्ड कप में 14 टीमों के बीच खेल खेला जाता हो, मगर सबसे पहला वर्ल्ड कप वर्ष 1975 में हुआ था और तब आठ टीमों के बीच में कुल 15 मैच हुए थे। आपको यह जान कर भी हैरानी होगी कि पहला क्रिकेट विश्व कप पहले इंटरनैशनल वन डे मैच के आयोजन के ठीक 4 साल बाद ही आयोजित किया गया था। 
  • सबसे पहले विश्व कप में खेले गए मैचों में 60 ओवर हुआ करते थे। इतना ही नहीं सभी टीमों के खिलाडि़यों की जर्सी भी एक जैसी सफेद रंग की ही होती थी। मगर 1987 में खेले गए वर्ल्ड कप में पहली बार ओवरों की संख्या घटा कर 50 की गई। इस वर्ल्ड कप को भारत और पाकिस्तान ने मिल कर आयोजित किया था। ऐसा इसलिए किया गया था क्योंकि भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों में दिन जल्दी ढल जाता है और अंधेरे में क्रिकेट खेलने में दिक्कत आती थी। 
  • पहले 3 विश्व कप का आयोजन इंग्लैंड में हुआ था। इन विश्व कप में 1975 और 1979 का विश्व कप वेस्ट इंडीज ने अपने नाम लिखाया था और सन 1983 में खेले गए विश्व कप में भारतीय टीम विजेता रही थी। इंग्लैंड ही ऐसा पहला देश है जो अब तक 4 बार सन 1975,1979,1983,1999 में अपनी धरती पर विश्व कप का आयोजन कर चुका है और वर्ष 2019 में एक बार फिर जब विश्व कप की मेजबानी इंग्लैंड करेगा तो यह संख्या 5 हो जाएगी। 
ICC World Cup  India Matches Dates
  • वर्ल्ड कप में न्यूट्रल अंपायर को वर्ष 1987 में पहली बार खड़ा किया था। वहीं वर्ष 1992 में पहली बार वर्ल्ड कप में तीसरे अंपायर की जरूरत पड़ी थी। इस मैच में सचिन तेंदुलकर ऐसे पहले खिलाड़ी थे जिन्हें तीसरे अंपायर के निर्णय से रन आउट करार दिया गया था। आपको बता दें कि अब तक सचिन तेंदुलकर वर्ल्ड कप में 8 बार मैन ऑफ द मैच बन चुके हैं और यह खिताब अभी किसी और खिलाड़ी को नहीं मिला है। 
  • विश्व कप 1996 में पहली बार ऐसा हुआ था, जब किसी मैच को अधूरा छोड़ दिया गया हो। इसका कारण था कि भारत और श्रीलंका के बीच मैच हो रहा था। यह मैच कोलकाता में हो रहा था और भारत को मैच हारता देख दर्शकों के एक समूह ने ग्राउंड पर मौजूद खिलाडि़यों पर प्लस्टिक की बोतलें फेंकना शुरू कर दिया था। 
  • 2011 का वर्ल्ड कप भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश के अलावा पाकिस्तान में संयुक्त रूप से होना था। मगर, 2009 में श्रीलंका की टीम पर हुए हमले के बाद ICC  ने पाकिस्तान से मेजबानी छीन ली। आपको बता दें कि यह विश्व कप इस लिए भी खास था क्यों कि इस विश्व कप में युवराज सिंह लगातार 4 मैचों में ‘मैन ऑफ द मैच’ रहे थे।